National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

विश्‍वकल्याणकारी ‘हिन्दू राष्ट्र’ का संकल्प करने हिन्दू संगठन एकजुट

15 सितंबर को आगरा में हिन्दू राष्ट्र परिसंवाद

विजय न्यूज़ ब्यूरो
आगरा। अनुच्छेद 370 हटाकर विद्यमान केंद्र शासन ने पुरुषार्थ दिखाया है, ऐसा राष्ट्रवादी शासन ही देश में आनेवाले काल में संवैधानिक दृष्टिकोण से भारत को हिंदु राष्ट्र बना सकता है, ऐसा विश्वास आज आगरा ‘हिंदुराष्ट्र परिसंवाद’ में एकजुट हुए हिंदुत्ववादी संगठनों ने विश्वास प्रकट किया । इंदिरा गांधी ने 1976 में आपातकाल में विपक्ष को कारावास में रखकर, डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के मूल संविधान में असंवैधानिक पद्धति से परिवर्तन कर, ‘सेक्युलर’ शब्द जोडा । तब से भारत में ‘सेक्युलर’वाद का उपयोग केवल अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण एवं अपनी मतपेटी सुरक्षित करने के लिए किया गया है । संविधान में सभी नागरिकों को समान अधिकार देने के विषय में स्पष्ट भूमिका होते हुए भी देश में ‘समान नागरिक कानून’ लागू नहीं किया जाता । मस्जिद-चर्च के लिए स्वतंत्र कानून बनानेवाली ‘सेक्युलर’ सरकार हिन्दुओं के मंदिरों पर नियंत्रण कर, सरकार की इच्छानुसार हिन्दुओं की देवनिधि का उपयोग कर रही है ।

रिवर कन्नेक्ट अभियान के पर्यावरणकारी ई एन टी सर्जन डॉ देवाशीष भट्टाचार्य जी , हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक , सद्गुरु डॉ चारूदत्त पिंगले जी और भारत स्वाभीमान के अधि देवेंद्र सिंह ढाकरे जी

शबरीमला जैसे स्थानों पर हिन्दुआें की प्राचीन परंपराएं भी नष्ट करने का प्रयास किया जा रहा है । सौभाग्य से देश के राजनीतिक दलों को अब बहुसंख्यक हिन्दू समाज का महत्त्व समझ में आने लगा है । ‘सेक्युलर’वादी नेता अब मंदिरों में, हिन्दुआें के कार्यक्रमों में दिखाई देने लगे हैं । उसी प्रकार मेघालय उच्च न्यायालय के न्यायाधीश ने भी ‘विभाजन के उपरांत भारत को हिन्दू राष्ट्र बनना चाहिए था’, ऐसा मत अपने निर्णय में व्यक्त किया है । इसी दृष्टि से हिन्दू समाज को अपनी शक्ति का बोध कराकर, संगठित रूप से हिन्दू राष्ट्र साकार करने हेतु आगे के कार्य की दिशा निश्‍चित करने हेतु हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से आगरा में इस वर्ष 15 सितंबर, 2019 को D-73 (प्रथम तल ) श्रीराम मंदिर चौक के पास , कमला नगर, आगरा में हिन्दू राष्ट्र परिसंवाद का आयोजित किया गया ।
इस परिसंवाद मे जनसंख्या विस्फोट और जनसंख्या नियंत्रण कानून की आवश्यक्ता ,मंदिर संस्कृति रक्षा के प्रयास ,आगरा में बाग्लादेशी व रोहिग्या घुसपैठियों की समस्या , यमुना नदी – संस्कृति की रक्षा, आदि हिन्दुओं की पिछले अनेक वर्षों से प्रलंबित समस्याओं पर विचारमंथन किया गया ।
परिसंवाद में रिवर कन्नेक्ट अभियान के पर्यावरणकारी ई एन टी सर्जन डॉ देवाशीष भट्टाचार्य जी , भारत स्वाभीमान के अधि देवेंद्र सिंह ढाकरे जी , हिन्दू युवा वाहिनी के अधि पीयूष शरण जी , श्री तरुण सिंह जी; सेव आर फ्यूचर के श्री मनीष शर्मा जी ; सनातन संस्था के धर्मप्रचारक , श्री अभय वर्तक जी , हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक , सद्गुरु डॉ चारूदत्त पिंगले जी , समिति के पंजाब और हरियाणा के समन्वयक श्री कार्तिक सालुंके जी इत्यादी मान्यवर उपस्थित थे।

बाएं से – सनातन संस्था के धर्मप्रचारक , श्री अभय वर्तक जी , हिन्दू युवा वाहिनी के अधि पीयूष शरण जी , हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक , सद्गुरु डॉ चारूदत्त पिंगले जी और भारत स्वाभीमान के अधि देवेंद्र सिंह ढाकरे जी

बाएं से – हिन्दू जनजागृति समिति के पंजाब और हरियाणा के समन्वयक श्री कार्तिक सालुंके जी और रिवर कन्नेक्ट अभियान के पर्यावरणकारी ई एन टी सर्जन डॉ देवाशीष भट्टाचार्य जी

बाएं से – परिसंवाद में उपस्थित श्रोतागण

बाएं से – सनातन संस्था की दिल्ली प्रवक्ता कु कृतिका खत्री , हिन्दू युवा वाहिनी के श्री तरुण सिंह जी, हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक , सद्गुरु डॉ चारूदत्त पिंगले जी, सेव आर फ्यूचर के श्री मनीष शर्मा जी, और सनातन संस्था के धर्मप्रचारक , श्री अभय वर्तक जी

रिवर कन्नेक्ट अभियान के पर्यावरणकारी ई एन टी सर्जन डॉ देवाशीष भट्टाचार्य जी , हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक , सद्गुरु डॉ चारूदत्त पिंगले जी और भारत स्वाभीमान के अधि देवेंद्र सिंह ढाकरे जी

 

 

Print Friendly, PDF & Email
Translate »