ब्रेकिंग न्यूज़

Category: डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा

Total 28 Posts

महिला दिवस मनाने के बावजूद नहीं घट रहे महिलाओं के विरुद्ध अपराध

भले ही हम 8 मार्च को अंतरराष्ट्र्ीय महिला दिवस मनाते हो पर महिलाओं के प्रति मानसिकता में अभी कोई आशा जनक बदलाव नहीं आया है। शिक्षित और आधुनिक होने की

दर्जनभर रसूखदारों में फंसा बैंकों का 3 लाख करोड़

विजय माल्या की तर्ज पर पिछले दिनों नीरव मोदी द्वारा पीएनबी बैंक से हजारों करोड़ रुपए का ऋण घोटाला कर विदेश भागने की घटना ने पूरे बैंकिंग सिस्टम को कठघरे

आंख खोलने के लिए आंकड़े ही काफी है

सरकार द्वारा धीरे धीरे सरकारी लाभकारी योजनाओं और बैंक खातों सहित अन्य सेवाओं को आधार कार्ड से जोड़ने के निर्देशों का लाख विरोध किया जा रहा हो पर जो परिणाम

केपटाउन तो एक चेतावनी है आने वाले जल संकट कीे

भावी को नहीं समझने का ही परिणाम है कि आने वाले 75 दिनों में दक्षिण अफ्रीका की राजधानी केपटाउन जलविहीन हो जाएगी। केपटाउन में केवल और केवल मात्र दैनिक उपभोग

बजट एक फरवरी को पेश करने के साहसिक निर्णय के सकारात्मक परिणाम

यों तो आर्थिक क्षेत्र में मोदी सरकार द्वारा एक के बाद एक साहसिक निर्णय किए जा रहे हैं पर गए साल से आम बजट को परंपरागत समय से पहले प्रस्तुत

अपनों से ही शर्मसार होती मानवता

यह आंकड़े भले ही दिल्ली के हो पर कमोबेस यह तस्वीर सारी दुनिया की देखने को मिलेगी। दिल्ली पुलिस द्वारा राजधानी दिल्ली में 2017 की आपराधिक गतिविधियों के इसी माह

वीजा नियमों में बदलाव को टालना ट्र्ंप की मजबूरी

सबसे पहले तो यह साफ हो जाना चाहिए कि एच-1 बी वीजा नियमों में बदलाव को टालना अमेंरिकी राष्ट्र्पति ट्र्ंप की मजबूरी है तो दूसरी और भारतीय कूटनीति और युवा

कम उम्र में एकाकी जीवन की राह पर महिलाएं

कम उम्र में तन्हाई की जिंदगी जीने वाली महिलाआंे की तादाद मंे बढ़ोतरी बेेहद चिंता का विषय है। देश में सात करोड़ से अधिक महिलाओं का अकेली रहना कहीं ना

आओ नए साल का स्वागत करें

वर्ष 2017 की विदाई और 2018 के प्रवेश के अवसर पर बधाई। 31 दिसम्बर की रात 12 बजे नए साल की हेप्पी न्यू ईयर के शब्द घोष के साथ नए

आलू के बहाने बाजार व्यवस्था की खुलती पोल

नए आलू के आते ही हमारी बाजार व्यवस्था ने एक बार फिर पोल खोल कर रख दी है। नए आलू आने के बाद आलू की लागत भी नहीं निकलने के

लोकतंत्र की जय-मतदाताओं की जय

चलो गुजरात और हिमाचल के चुनाव परिणाम आ गए। 22साल से लगातार सत्ता में रहने के बावजूद भाजपा सरकार बचाने में कामयाब रही वहीं हिमाचल में कांग्रेस सत्ता से बाहर

मतदाता की बेरुखी के बीच चुनाव परिणाम

चुनाव विश्लेषकों के बड़े-बड़े दावों व गुजरात और हिमाचल प्रदेश की मतगणना के रुझानोें के बीच यह आलेख आपके सामने है। प्रश्न यह नहीं है कि चुनावों में कौन सा

महिलाओं के प्रति कट्टरता की छवि तोड़ने की और अरब देश

देर सबेर सउदी अरब में अब महिलाओं के प्रति कट्टरवादी सोच में बदलाव की बयार आने लगी है। हाल ही में सउदी महिलाओं को खेल के मैदान में जाकर वहां

चुनाव आयोग को शाबासी पर एक चौथाई  मतदान से दूर भी चिंतनीय

चुनाव आयोग की इसे बड़ी सफलता माना जाएगा कि हिमाचल में शांतिपूर्ण मतदान संपन्न हो गए। ईवीएम से मतदान के दौरान वीवीपैट यानी कि वोटर वैरिफाइड पेपर आॅडिट ट्रायल मशीन

डिजिटलाइजेशन से संभव है भ्रष्टाचार पर रोक

सरदार पटेल की जयंति 31 अक्टूबर से एक बार फिर देश में सतर्कता जागरुकता सप्ताह पूरे धूमधाम लंबे चैड़े भाषणों, संकल्पों और सेमिनार आयोजित कर मनाया गया हैं। एक सप्ताह

खाने-पीने के सामग्री की बर्बादी आखिर कब तक

भले ही ऐसोचेम और एमआरएसएस की हालिया रिपोर्ट को अतिशयोक्तिपूर्ण करार कर कमतर देखने का प्रयास किया जाए पर यह साफ है कि केवल और केवल रख रखाव के कारण

खेत को प्रयोगशाला बनाते वैज्ञानिक किसान

खेत को प्रयोगशाला बनाते वैज्ञानिक किसान जहां एक और अन्नदाता को केन्द्र मेें रखकर आज देश में राजनीतिक लाभ उठाने के प्रयासों में तेजी आई हैं वहीं धरती से जुड़े

तीन दशकों में ही दम तोड़ने लगी है एटीएम मशीनें

किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि बैंकिंग क्षेत्र में इस तेजी से बदलाव आएगा कि प्रतिष्ठा सूचक एटीएम कार्ड की जितनी सहज पहंुच आम आदमी तक हो जाएगी, उतनी

मुबंई हादसा-समझ से परे है भीड़ का मनोविज्ञान

एक अफबाह कैसे अफरातफरी फैला कर लोगों का मौत का सबब बन जाती है इसका जीता जागता उदाहरण है मुंबई रेल्वे स्टेशन का हादसा। देश में यह पहला मौका नहीं

बीच चैराहे युवाओं का बढ़ता आक्रोश

बीच चैराहे युवाओं का बढ़ता आक्रोश राजधानी दिल्ली में एक युवक का सिगरेट की धुआं के छल्ले के लिए टोकना इतना भारी पड़ गया कि उसे अपनी जिंदगी से हाथ

कर्ज के मकड़़जाल में दम तोड़ती जिंदगियां

आजादी के सात दशक बाद भी देश में कर्ज की अंतिम परिणती मौत को गले लगाना ही हो तो इससे अधिक दुर्भाग्यजनक और शर्मनाक क्या हो सकता है। पिछले दिनों

Translate »
Skip to toolbar