National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

संगीत का पुनर्जागरण अपेक्षा म्यूजिक के नए गाने के साथ “रघुपति राघव राजा राम”, अनुराधा पौडवाल और डीजे शेज़्वूद के साथ

दिनेश जाला
महात्मा गाँधी की १५० वीं जयंती पर, अपेक्षा म्यूजिक के अजय जैस्वाल और अपेक्षा जैस्वाल के साथ पद्म श्री अनुराधा पौडवाल और प्रसिद्ध डीजे और संगीतकार डीजे शेज़्वूद गांधी जयंती के दिन “रघुपति राघव” महात्मा गाँधी द्वारा पसंद किए जाने वाले शानदार गाने को लॉन्च किया। देश और विदेश मैं “रघुपति राघव” भजन बहुत प्रशिद है, “रघुपति राघव” हिंदू पौराणिक कथाओं में एक लोकप्रिय भजन है, यह भजन को राम धुन के रूप में भी जाना जाता है।

  • Shivendra during the music launch of RAGHUPATI RAGHAV RAJARAM

जो सुर डीजे शेज़्वूद ने रचाया है उसमें बांसुरी, संतूर, गिटार और ड्रमों की नवीनता है इससे जप की कला को बढ़ाने के लिए और युवाओं के साथ जुड़ने के लिए नई ध्वनि को बनाया गया है। प्रेरणादायक, ध्यान देने वाला गीत निश्चित रूप से सभी के मन के राग को प्रभावित किया और फिर से इतिहास का निर्माण किया ।
सुरो की रानी अनुराधा पौडवाल द्वारा गीत प्रस्तुत किया गया है। राजेश खेरा, शांतिप्रिया, राकेश पॉल, हंसा सिंह, साबिर खान और शिवेंद्र ओम सैनीयाल पर फिल्माया गया है।
गीत का पुन: संस्करण सभी को उत्तेजित किया, दांडी मार्च और महात्मा गांधी के बलिदान के बारे में याद दिलाया।
अपेक्षा म्यूजिक के अजय जसवाल और अपेक्षा जसवाल कहते हैं, “गांधी जयंती से बेहतर दिन महात्मा गांधी जी को याद करने के लिए और कोई नहीं हो सकता, उनके जन्म के १५० वें साल के जश्न पर उनके लोकप्रिय गीत को याद करने से बेहतर और क्या हो सकता है। हम देश की संस्कृति को पुनर्जीवित और विकसित करने की इच्छा रखते हैं।”
डीजे शेज़्वूद का कहना है, “रघुपति राघव एक भक्ति गीत है जो सभी को पसंद है। भजन “सीता राम” की उपस्थिति की पुष्टि करता है उनकी प्रशंसा करते हुए, इस प्रकार समापन: ईश्वर और अल्लाह आपके नाम हैं / ईश्वर सभी को सद्बुद्धि दे। यदि राष्ट्रपिता जाति और धर्म के विविधीकरण में विश्वास नहीं करते तो हमें क्यों करना चाहिए ! महात्मा गाँधी जी के जन्मदिन पर न केवल उनके भजन को पुनर्जीवित किया जाता है बल्कि उनके उपदेशों का पालन भी किया जाता है ” आगे बताते हुए डीजे शेज़्वूद कहते है “यह अब तक की मेरी पसंदीदा रचनाओं में से एक है। गीत के सार को सही ठहराने का दबाव था, मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे ”
अनुराधा पौडवाल का कहना हैं, ” “गांधी जयंती पर इस तरह के प्रतिष्ठित गीत और धुन को रिकॉर्ड करना और रिकॉर्ड करके इसे लॉन्च करना मेरे लिए एक सम्मान था। मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे काफी पसंद करेंगे ”
यह गीत सभी के साथ मिला कर बनाया गया है ताकि इस साल महात्मा गाँधी जी के १५० वें जन्म दिन पर गाँधी जी को लोकप्रिय गीत “रघुपति राघव” भजन से याद किया जाये।

Print Friendly, PDF & Email
Translate »