ब्रेकिंग न्यूज़

जानवरों की मौत का कारण बन रहा प्लास्टिक

नई दिल्ली, प्लास्टिक पर्यावरण के लिए सबसे बड़ा खतरा बनता जा रहा है। पर्यावरण के साथ ही प्लास्टिक जानवरों में कैंसर को भी जन्म दे रहा है। सर्वे में कई जानवरों की मौत की वजह पॉलीथीन पाया गया। एक गाय के पेट से तो 110 किलो पॉलीथीन निकला था। पॉलीथीन की थैलियां सामान लाने-ले जाने में तो सहायक होती ही हैं, कूड़े फेंकने में भी सुविधाजन होती हैं। इसीलिए कूड़े के ढेर में पॉलीथीन के पैकेट बाकी कूड़े जितने ही दिखते हैं। इस कूड़े में खाने की तलाश में आने वाले जानवर, ख़ाससकर आवारा गाय-बैल खाद्य पदार्थों के साथ यह पॉलीथीन भी खा जाते हैं। गाय और भैंस के दूध, गोबर और मूत्र में प्लास्टिक के कण पाए जा रहे हैं जो इंसान के लिए तो हानिकारक हैं ही, जानवरों में कैंसर को भी बढ़ावा दे रहे हैं। सर्वे में पता चला है कि रामनगर में कई जानवरों की मौत प्लास्टिक के सेवन से हुई है. कई गाय पालकों को गाय की मौत से काफी नुकसान भी हुआ है.
कुछ जानवर में तो प्लास्टिक शौच के रास्ते बाहर भी नहीं निकल पाता और उसे पचा पाना संभव ही नहीं है। ऐसे में यह प्लास्टिक धीरे-धीरे उनकी जान ले लेता है. लेकिन घोड़े की प्रजाति के जानवर और गोवंश जो इसे शौच के साथ बाहर निकाल देते हैं उनमें भी यह प्लास्टिक पाचन क्रिया के दौरान कुछ हानिकारक तत्व छोड़ देता है जो हमें गाय के दूध में भी मिलते है।. अब तक हम पर्यावरण की रक्षा के लिए पॉलीथीन पर प्रतिबंध की बात करते रहे हैं तो ध्यान रहें कोई भी पॉलीथीन की थैली कचरे में नहीं फेंकें।

Print Friendly, PDF & Email
Translate »