ब्रेकिंग न्यूज़

Category: जिंदगी

Total 34 Posts

भूलने की समस्या को हल्के में न लें लोग : डा. रोहित गुप्ता

फरीदाबाद। लोगों की बढ़ती उम्र अक्सर कई बीमारियों और समस्याओं की वजह बन जाती है। ऐसे में कई बार घरवालों को लगता है कि बुजुर्ग उन्हें जानबूझ कर परेशान कर

तंबाकू सेवन और धूम्रपान करना लोगों का पैसन, बीमारी से डरे नहीं समय पर करवाएं इलाज

फरीदाबाद। बदलती जीवनशैली में कैंसर रोग शहर में तेजी से बढ़ रहा है। तनाव, धूम्रपान, देर से सोना, जंक फूड सेवन का लोगों के जीवन पर भारी पड़ रहा है।

माइग्रेन का बोटोक्स ट्रीटमेंट से इलाज संभव : रोहित गुप्ता

फरीदाबाद। सिर के आधे हिस्से में होने वाला दर्द को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यह माइग्रेन का दर्द होता है। माइग्रेन एक ऐसी बीमारी है जिससे आज के समय में

आपके लीवर को ठीक रखने के लिए आदतें

हमारे शरीर में प्रवेश करने वाले टॉक्सिन हमारे लीवर को भेज दिए जाते है. लीवर इन्हें प्रोसेस कर हमारे शरीर से बाहर निकाल देता है. हमारे अस्तित्व के लिए लीवर

जब शराब बनी ‘दर्दे दिल’ की दवा

चिकित्सकों ने दिल को बचाने के लिए शराब का उपयोग किया शराब की कुछ बुंदों से दुर्लभ आनुवांशिक बीमारी का हो सकता है इलाज फरीदाबाद। चिकित्सक अक्सर शराब से बचने

महिलाएं मां बन सकती है मिर्गी के समय भी  :  डॉ रोहित गुप्ता

फरीदाबाद। औद्योगिक नगरी फरीदाबाद में मिर्गी रोग तेजी से बढ़ रहा है। यह बीमारी पुरुष और महिला दोनों को होती है। लेकिन अगर गर्भावस्था में यह दिक्कत हो जाए तो

गर्मियों के मुकाबले सर्दी में ब्रेन स्ट्रोक खतरा ज्यादा

> रोजाना व्यायाम को करें अपने दिनचर्या में शामिल <  बदलती लाइफस्टाइल आज लोगों के स्वास्थ्य पर भारी पड़ रही है। देर से सोना, जल्दी जगना, तनाव में रहना, हाइपरटेंशन,

फलो से सुन्दरता

आपकी सुन्दरता आपके खानपान पर काफी निर्भर करती है। जैसे अन्न वैसा तन ‘‘यह लकोकति सदियों बाद भी आज भी चिरतार्थ सिद्ध होती है। आपके पंसदीदा फलों के सेवन से

ये है हरियाली आलू टिक्का बनाने की आसान विधि

हरियाली आलू टिक्का एक मजेदार डिश है. इसे शाम को स्नैक्स के तौर पर भी बनाकर खाया जा सकता है और सुबह चाय के साथ भी इनका लुत्फ लिया जा

फटे होठों में तेल मालिश स्कून देगी

सर्दियों में वातावरण में नमी की वजह से होठों का फटना आम बात है। लेकिन फटे होंठ जहां चेहरे पर बदसूरती का अहसास कराते है वहीं दूसरी ओर शारीरिक पीड़ा

डिप्रेशन से बचने के लिए दौडऩा जरुरी : रोहित गुप्ता

फरीदाबाद। डिप्रेशन के सबसे अधिक रोगी वर्कप्लेस में होते है। इससे बचने के लिए वे दवाआं का सराहा लेते है जो सेहत के लिए ठीक नहीं मानी जाती है। दवाईयों

सर्दियों में दुल्हनों का श्रृंगार

शर्द ऋतू शादियों का पसंदीदी मौसम माना जाता है ] इस मौसम में शादियों की भरमार रहती है जहाँ मौसम के तापमान के हिसाब से यह सीजन बर ,बधू तथा

असाध्याय बीमारियों का ईलाज है तुलसी

प्राचीन भारतीय समाज में तुलसी को पवित्रा मानते हुए सुबह शाम जल चढाने के साथ ही दीपक जलाकर पूजन की परम्परा रही है। पंतजलि आयुर्वेदिक हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण जी

ई इस आई झिलमिल को प्रदूषण मुक्त करने के लिए लगाया जायगा आप्टिमाइज़र

नीरज पाण्डेय पूर्वी दिल्ली। दिल्ली मे बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए जहां सरकार आये दिन नई नई तकनीकों से दिल्ली की खराब हुई आवोहवा को सुधारने में जुटी है।

बड़े काम की सात बातें

कभी भी अपनी योजनाओं को दूसरों के साथ साझा नहीं करें. हमें कभी भी किसी भी शख्स को अपनी भावी योजनाओं को नहीं बताना चाहिए चाहे वह कितना भी करीबी

विश्व मिर्गी दिवस : तनाव के चलते युवाओं में बढ़ रहा मिर्गी रोग

फरीदाबाद। भागदौड़ भरी जीवनशैली में मॉर्डन लाइफस्टाइल युवाओं को मिर्गी का रोगी बना रहा है। काम को अगले दिन पर टालना, रात को देर से घर पहुंचना, धुम्रपान और तनाव

पीपल के गुणकारी लाभ

पवित्र पीपल वृक्ष को मानवता की सभ्यता के अनन्तकाल से ही हिन्दूओं द्वारा पूजा जाता है। लेकिन पीपल वृक्ष धार्मिक मान्यता के अलावा औषधीय गुणों से भरपूर है तथा अनेक

विश्व मधुमेह दिवस, 14 नवम्बर : आधुनिक जीवनशैली की देन है शुगर की बीमारी

मधुमेह या डाइबिटीज जिसे बोलचाल की भाषा में शुगर भी कहा जाता है आखिर है क्या जिसकी चर्चा आजकल घर घर में सुनी जा रही है। बच्चे से बुजुर्ग तक

स्मॉग ने बढ़ाई श्वांस रोगियों की संख्या : डॉ. हेमंत

फरीदाबाद। स्मॉग वायु प्रदूषण और धुंध का मिश्रण है जिसे धुंध वायु प्रदूषण भी कहा जा सकता है। इसमें कार्बन मोनो ऑक्साइड, सल्फर डाई ऑक्साइड, नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड की मौजूदगी

सर्द ऋतु में त्वचा की देखभाल

नवम्बर माह को सर्दियों का प्रारम्भ माना जाता है। अक्तूबर माह के आखिरी सप्ताह में रोजमर्रा का तापमान गिरना शुरू हो जाता है तथा दिन के अधिकतम तथा न्यूनतम तापमान

कुपोषण से नाटापन और मोटापे से मधमेह बढा

नयी दिल्ली. देश में जागरुकता के अभाव और पौष्टिक खानपान नहीं मिलने से बच्चों में कुपोषण की गंभीर समस्या है जिसके कारण बच्चे कमजोर और नाटेकद के रह रहे हैं

Translate »
Skip to toolbar