ब्रेकिंग न्यूज़

Category: रमेश सर्राफ धमोरा

Total 50 Posts

इस प्रकार तो नहीं बच पायेगी देश में बेटियां

राजस्थान के चूरू जिले की तारानगर तहसील के घासला अगुणा गांव में एक फौजी ने अपनी दो दिन की नवजात बेटी को पानी से भरी बाल्टी में डूबो कर मार

इस प्रकार तो नहीं बच पायेगी देश में बेटियां

राजस्थान के चूरू जिले की तारानगर तहसील के घासला अगुणा गांव में एक फौजी ने अपनी दो दिन की नवजात बेटी को पानी से भरी बाल्टी में डूबो कर मार

इस प्रकार तो नहीं बच पायेगी देश में बेटियां

राजस्थान के चूरू जिले की तारानगर तहसील के घासला अगुणा गांव में एक फौजी ने अपनी दो दिन की नवजात बेटी को पानी से भरी बाल्टी में डूबो कर मार

14 नवम्बर, विश्व मधुमेह दिवस पर विशेष : मधुमेह रोग की राजधानी बनता जा रहा है भारत

दुनिया के अधिकतर देशो में 14 नवम्बर को प्रतिवर्ष विश्व मधुमेह दिवस मनाया जाता है। मधुमेह जिन्हें डायबिटीज भी कहा जाता हैं तेजी से बढ़ रहा एक भयंकर रोग हैं,

कैसे रूक पायेगी बढ़ती आत्महत्याओं की प्रवृति ?

हमारे देश में शायद ही कोई दिन ऐसा बीतता होगा जब किसी न किसी इलाके से गरीबी, भुखमरी, कुपोषण, बेरोजगारी, कर्ज जैसी तमाम आर्थिक तथा अन्य सामाजिक दुश्वारियों से परेशान

सभी तीर्थो का गुरू माना जाता है पुष्कर

राजस्थान में त्यौहारों, पर्वो एवं मेलों की अनूठी परम्परा एवं संस्कृति है वैसी देश में अन्यत्र कहीं मिलना कठिन है। यहां का प्रत्येक मेला एवं त्यौहार लोक जीवन की किसी

31 अक्टूबर जयन्ती पर विशेष : आधुनिक भारत के शिल्पी थे सरदार पटेल

भारत के विकास में सरदार वल्लभभाई पटेल के महत्व को सैदव याद रखा जायेगा। भारत के राजनीतिक इतिहास में सरदार पटेल के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। वे

सूर्य आराधना का पर्व है छठ पूजा

हिंदुओं के सबसे बड़े पर्व दीपावली को पर्वों की माला माना जाता है। पांच दिन तक चलने वाला ये पर्व सिर्फ भैयादूज तक ही सीमित नही है। बल्कि यह पर्व

गोवर्धन पूजा के दिन लगता है अन्नकूट का प्रसाद

गोवर्धन पूजा अथवा अन्नकूट हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। दीपावली के दूसरे दिन सायंकाल गोवर्धन पूजा का विशेष आयोजन होता है। लोग इसे अन्नकूट के नाम से भी जानते

17 अक्टूबर जयन्ती पर विशेष : चिकित्सा के देवता माने जाते हैं धन्वन्तरि

हमारे देश में सर्वाधिक धूमधाम से मनाए जाने वाले त्योहार दीपावली का प्रारम्भ धनतेरस से हो जाता है। इसी दिन से घरों की लिपाई-पुताई प्रारम्भ कर देते हैं। कार्तिक कृष्ण

कैसे दूर हो पायेगी भारत में भुखमरी की समस्या ?

मानव जाति की मूल आवश्यकताओं की बात करें तो रोटी, कपड़ा और मकान का ही नाम आता है। इनमे रोटी सर्वोपरि है। रोटी यानी भोजन की अनिवार्यता के बीच आज

सन्तान की लम्बी आयु की कामना का पर्व है अहोई अष्टमी

अहोई अष्टमी का पर्व दीपावली के आरम्भ होने की सूचना देता है। यह पर्व विशेष तौर पर माताओं द्वारा अपनी सन्तान की लम्बी आयु व स्वास्थ्य कामना के लिए किया

9 अक्तूबर विश्व डाक दिवस पर विशेष : आज भी बरकरार है डाक विभाग की प्रासंगिकता

चिट्ठी आयी है, आयी है, चिट्ठी आयी है… 1980 के दशक के आखिरी वर्षों में नाम फिल्म का यह गीत काफी लोकप्रिय हुआ था। फिल्म का नायक विदेश में रहता

अखण्ड सौभाग्य प्राप्ती का व्रत है करवा चौथ

भारत देश एक धर्म प्रधान व आस्थावान देश हैं। यहां साल के सभी दिनो का महत्व होता है तथा साल का हर दिन पवित्र माना जाता है। भारत में करवा

जानलेवा बनता जा रहा है सडक़ पर मोबाइल का इस्तेमाल

मोबाइल फोन आज हमारी जिन्दगी का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। आज हम मोबाइल फोन के बिना रहने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। मोबाइल फोन जहां हमारे लिये

हर्ष और उल्लास का प्रतीक है दशहरा

दशहरा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को इसका आयोजन होता है। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया

नवरात्रा पर विशेष : भंवरों की राणी जीण माता

औरंगजेब भी नहीं कर पाए थे माता के इस मंदिर को खंडित हमारे देश में दुर्गा मां को शक्ति की देवी के रूप में पूजा जाता है। दुर्गा मां के

भारत में बढ़ते भ्रष्टाचार को कैसे रोक पायेगें ?

कभी समाज सेवा के लिए जाना जाने वाला हमारा भारत देश आज भ्रष्टाचार का मुख्य केन्द्र बन चुका है। फलस्वरूप भारतीय संस्कृति तथा उसका पवित्र एवं नैतिक स्वरूप धुंधला होता

बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक हैं नवरात्रि

भारतीय जन-जीवन में धर्म की महत्ता अपरम्पार है। यह भारत की गंगा-जमुना तहजीब का ही नतीजा है कि सब धर्मों को मानने वाले लोग अपने-अपने धर्म को मानते हुए इस

21 सितम्बर जयन्ती पर विशेष : समाजवाद के प्रर्वतक युग पुरुष थे महाराजा अग्रसेन

दुनिया में आज जिस समाजवाद की बात की जाती है उसको 5000 वर्ष पूर्व ही महाराजा अग्रसेन ने सार्थक कर दिखाया था। महाराजा अग्रसेन को समाजवाद का सच्चा प्रणेता कहा

21 सितम्बर जयन्ती पर विशेष : समाजवाद के प्रर्वतक युग पुरुष थे महाराजा अग्रसेन

दुनिया में आज जिस समाजवाद की बात की जाती है उसको 5000 वर्ष पूर्व ही महाराजा अग्रसेन ने सार्थक कर दिखाया था। महाराजा अग्रसेन को समाजवाद का सच्चा प्रणेता कहा

Translate »
Skip to toolbar