ब्रेकिंग न्यूज़

हिन्दू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता से कासगंज मुद्दे पर विशेष बातचीत

जाती प्रथा के नाम पर एक और दंगा अभी कासगंज मे हुआ है। कासगंज मे जो हुआ देश उससे चिंतित है लेकिन इसे जो बुनियादी मुददा है समस्या को हल करने पर जो बात होनी चाहिए वो नहीं हो रही है। कौन है कासगंज के कंस इस मुद्दे पर हिन्दू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता जी से बरिष्ट पत्रकार रमेश ठाकुर की विशेष बातचीत। प्रस्तुत है उसके अंशः

रमेश ठाकुरः विष्णु गुप्ता जो हो रहा है वो नहीं होना चाहिए, कासगंज मे जो इतनी बड़ी घटना हो रही है एक हिन्दू लड़के को जिंदा जला दिया जाता है, मार दिया जाता है ऐसा केस पहले जब हुए था बड़ा बवाल हुआ था सारी पॉलिटिकल पार्टी वहां थी हर धर्म के लोग वहां थे लेकिन अब इस मुद्दे को ज्यादा टच नहीं किया जा रहा है। क्यों ?
विष्णु गुप्ताः मैं यह कहना चाह रहा हूं जिस प्रकार से पहले हमारी धार्मिक यात्रा चलती थी तो दूसरे समूदाय के लोग पत्थर बाजी करते थे ऐसे दंगे के रुप में बहुत सारे मामले सामने आते थे उस समय बहुत सारे लोग आकर कहते थे कि यह तो सांप्रदायिक हो रहा है लेकिन आज जो यूपी में हो रहा है 26 जनवरी वाले दिन क्या जो हमारा राष्ट्रीय ध्वज है उसको लोकर हम तिरंगा यात्रा लेकर निकालते हैं और एक समुदाय के लोग जो उनका धार्मिक स्थल होता है। उसके सामने अंदर से कोई यात्रा निकलती है तो वो लोग जो भारत का ध्वज भी ह देखना नहीं चाहते भारत का ध्वज कैसे जा रहा है उसके ऊपर लगातार पथराव होता है गोलीबारी होती है चंदन गुप्ता नाम का एक व्यक्ति मारा जाता है।

रमेश ठाकुरः सबसे बड़े दुख वाली बात और चिंता करने वाली बात यह है कि उस दिन राष्ट्रीय पर्व था उस दिन पूरा देश अलर्ट पर होता है सारी एंजेसिया जन सेवा में लगी होती हैं कोई ऐसी घटना ना हो उसके बावजूद ऐसी घटना घट जाती है दिल्ली से महज 200 किलोमीटर दूर और ऐसी घटना घट जाती है और फिर वहां जिस रुप में यह घटना घटित होती है वहां का मुख्यमंत्री का दरबार महज थोड़ी दूर पर ही था। क्या इतनी सुरक्षा होने के बावजूद भी सब कुछ होने के बावजूद भी इस तरह की घटना घटित होना इसको क्या समझते हैं आप
विष्णु शर्माः ऐसी ऐसी घटना नहीं घटने चाहिए हो सकता है की यह घटना पहले से ही दूसरे लोगों ने तैयारी करके की हो, पहले का प्लान हों इससे कहां पर किस राजनीतिक दल को फायदा हो रहा है यह उनको पता है हम अभी जो राष्ट्रीय जलसा बता रहे हैं 26 जनवरी के केस में जो बहुत बड़े त्यौहार के रूप में मनाया जाता है पूरे देश में मनाया जाता है चाहे छोटा कस्बा हो या बड़ा हर जगह लोग मॉर्निंग में झंडा लहराते हैं तिरंगा लहराते हैं। लेकिन कुछ लोगों को भारत का झंडा देखना भी पसंद नहीं है इसीलिए उन लोगों ने ऐसा किया लेकिन यही आपने जो पहली बात की जो पहले भी घटना हुई उत्तर प्रदेश में आज भारतीय जनता पार्टी की सरकार है जब जिस टाइम अखलाक का मैटर हुआ था उस टाइम समाजवादी पार्टी की सरकार थी यही संप्रदायिकता पहले उन्होंने आरोप लगाया कि गाय के मैटर पर मुस्लिम युवक की हत्या हो गई और सारे सारे राजनीतिक लोग वहां पहुंचे केजरीवाल जी पहुंचे हर नेता के बड़े नुमाइंदे कोई ना कोई वहां पहुंचा। और उस समय अखिलेश सरकार की ओर से भी बड़ी घोषणा की गई है कि उनके परिवार के लिए उनके समुदाय के लिए बड़े-बड़े बाते की गईं। योजनाएं की गई उनको फ्लेट, वगैरा-वगैरा दिए गए। लेकिन यहां पर वह नहीं दिख रहा चंदन गुप्ता की हत्या हुई है तो इस देश का कोई भी नेता जो लोग राष्ट्रवाद की बात करते हैं वह मुझे वहां जाते हुए नहीं देख रहे। आज यही पर सरकार का जो रवैया होना चाहिए जिस प्रकार से उनका रवैया था अखिलेश सरकार का रवैया था वहां पर असंतुष्टि हमें दिख रही है। सरकार को आगे बढ़कर राष्ट्रवादी लोगों के लिए उनकी फैमिली के लिए समाधान करना चाहिए। चंदन गुप्ता राष्ट्रवादी है और वह जो भारत के ध्वज को लेकर राष्ट्रीय यात्रा निकल रही थी उसमें गोलीबारी में मारा गया दंगे में मारा गया है। उसकी फैमिली की मदद करनी चाहिए। जो संभव मदद करनी चाहिए मिलनी ही चाहिए।

