ब्रेकिंग न्यूज़

CBSE 10 और 12 वीं परीक्षाओं का टाइम-टेबल घोषित, यहां देखें Date Sheet

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने दसवीं व बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखें घोषित कर दी हैं। दोनों कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाएं पांच मार्च से सुबह 10ः30 बजे से शुरू होंगी। सीबीएसई के अनुसार बारहवीं के विद्यार्थियों के लिए पांच मार्च को पहला प्रश्नपत्र अंग्रेजी का होगा, जबकि अंतिम प्रश्नपत्र 12 अप्रैल को पेंटिंग विषय का होगा। दसवीं के विद्यार्थी पांच मार्च को वोकेशनल विषयों की परीक्षा देंगे और चार अप्रैल को होम साइंस विषय के प्रश्नपत्र के साथ परीक्षा समाप्त होगी। इस साल दसवीं व बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं के लिए 28.24 लाख विद्यार्थी पंजीकृत हैं। इसमें 11, 86144 विद्यार्थी बारहवीं और 16,38552 विद्यार्थी दसवीं में पंजीकृत हैं।

CBSE Date sheet of Class 10th (2018)यहां देखें कक्षा 10 वीं की डेट शीट

कक्षा 10 वीं की डेट शीट

सात फरवरी से सीआइएससीई की बोर्ड परीक्षाएं
वहीं काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन्स (सीआइएससीई) ने भी बुधवार को इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन्स (बारहवीं) और इंडियन सर्टिफिकेट ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन एग्जामिनेशन्स (दसवीं) का परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया।
सात फरवरी को बारहवीं के विद्यार्थियों के लिए भौतिक विज्ञान की परीक्षा आयोजित होगी, जबकि दो अप्रैल को मनोविज्ञान की परीक्षा के साथ बारहवीं के विद्यार्थियों की परीक्षा का समापन होगा। दसवीं की परीक्षाएं 26 फरवरी से शुरू होंगी। इस दिन अंग्रेजी की परीक्षा होगी, जबकि 28 मार्च को अंतिम परीक्षा पर्यावरण विषय की होगी। परीक्षाएं तीन पालियों में आयोजित की जाएंगी।

CBSE Date sheet of Class 12th (2018) यहां देखें कक्षा 12 वीं की डेट शीट

कक्षा 12 वीं की डेट शीट
कक्षा 12 वीं की डेट शीट

 

फेल भी दे सकेंगे रेगुलर परीक्षा, पिछले दिनों दी थी व्‍यवस्‍था
सीबीएसई के हालिया निर्देश के अनुसार यदि कोई छात्र 10वीं और 12वीं में फेल हो गया है तो वह दोबारा एक रेगुलर छात्र के तौर पर परीक्षा दे सकता है।
विद्यार्थी चाहे तो अपने ही स्कूल में या बोर्ड से मान्यता प्राप्त किसी अन्य स्कूल में दाखिला ले सकता है। इस संबंध में सीबीएसई ने अपने से संबद्ध स्कूलों को सर्कुलर जारी किया था।  इसमें कहा गया था कि ऐसे छात्र जो 2017 में 10वीं और 12वीं में फेल हो गए थे, वे इस वर्ष रेगुलर अभ्यर्थी के रूप में बोर्ड से मान्यता प्राप्त किसी भी स्कूल में नया एडमिशन ले सकते हैं। हालांकि स्कूलों में ऐसे छात्रों का प्रवेश सीट की उपलब्धता पर निर्भर करेगा और स्कूल इस पर अंतिम फैसला लेने के लिए स्वतंत्र होंगे। अभी तक फेल छात्र सिर्फ प्राइवेट छात्र के तौर पर ही बोर्ड परीक्षा देते आए हैं।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar