ब्रेकिंग न्यूज़

देशभरके हिंदुओं की हत्याओंकी जांच हेतु सीबीआय का ‘विशेष जांच दल’ गठित करें

विजय न्यूज़ ब्यूरो
नई दिल्ली। कल जम्मूमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघके प्रांत सहसेवक प्रमुख चंद्रकांत शर्मा (आयु 52 वर्ष) की उनके सुरक्षा रक्षक के साथ और छत्तीसगड राज्य में भाजपाके विधायक भीमा मंडवी की निर्मम हत्या की गयी । इससे पूर्व भी केरल, तामिलनाडू, कर्नाटक, आंध्र, बंगाल, पंजाब एवं मध्य प्रदेश के काँग्रेस, वामपंथी एवं तृणमूल शासित राज्योंमें हिंदुंओंको चुनचुनकर मारे जा रहा है । हिंदुंओंकी हत्या के उपरांत वहा की काँग्रेसी और वामपंथी सरकार ऐसे प्रकरणकी निःपक्ष तथा कड़ी जांच नहीं करती ऐसा आज तक का अनुभव है । इन राज्योंमें ‘पॉप्युलर फँट’से लेकर अन्य जिहादी तथा वामपंथी विचारधाराके उग्रवादी संघटनोंका हौसला बढनेसे हत्या की श्रृंखला निरंतर चल रहा है । इन राज्योंमें हिंदू स्वयं के प्राणो की रक्षा के लिए डरडर कर जी रहे है । देशभरमें हिंदू नेताओंकी हो रही हत्या यह एक व्यापक तथा सुनियोजित षड़यंत्र का अंग होने की संभावना स्पष्ट हो रही है । इसलिए केंद्र सरकारने इसमें हस्तक्षेप कर देशभरमें चल रही हिंदुंओंकी हत्याओंके पिछे कौन है, इनका ‘मास्टरमाईंड’ कौन है, इसकी जांच कर इससे जुड़े सभी दोषीआेंपर कड़ी कारवाई करने के लिए सीबीआय का ‘विशेष जांच दल’ गठित करें, ऐसी मांग हिंदू जनजागृति समितिने की है ।
बारबार सर्वधर्मसमभाव एवं समानता की रट लगानेवाले काँग्रेसी, वामपंथी, आधुनिकतावादी, लेखक, फिल्मोंके कलाकार कथित आधुनितावादीआेंकी हत्या होनेपर सालोसाल छाती पिटते रहते है । पर इतनी सारे हिंदुंओंकी हत्याएं होने के उपरांतभी वे चुप्पी साधे क्यों बैठे है ? ऐसा प्रश्‍न उपस्थित कर समितिनें आधुनिकतावादिआें का दोगलापन उजागर किया।
केरलमें कम्युनिस्ट नेता के. मणीने एक भरी सभामें कहा था की, ‘हमने सत्ता प्राप्ती हेतु 250 हिंदुंओं की हत्या की।’ मध्य प्रदेशमें काँग्रेसकी सत्ता आतेही चार दिनोंमें चार हिंदुंओंकी हत्या हुई । आज भी काँग्रेस शासित छत्तीसगढ में सीधे भाजपाके विधायक की हत्या की गयी । यह स्थिति गंभीर होने के साथसाथही हिंदूविरोधी सरकार सत्तामें आनेसें हिंदू नेताआें पर किस तरह हमले किये जाते है, यह स्पष्ट होता है । इस कारण ऐसे राज्यके सरकारोसें न्याय की अपेक्षा हम नहीं कर सकते । अत: केंद्र सरकार ऐसे राज्योंमें जिनपर आक्रमण होने का संभावना है ऐसे सभी हिंदू नेता, संत और कार्यकर्ताआेंको सुरक्षा प्रदान करे । साथही अब तक हत्या हुए सभी हिंदुंओंको न्याय प्रदान करने हेतु उनकी न्यायालयीन कार्यवाही अन्य राज्योंमेें करे । ऐसीभी मांग समितिने की है ।

Print Friendly, PDF & Email
Translate »