ब्रेकिंग न्यूज़

खेलों से हरियाणा प्रदेश का रहा है एक अलग जुड़ाव : करण चौटाला

फरीदाबाद। करण सिंह चौटाला के इंडियन ओलंपिक एसो. के उपाध्यक्ष चुने जाने पर युवा इनेलो के प्रदेश महासचिव अजय भड़ाना ने आज अनेकों कार्यकर्ताओं के साथ उन्हें गुडग़ांव स्थित निवास पर पहुंचकर बधाई दी। इस अवसर पर उनके साथ मुख्य रुप से पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत भी मौजूद थे। इस दौरान श्री भड़ाना ने श्री चौटाला को फूलों का बुक्क भेंट करके उनका मुंह मीठा कराते हुए उम्मीद जताई कि उनके नेतृत्व में ओलंपिक संघ बेहतर कार्य करते हुए देश-विदेश स्तर पर हरियाणा का नाम गौरवान्वित करेगा। इस मौके पर इनेलो कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए नवनियुक्त आईओएस के उपाध्यक्ष करण सिंह चौटाला ने कहा कि खेलों का हरियाणा से एक अलग ही जुड़ाव रहा है, कुश्ती, कबड्डी, रेसलिंग, बॉक्सिंग या फिर अन्य प्रकार के खेल है, यहां के खिलाडिय़ों ने सदैव अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है और आने वाले समय में भी प्रदेश के खिलाड़ी इसी प्रकार अपनी काबलियत साबित करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि लोगों ने जिस उम्मीद व उत्साह के साथ उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी गई है, उसे वह बखूबी निभाएंगे और ग्रामीण स्तर के साथ-साथ शहरी स्तर की प्रतिभाओं को तराश कर उन्हें उनके मुकाम तक पहुंचाने का माध्यम बनेंगे। इस मौके पर युवा इनेलो के प्रदेश महासचिव अजय भड़ाना ने श्री चौटाला को बधाई देते हुए कहा कि उनकी इस नियुक्ति से कार्यकर्ताओं में एक नए जोश का संचार हुआ है और युवा इनेलो फरीदाबाद में भी बेहतर व प्रतिभावान खिलाडिय़ों को आगे लाने के लिए हरसंभव प्रयास करेगी।

करण सिंह चौटाला के आईओएस उपाध्यक्ष बनने पर अजय भड़ाना ने दी बधाई

उन्होंने कहा कि ओलंपिक एसो. के चुनावों में करण चौटाला को भारी बहुमत मिलना इस बात का संकेत है कि युवाओं की भागीदारी भारतीय ओलंपिक संघ में एक नया मिल का पत्थर साबित होगी। इससे पहले अभय सिंह चौटाला सबसे कम उम्र में भारतीय ओलंपिक संघ के उपाध्यक्ष बने थे और उनके समय में हरियाणा में सबसे ज्यादा खेलों को प्रोत्साहन मिला था व अब वहीं उम्मीद करण चौटाला के उपप्रधान बनने से प्रदेश व देश के खिलाडिय़ों को है। उन्होंने करण चौटाला को विश्वास दिलाया कि फरीदाबाद के युवा इनेलो कार्यकर्ता एवं इनसो कार्यकर्ता एकजुट होकर पार्टी संगठन को मजबूत करने के दिशा में भरसक प्रयास कर रहे है। इस अवसर पर सतेंद्र भड़ाना, विजय पाल भाटी, जयवीर खटाना, प्रेम धनखड़ आदि अनेकों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar