National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: महेश तिवारी

Total 16 Posts

विकसित युवा, विकसित भारत के पांच लाइन पर देश को बढ़ना होगा

युवाओं की भागीदारी जीवन में तीन पड़ाव अहम होते हैं। बचपन, जवानी और बुढापा। देश की वर्तमान स्थिति में परेशानी तीनों को है। बचपन देश में सुरक्षित नहीं, तो नौजवान

जरा सोचो किसान को मार डालोगे, तो रोटी कहाँ से लाओगे

लोग कहते हैं बेटी को मार डालोगे,तो बहू कहाँ से पाओगे? जरा सोचो किसान को मार डालोगे, तो रोटी कहाँ से लाओगे? फ़िर भी किसान मर रहें हैं, तो आज

फटेहाल में देश का ग़रीब, किसान और माननीय को अपने झोली की फ़िक्र

राम धारी सिंह दिनकर की ये चंद पंक्तियां आज की राजनीतिक व्यवस्था के लिए ही शायद कही गई थी। सदियों की ठंढी, बुझी राख सुगबुगा उठी, मिट्टी सोने का ताज

खून की प्यासी देश की सड़कें क्यों ?

सावधानी हटी और दुर्घटना घटी। इस उक्ति का कोई अर्थ नहीं रहा। सड़क पर सरपट दौड़ती गाड़ियांए और उससे भी तेज़ सरपट भागती मौत। यह कहानी हमारी सड़कें रच रहीं

इससे और भी नंगेपन पर क्या उतर सकता है, समाज

हम ऐसे देश में रहते हैं। जिसकी आत्मा संस्कृति और सभ्यता में निवास करती है। वर्तमान अवस्था में हमनें उस संस्कृति और सभ्यता को चुल्लू भर पानी में डुबो दिया

बाबाओं के आगे कब तल्ख़ घुटने टेकने पर मजबूर देश

संविधान में मीडिया को लोकतंत्र को चौथा स्तम्भ माना जाता है। इस लिहाज से मीडिया का समाज के प्रति उत्तरदायित्व और जिम्मदरियाँ बढ़ जाती हैं। मगर क्या वर्तमान वैश्विक दौर

शाइनिंग इंडिया का ग़रीब भारत

राजनीति और जनता का प्रत्यक्ष मिलन अब मात्र चुनावी हल-चल के वक़्त दिखता है, जब उसके प्रत्याशी जनता रूपी मत को अपना भगवान और उसके साथ तमाम वे रिश्ते- नाते

लोगों को रहने के लिए छत मयस्सर नहीं, इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या?

भारत की दो तिहाई आबादी अगर जेल से भी कम जगह में रह रही है। तो ऐसे में निजता के मौलिक अधिकार बन जाने के बावजूद छोटे होते मकान और

” एक देश , एक कानून पर अमल हो “

देश में आज के दौर में कोई सबसे बड़ा बदलाव दिख रहा है। तो वह 1400 वर्षों बाद देश में मुस्लिम महिलाओं की सुदृढ़ होती सामाजिक स्थिति की ओर बढ़ता

प्रकृति रही पुकार, बंद हो उसके खिलाफ मानवीय बेरुखी

संयुक्त राष्ट्र की तरफ से आई एक रिपोर्ट में विस्थापन को लेकर खुलासा हुआ हैं, वह देश की व्यवस्था और लोगों की सोच में बदलाव की तरफ़ इशारा करती है

Translate »
Skip to toolbar