रमेश ठाकुरः आपने अपने जवाब में बहुत बड़ा मुद्दा सामने रखा है हो सकता है यह घटना पहले से प्रायोजित हो थोड़ा सा डिफाइन करो कैसा लगता है आपको कि ऐसा हो सकता है
विष्णु गुप्ताः हो सकता है जो कुछ विपक्षी दल है सरकार को ठीक से काम करने देना न चाहते हो, सरकार को नाकाम करने की रणनीति बना रहे हो, क्योंकि अगर ऐसा होगा तो सरकार ठीक से काम नहीं कर पाएगी। उसमें यह भी एंगल हो सकता है। यह सरकार का विषय है। सरकार इस पर जांच करें। ऐसी घटना नहीं करनी चाहिए हो सकता है कि यह घटना पहले से ही दूसरे लोगों ने तैयारी करके कि हो। पहले का प्लान हों। वह सरकार का विषय है सरकार इस विषय पर जांच करें कि कौन इस षड्यंत्र के पीछे हैं कौन देश में सांप्रदायिक हिंसा फैला रहा है। उसका चेहरा सामने आना चाहिए। सरकार जांच करें लेकिन चंदन गुप्ता जो राष्ट्रवादी है उसको हर संभव मदद मिलनी चाहिए। जिस प्रकार से यूपी में अखिलेश सरकार ने अखलाक की मदद की। उसी प्रकार से योगी सरकार को चंदन गुप्ता की मदद करनी चाहिए।

रमेश ठाकुरः बिल्कुल करनी चाहिए इसमें कोई दो राय नहीं है अभी आपने कहा कि हो सकता है इस तरीके के मुद्दे को डाइवर्ट करने की सरकार को सही काम करने नहीं दिया जा रहा है। कौन है इसके पीछे, आपको क्या लग रहा है कि सरकार सही काम कर रही है
विष्णु गुप्ताः ऐसा है सरकार जिन मुद्दों को लेकर बनी संघर्षशील है जिस मुद्दों से बनी वह सही है दो राय नहीं है अब सरकार धरातल पर है सरकार इन दंगों को रोकने में नाकाम रही है सरकार अगर ठीक से काम कर रही होती तो यह दंगा नहीं दिखता एक शांति से तिरंगा यात्रा होती लेकिन तिरंगा यात्रा के दौरान एक समुदाय ने तिरंगा यात्रा को रोकने की कोशिश की और पत्थरबाजों की गोलीबारी की चंदन गुप्ता शहीद हो गए। मारे गए।

रमेश ठाकुऱः क्या आपको लगता है कि सरकार ठीक से काम नहीं कर रही है। अगर काम ठीक होता दंगे नहीं होते यात्रा सुचारु रुप से शांति से निकलती आप जैसे संगठन वाले हिन्दूत्व की रक्षा के लिए हैं। फिर कैसे हो सकता है ऐसा
विष्षु गुप्ताः ऐसा है हिंदू की रक्षा की ठेकेदारी सिर्फ हमारी नहीं है हर एक व्यक्ति की राष्ट्रीय और हिंदुत्व की रक्षा की जिम्मेदारी है चंदन गुप्ता राष्ट्रवादी है वह भारत धव्ज को लेकर निकल रहा था उन गोलीबारी में मारा गया दंगे में मारा गया है। हो सकता है कि वो सरकार को ठीक से कामना करने ना दे रहे हो कुछ लोग रणनीति बना रहे हो अगर दंगा हुआ तो सरकार ठीक से काम नहीं करेगी। यह वो सरकार का विषय है सरकार विषय पर जांच करें कि कौन श्री इसके पीछे है कौन देश में संप्रदाय हिंसा फैला रहा है उसका चेहरा सामने आना चाहिए सरकार जांच करें

