ब्रेकिंग न्यूज़

दो घण्टे में चारपाई बनाकर बोतल में बंद कर देता है कलाकार

मात्र 60 से 70 रुपए में विनोद पेश करता है कलाकारी का हुनर

फरीदाबाद। इंसान अगर मन से मेहनत करे तो कामयाबी कदम चूमती है। दो वक्त की रोटी के लिए मशक्कत करने वाले विनोद कुमार ने एक ऐसा ही अनोखी कलाकारी की, जिसने पहले तैयार की एक लकड़ी की चारपाई और बाद में उसे शराब की बोतले में बंद कर दिया। उसकी इस कलाकारी को देखकर लोग दांतों तले अगुंली दबा रहे हैं। इतना ही नहीं विनोद ने इसी को रोजगार का साधन बना लिया। कला के शौकीनों को वह बोतल में बंद चारपाई को बेच रहे हैं। उत्तरप्रदेश के टप्पल निवासी विनोद कुमार पिछले कुछ सालों सेे बल्लभगढ़ के राधा नगर में अपने परिवार के साथ रहते हैं। जो इन दिनों कल्पना चावला पार्क के पास सैलून चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। इसके अलावा उनके अंदर एक कलाकार छिपा है, जिसको उन्होंने चारपाई को बोतल में बंदकर जगजाहिर कर दिया, जिसे उन्होंने अब अपनी आय का साधन भी बना लिया है।

हस्तशिल्प कलाकार सिटी पार्क के पास चलाता है सैलून

अब तक वह करीब एक हजार से ज्यादा शराब की खाली बोतल में चारपाई बनाकर विभिन्न प्रदेशों के कलाकारी की कद्र करने वालों को बेच चुके हैं। इतना जरुर है कि अपने द्वारा तैयार की कलाकारी का मूल्य निर्धारित नहीं किया हुआ है। हस्तशिल्पी विनोद ने खुलासा किया कि चारपाई को बनाने में बांस व शहतूत की लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता है, जिसे बुनने के लिए ऊन का इस्तेमाल होता है। करीब दो-ढाई घण्टे में तैयार होने वाली बोतल में चारपाई में करीब 60-70 रुपए का खर्च आता है। इसके बाद ग्राहक अपनी इच्छा अनुसार उसका दाम लगाता है। राधा नगर के एक छोटे से मकान में किराएदार मात्र आठवीं तक शिक्षित विनोद कुमार बताते हैं कि वह करीब दस साल पहले टप्पल यूपी में फर्नीचर का काम करते थे। एक दिन उन्होंने लकड़ी की चारपाई बनाई और बाद में उसे अपनी कलार से खाली बोतल में बंद कर दिया। बोतल में चारपाई बंद होता देख वह स्वयं हैरान हो गए कि यह तो एक अजूबा जैसा हो गया। उसके बाद उन्होंने कई बोतल में चारपाई बंद करनी शुरु कर दी। करीब दस साल से अब तक वह एक हजार से अधिक बोतल में चारपाई बंद कर लोगों को बेच चुके है।

 

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar