National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: काव्य-संसार

Total 10 Posts

एक गीत: गीतकिसने गाया……..

    गीतकिसने गाया…….. अजब-गजबहै भाषा बोली,अजब–गजब है माया गीतकिसने गाया हाय गीत किसने गाया सुबह-सुबहचिड़ियों की बोली ,आँखें सबकी खोले हलकिसान कंधो पर लेके,खेत की ओर वो डोले खेतोंकी

कुछ कवि एवं साहित्यकारों के सुन्दर रचनाएं ‘मुक्तक दोहे और शेर’

कुछ कवि एवं साहित्यकारों के सुन्दर रचनाएं  ‘मुक्तक दोहे और शेर’ 1— हिन्दी के अपमान को, नहीं सहेंगे और । हट जाए अब शीघ्र ही, अंग्रेज़ी का दौर ।। मुरारि

कविता : “कंत जन्मदिन”

    “कंत जन्मदिन” “कंत” जन्मदिन आया-२ खुशियों की लेके बहार, चाँद और तारों के साथ, दिन यह मुबारक आया। सचखंड का नजारा आया, देवी देवते भी देखे बहार, माँ

गज़ल : चलो रेत पर प्यार से हम चलेंगे

** गज़ल ** चलो रेत पर प्यार से हम चलेंगे  भुला के गिले आज सबसे मिलेंगे अगर थक गए ये हमारे कदम तो वहीँ रेत पर बैठ सजदा करेंगे सुहाना

उत्साह

उत्साह तुम्हारा उत्साह जैसे तम के वक्ष पर प्रकाश की एक किरण वियावान जंगल में कुलांच भरता एक हिरण उदासी को चीरता एक तीर जेठ की दुपहरी पर ज्यों बादलों

कविता : समय के साथ

कविता समय के साथ सब बदल जाता है सूर्य की किरणों का तप पाकर आदमी फूल की तरह खिलता है और शाम होते होते ढल जाता है मेले में घूम

**गीतिका**

**गीतिका** गुरु ज्ञान का प्रकाश दिखाते सदैव हैं हर शिष्य को गले से’ लगाते सदैव हैं पुछा कभी जो हमने’ बताया है आपने गलती हुई कभी तो’ सिखाते सदैव हैं

Translate »
Skip to toolbar