रमेश ठाकुरः आपको लग रहा है कि सरकार सही काम कर रही
विष्णु गुप्ताः सर ऐसा है सरकार संघर्षशील है जिस मुद्दों से बनी को सही अधूरा नहीं है अब सरकार धरातल पर है सरकारी इन को रोकने में नाकाम रही है सरकार अगर ठीक से काम कर रही तो यह दिखता भी।

‌रमेश ठाकुरः हमारा काम है इंफॉर्मेशन देना इसलिए हम आपके साथ में चर्चा कर रहे हैं क्यों आप जैसे लोग शांत हॆ
विष्णु गुप्ताः हमारे जैसे लोग कोई शांत नहीं है हिंदूवादी जो लोग हैं वह सभी लोग कार्यकर्ता वहां पर पहुंची पुलिस उनको रोक रही है और जो लोग कहते हैं कि मैं यहां यह बात कर रहा हूं जिस प्रकार से अखलाक के समय में जो सेकुलर नेता वहां पहुंचे थे और आज चंदन गुप्ता के समय में भारतीय जनता पार्टी जो हिंदुत्ववादी जो राष्ट्रवादी नेता अपने आप को राष्ट्रवादी कहते हैं वह आज क्यों नहीं जा रहे हो वह क्यों डर रहे हैं वहां जाने में क्योंकि वहां आज उनकी अपनी सरकार है डर किस बात का जब उनकी अपनी सरकार को जाने में क्या दिक्कत है वह क्यों नहीं जाते क्यों नहीं चंदन गुप्ता के परिवार से मिलते। कौनसा दिल्ली से बड़ा नेता बीजेपी का वहां गया। कौन सा नेता उनकी फैमिली से मिला चंदन गुप्ता की फैमिली से मिला। जाकर कोई नहीं मिला। वहां लेकिन जब अखलाक का मैटर था तो दिल्ली के कई नेताओं के नाम बता दूंगा जो वहां जाकर अखलाक से मिले। तकरीबन एनजीओ के लोग थे सामाजिक कार्यकर्ता तो आज क्यों नहीं समाज कार्यकर्ता आज क्यों नहीं पहुंच रहे राष्ट्रवादी लोग इसमें एक पहलू यह भी निकल कर आ रहा है यह कुछ लोगों ने सिर्फ एक ड्रामा रचा है जबकि सच्चाई इसमें कुछ नहीं है वह कहते थे कि तिरंगा यात्रा निकल रही थी उसमें मुसलमान भी शामिल थे और मस्जिद से लोग निकल रहे थे लेकिन कुछ लोग ऐसे थे बीच में ड्रामा रचा है कितना ख्याल रखते हैं इस बात से ऐसा है हम लोग दिल्ली रहते हैं वहां लोकल लोगों से भी बात हुई है लोकल लोगों ने ऐसा कुछ नहीं बताया है कि इसके पीछे पहले क्या शरीर था उन्होंने यह बताया कि यह आपका सुचारु रुप से चल रही थी। कुछ असामाजिक तत्व भारतीय ध्वज को भी देखने के लिए तैयार नहीं थे। उन्होंने यात्रा पर हमला किया और दंगा भड़का। जिसके कारण यह सब आज पूरे देश में और विश्वास का एक समुदाय के प्रति ज्यादा है । वह ठीक नहीं है इस में जांच होनी चाहिए। यह सरकार की जिम्मेदारी है। लोग आरोप लगाएंगे और हमें भी हम भी इसमें सोच सकते हैं कि इसमें कहीं जो अन्य पार्टी है जो विपक्षी पार्टी है उनका भी रोल हो सकता है । यह जांच का विषय है जांच होनी चाहिए। जिन लोगों के नाम बताए जा रहे हैं उनको गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ करें।

रमेश ठाकुरः विष्णु गुप्ता राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं हिंदू सेना की यह सालों से हिंदू की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं इनका संगठन पूरे देश में काम कर रहा है जहां कहीं भी सांप्रदायिक दंगा कुछ भी होता है यह लोग उस को समझाने की कोशिश करते हैं । पुलिस इनको इनका जो आरोप है कि पुलिस हमें परेशान करती हैं सरकारी हमें परेशान करती हैं। अभी चाहे पद्मावती को लेकर काटना ह विरोध करना हो तो उसमें भी विष्णु गुप्ता को दिल्ली पुलिस ने 2 दिन तक कस्टडी में रखा सबसे पहला सवाल यह है कि हिंदुत्व की रक्षा करने के लिए सरकार केंद्र में है यह हमारा कहना नहीं है सरकार खुद कहती है कि हम हिंदू की रक्षा करेंगे और हिंदुओं के ऊपर ही जब इस तरह की घटनाएं देश में घटने लगी है उसका जिम्मेदार हम किसको ठहराए है जनता को आप को मीडिया को किस को

