National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: विचार

Total 123 Posts

रोहिंग्या शरणार्थी और ‘वसुधैव कुटुंबकम’

म्यांमार(बर्मा)में रोहिंग्या समाज के लोगों के विरुद्ध चल रहे सैन्य एवं राज्य प्रायोजित नरसंहार के बाद बर्मा के रखाईन प्रांत से रोहिंग्या लोगों का पलायन जारी है। रोहिंग्या समाज के

क्यों नहीं दिखती कश्मीरी पंडितों की पीड़ा

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों आए संकट और पलायन के बाद पूरी दुनिया में एक बार फिर शरणार्थी समस्या बहस का मसला बन गयी है। पलायनवाद एक समुदाय विशेष की समस्या

भारत में बढ़ते भ्रष्टाचार को कैसे रोक पायेगें ?

कभी समाज सेवा के लिए जाना जाने वाला हमारा भारत देश आज भ्रष्टाचार का मुख्य केन्द्र बन चुका है। फलस्वरूप भारतीय संस्कृति तथा उसका पवित्र एवं नैतिक स्वरूप धुंधला होता

बीच चैराहे युवाओं का बढ़ता आक्रोश

बीच चैराहे युवाओं का बढ़ता आक्रोश राजधानी दिल्ली में एक युवक का सिगरेट की धुआं के छल्ले के लिए टोकना इतना भारी पड़ गया कि उसे अपनी जिंदगी से हाथ

“रागदेश” जिसे अनसुना कर दिया गया

उग्र राष्ट्रवाद के इस कानफाडू दौर में राज्यसभा टेलीविजन ने “राग देश” फिल्म बनायी है जो पिछले 28 जुलाई को रिलीज हुई और जल्दी ही परदे से उतर भी गयी.

क्यों ना हम पहले आपने अन्दर के रावण को मारें

क्यों ना हम पहले आपने अन्दर के रावण को मारें “रावण को हराने के लिए पहले खुद राम बनना पड़ता है ।“ विजयादशमी यानी अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की

मंहगाई की मार है-चुप मोदी सरकार है ?

केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बने हुए साढ़े तीन वर्ष बीत चुके हैं। देश की जनता अच्छे दिन का इंतज़ार करते-करते थक चुकी है। परंतु अच्छे दिनों ने

पैट्रोल-डीजल की मार – तेल के नाम पर हो रहा है बड़ा खेल

2013 के मुकाबले अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेल के रेट आधे और भारत में पैट्रोल-डीजल 2013 के भाव बिक रहा है सितंबर 2013 में अंतरराष्ट्रीय बाज़ारों में कच्चे तेल की कीमत

बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक हैं नवरात्रि

भारतीय जन-जीवन में धर्म की महत्ता अपरम्पार है। यह भारत की गंगा-जमुना तहजीब का ही नतीजा है कि सब धर्मों को मानने वाले लोग अपने-अपने धर्म को मानते हुए इस

गुरु नानक ने समाज में भलाई का सन्देश दिया था

हमारे साधु संतों ने सदा सर्वदा समाज को भलाई का मार्ग दिखाया था। इसी परम्परा का निर्वहन करते हुए गुरु नानक देव ने समाज को झूठ, प्रपंच और अहंकार को

Translate »
Skip to toolbar