National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने डीयू के 25 छात्रों को स्कॉलरशिप देकर प्रोत्साहित किया

विजय न्यूज़ ब्यूरो
नई दिल्ली। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए निम्न सामाजिक-आर्थिक प्रष्ठभूमि वाले छात्रों को प्रोत्साहित करने के लिए चाणक्य आईएएस अकादमी के निदेशक, सक्सेस गुरू एके मिश्रा ने दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के 25 छात्रों को स्कॉलरशिप के साथ सम्मानित किया।
डीयू में हाल ही में आयोजित परीक्षा में डीयूएसयू (दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ) द्वारा चुने गए शीर्ष 25 छात्रों को अपने पसंद के करियर को आगे बढ़ाने के लिए स्कॉलरशिप मिली।

  • Success Guru AK Mishra motivates 25 DU students with Scholarship'.II सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने डीयू के 25 छात्रों को स्कॉलरशिप देकर प्रोत्साहित किया

पूर्वांचल स्पंदन, डीयूएसयू की एक पहल जो पूर्वांचल क्षेत्र (बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़) के छात्रों को एक साथ काम करने और सफलता पाने में मदद करती है।
दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष, मनोज तिवारी और डीयूएसयू के अध्यक्ष, शक्ति सिंह की भव्य उपस्थिति में एबीवीपी द्वारा आयोजित इस सम्मान समारोह का आयोजन गेस्ट ऑफ ऑनर, सक्सेस गुरु एके मिश्रा के साथ किया गया था।
चाणक्य आईएएस अकादमी के संस्थापक और प्रबंध निदेशक, सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने बताया कि, “अधिकांश छात्र वित्तीय समस्याओं के कारण अपने सपने को पूरा नहीं कर पाते हैं। चाणक्य आईएएस अकादमी को खुशी है कि वह स्कॉलरशिप के जरिए देश की ऐसी छुपी हुई प्रतिभाओं की मदद कर पाता है, जो सही मार्गदर्शन के साथ भविष्य में चमत्कार कर सकते हैं। यह कदम न सिर्फ छात्रों के विकास में मदद करेगा बल्कि उनके सपने को पूरा करने में भी पूरी मदद करेगा। योग्य छात्रों की मदद करना देश की प्रगति में एक महत्वपूर्ण योगदान होगा।”
सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए छात्रों को ट्रेनिंग देने के अलावा, आईएएस अकादमी प्रतिभाशाली छात्रों के समग्र विकास पर ध्यान देता है। इस अकादमी ने छात्रों के बेहतर भविष्य के लिए नए बदलाव लाने में कई अहम कदम उठाए हैं। इस अकादमी ने हमेशा सामाजिक विकास की तरफ काम किया है जिससे देश में छुपी प्रतिभाओं को नई पहचान मिल सके। आदिवासी युवाओं के लिए रोजगार की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए उनका हालिया अग्रीमेंट यह साबित करता है कि वे सामाजिक रूप से एक जिम्मेदार प्राधिकार बन चुके हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Translate »