विष्णु गुप्ताः जब राष्ट्रवादी सरकार भाजपा की सरकार नहीं थी तो केंद्र में बैठी सरकार को दोष देते थे वहां गया कौन सा नेता उनके सामने से मिला चंदन गुप्ता की सामने मिला जाके कोई नहीं मिला लेकिन दिल्ली की कई नेताओं के नाम पता दूंगा शुभ जाकर खिलाफ से मिले सभी पार्टी वाले । राष्ट्रवादी किसने के लिए भी निकल कर आ रहा है यह कुछ लोगों ने सिर्फ इस्लाम को बचाओं बकि सच्चा इसमें कुछ नहीं है तथा कि वहां दंगा हो रहा है हिंदू मारे जा रहे हैं मूवी रिलीज हो रही है जिसमें राजपूत समुदाय का कब एकेशन है राजपूत पूर्वज राजपूत महिलाएं पूरे हिंदू समुदाय के लोग सड़कों पर आ गए। यह राष्ट्रवादी सरकार हाथ पर हाथ रख कर बैठी है कि सेंसर बोर्ड इन के अंदर आता है कुछ नहीं किया सुप्रीम कोर्ट ने बोला उसमें तो सरकार सुप्रीम कोर्ट में भी मूव नहीं की। तो यह सारे मुद्दों को लेकर अविश्वास की भावनाएं पैदा हो रही है । अगर सब कुछ ऐसा चलता रहा तो इनको 2019 में लोकसभा चुनाव में खामियाजा भुगतना पड़ेगा। दूसरे चरण में आने के लिए सरकार हम सब पर रहम कर रहे हैं लेकिन इस तरीके के मामले उनके ऊपर कोई काम नहीं हो रहा।य़ राम मंदिर बनेगा सरकार बनाएंगे सुप्रीम कोर्ट का आदेश होगा तो बनाएंगे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश धारा 370 नरेंद्र मोदी पीएम बनेंगे लेकिन बीजेपी सरकार नहीं होगी एनडीए सरकार होगी

रमेश ठाकुरः सरकार से आप क्या चाहते हो सरकार ने जो मुद्दे सरकार जनता के आगे रखें हिंदुओं के आगे रखे राष्ट्र के आगे रखे। मंदिरों के आगे रखे। उन मुद्दों को लेकर सरकार आगे चले देश में हिंदू सुरक्षित होना चाहिए। सुरक्षित मुसलमान भी होना । मुसलमान देश का पार्ट हैं उनको बेगाना नहीं कर सकते। हम ऐसा कर क्यों रहे कि हिंदू मुस्लिम आपस में लड़ रहे हैं
विष्णु गुप्ताः कानून मुसलमानों के लिए भी वही है हिंदुओं के लिए भी वही है बहुत सारे कानून मुस्लिम नहीं मानते लेकिन यह हिंदूवादी सरकार राष्ट्रवादी सरकार है लेकिन हिंदू अपने हिंदुओं की सुरक्षा रक्षा का वादा किया था। आपने और आपकी सरकार में हिंदुओं की हत्या की जा रही है यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है रक्षा का वादा तो दोनों धर्मों के लिए किया गया था वादा यह नहीं होता कि हम आपस में दोनों धर्मों को लड़ाएंगे लड़ाने वाले व्यक्ति कौन है और ऐसा क्यों कर रही है सरकार उनके खिलाफ कार्यवाही कार्यवाही करें जो लड़ाई करवा रहे हैं उनको गिरफ्तार करें अपने जो छवि को सुधारने की कोशिश करें हमने जो वादा किया था चुनाव में राम मंदिर धारा 370 मुद्दे पर जा चुके हैं और हिंदू महाराजा रहा है चंदन गुप्ता मारे गए कोई मदद नहीं की जा रही है। कुछ नहीं किया जा रहा चंदन गुप्ता कोई और नहीं अपने संगठन का एबीवीपी कार्यकर्ता विद्यार्थी परिषद का कार्य करता था। अपने लोगों के लिए खड़े नहीं हो रहे तो यह लोग अन्य के लिए खड़े होंगे।

रमेश ठाकुरः बहुत बड़ा सवाल है विष्णु गुप्ता का सीधा आरोप है सरकार के ऊपर सरकार काम नहीं करेंगी तो यह सरकार पर भारी पड़ेगा। खैर विष्णु गुप्ता जी का बहुत बहुत धन्यबाद जिन्होंने अपना कीमती वक़्त हमे दिया।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar