ब्रेकिंग न्यूज़

Category: साहित्य

Total 73 Posts

कविता : तेरी बंसी कान्हा

बंसी तेरी मधुर है कान्हा पर जानें छेड़े कौन सी तान? बजती जब जब मुरली प्यारी तन से निकल जात हैं प्राण। गैया तेरी नांचे छमछम मेघ उमड़ घुमड़ कर

हिन्दुस्तान के प्रख्यात साहित्यकार शायर मंगल नसीम को भारतेंदु हरिश्चंद 2017 से सम्मानित किया गया

विजय न्यूज ब्यूरो नई दिल्ली। युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच ने अपना चतुर्थ अखिल भारतीय साहित्य महोत्सव रविवार की सुबह प्रातः 9 बजे से पी.के.रोड , रेलवे अधिकारी क्लब ,नई दिल्ली-1

कविता : मौन व्रत की जगह नहीं हैं, कवियों के संस्कारों में

क्या लिख दूँ ऐ भारत मैं, तस्वीर तेरी अल्फाजों में भूखे नंगे लोग मिलेगें हर कोने गलियारों में सारी दुनिया मौन रहे पर हमकों तो कहना होगा मौन व्रत की

युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच के चतुर्थ वार्षिक उत्सव में होंगे कई बड़े साहित्यक सम्मान

संजय कुमार गिरि नई दिल्ली. युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच अपना चतुर्थ वार्षिक उत्सव एवं साहित्यकार समारोह रविवार 19 नवम्बर (रविवार) 2017 की सुबह समय -प्रातः 9 बजे से पी.के.रोड ,रेलवे

कविता : मेरे अनुज

लाड़,दुलार, मनुहार और फिर कभी-कभी तकरार के बीच समय ठण्ड की गुनगुनी धूप सा यादों की सुराही में सिमट गया अब तो समझदारी के ताने-बाने बुनते हुए कभी उलझते हैं

व्यंग्य : पत्रकारिता में आये परिवर्तन

भारत की पत्रकारिता में इन दिनों द्रुतगामी परिवर्तन आये है। आजादी से पहले पत्रकार सच छापते थे, आजादी के बाद खबरें छापने लग गये। और आजकल पत्रकार दोनों से इत्तर

लघुकथा : “वो पल भर की मुलाकात”

आप दुनिया के किसी भी रास्ते से गुजर जाइये, आपको कुछ ऐसे लोग (भिक्षुक) अवश्य मिल जायेंगे जो अपनी मजबूरियों का वास्ता देकर आपसे आर्थिक मदद चाहते है। इनमे से

कविता : “मैं वही आकाश हूँ”

आह्वान हूँ मैं कर्म का, मैं धर्म का आगाज हूँ हैं अनन्त ऊचाँई जिसकी, मैं वही आकाश हूँ। घोट दी आवाज मेरी, दौर वो कोई ओर था। आजमाने मैं चली

व्यंग्य : माता – पिता बना रहें हैं . …….मिक्स वेज

आज विद्यालय में प्रत्येक विदयार्थियों के माता – पिता को आमंत्रित किया गया था । मैं भी येन-केन प्रकारेण काम-काज निपटा कर विद्यालय जा पहुँची और मुझे देख कर ऐसा

कविता : लांघ कर अब तो आना होगा, कागज की दीवारों को

जंग नहीं हम लगने देगे, भारत की तलवारो को लांघ कर अब तो आना होगा, कागज की दीवारों को जो देखेगा स्वप्न यहाँ वो अपनी जिम्मेदारी पर मौन बना इल्जाम

माता हरबंस कौर के 11 वीं स्मृति दिवस पर शानदार कवि सम्मेलन

मुख्य अतिथि श्री विजेन्द्र गुप्ता विधायक एवं नेता प्रतिपक्ष दिल्ली विधान सभा ने सभी कवियों को सम्मनित किया संजय कुमार गिरि बाहरी दिल्ली | माता हरबंस कौर के 11 वीं

14 नवंबर, बाल दिवस : बच्चों के चाचा-जवाहर लाल नेहरू

जवाहर लाल नेहरू के128वीं जन्म दिवस पर विशेष बच्चें हर देश काभविष्यऔर उसकी तस्वीर होते हैं। बच्चे ही किसी देश के आने वाले भविष्य को तैयारकरते हैं। लेकिन भारत जैसे

ट्रू मीडिया ने अपना 7 वां वार्षिक उत्सव मनाया

संजय कुमार गिरि नई दिल्ली| ट्रू मीडिया ग्रुप ने 12 नवंबर 2017 को श्री गोवर्धन विद्या निकेतन में अपना सातवाँ वार्षिकोत्सव मनाया, जिसमें दिल्ली के उपमुख्यमंत्री के बड़े भाई श्री

कहानी : पागल औरत !

गांव के नुक्कड़ पर बैठी औरत जिसके बाल खुले हुए और कपड़े अस्त-व्यस्त है। उसकी ये दुर्दशा देखकर लगता है कई दिनों से वह भूखी है। उसके चेहरे पर गम

व्यंग्य : सेल्फी विद प्रदूषण

देश की राजधानी में इन दिनों फोग चल रहा है। दिल्ली ठंड के साथ प्रदूषण के कारण भी कांप रही है। प्रदूषण काल बनकर दिल्ली की सड़कों पर नंगा नाच

आयुर्वेद की वैश्विक राजदूत, शहनाज़ हुसैन : दयानंद वत्स

शहनाज़ हुसैन का यादगार लंदन सफ़र विजय न्यूज़ ब्यूरो वैश्विक सौंदर्य में भारत को प्रतिनिधित्व करते हुए दूनिया भर में अपने नाम का लोहा मनवाने वाली शहनाज़ हुसैन बीते कुछ

“यादों का काफ़िला”

दिन और साल, बितते चले गए, उम्रों के पड़ाव भी, छूटते चले गए, पर तुम्हारी यादों का काफ़िला “दर्शन”, पल भर के लिए भी, रुक नहीं पाया है। हमारी आखरी

व्यंग्य: इंटरनेट का जमाना!

आज सोनू ने आकर कहा,”भैया क्या करें! आजकल इंटरनेट का जमाना है मैं इतनी सी बात में भला सन्न रह गया। मुझे एकाएक लगा जैसे सोनू के सामने पहाड़ खड़ा

कविता : पद्मावती

पद्मावती जौहर से जो अमरत्व पा गई पद्मिनी एक राजपूतानी थी। चलो सुनाते हैं तुमको उनकी कैसी अविरल कहानी थी।। सुंदरता का अभिमान थी चितौड़ की महारानी थी। चतुराई भी

Translate »
Skip to toolbar