ब्रेकिंग न्यूज़

कैदी नंबर 3351 बने लालू, जानिए जेल में कौन बने पड़ोसी

रांची. सीबीआई के विशेष जज की अदालत से दोषी करार दिए जाने के बाद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को कड़ी सुरक्षा के साथ बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल होटवार ले जाया गया। उन्हें केंद्रीय जेल के अपर डिवीजन सेल में रखा गया है। वे कैदी नंबर 3351 बने हैं। वीआईपी कैदियों की इस सेल में झरिया के विधायक संजीव सिंह, खिजरी के पूर्व विधायक सावना लकड़ा, पूर्व मंत्री गोपाल कृष्ण पातर उर्फ राजा पीटर व पूर्व विधायक कमल किशोर भगत पहले से बंद हैं। अब सेंट्रल जेल में अपर डिवीजन सेल में लालू यादव के साथ दो अन्य वीआईपी बंदी भी पहुंच गए हैं। चारा घोटाले में लालू के साथ-साथ दोषी पाए गए बिहार विधानसभा की लोक लेखा समिति के तत्कालीन अध्यक्ष जगदीश शर्मा व पूर्व विधायक डॉ. रवींद्र कुमार राणा को भी अपर डिवीजन सेल का ही कमरा मिला है। अपर डिवीजन सेल में चार-चार कमरों के दो विंग अपर डिवीजन सेल में चार-चार कमरों के दो विंग हैं। एक विंग में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव, बिहार विधानसभा में लोक लेखा समिति के तत्कालीन अध्यक्ष जगदीश शर्मा व झरिया के विधायक संजीव सिंह हैं। यहां एक कमरा अभी खाली है। दूसरे विंग में खिजरी के पूर्व विधायक सावना लकड़ा, पूर्व मंत्री राजा पीटर, पूर्व विधायक कमल किशोर भगत के अलावा बिहार से पूर्व विधायक डॉ.रवींद्र कुमार राणा हैं।

रात में पालक साग व रोटियां

जेल में लालू प्रसाद यादव को चौकी व बिस्तर उपलब्ध करवाया गया। उन्हें खाने में पालक साग व रोटियां दी गईं। उन्हें सोने के लिए चौकी मिली, जिस पर एक गद्दा, तकिया, चादर व मच्छरदानी उपलब्ध कराई गई। प्रत्येक कमरे में टेलीविजन है। केवल दूरदर्शन देखने की सुविधा उपलब्ध है।

लालू के साथ तीन का रहा है गजब संयोग

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के साथ तीन का गजब संयोग रहा है। 30 सितंबर, 2013 को लालू प्रसाद यादव जब होटवार जेल गए थे, उस वक्त तारीख भी 30 थी और उन्हें कैदी नंबर तब 3312 मिला था। अब 23 दिसंबर को जब वे दोषी करार हुए और जेल गए तो वहां इस बार कैदी नंबर 3351 मिला है। उन्हें तीन जनवरी को सजा सुनाई जाएगी।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar