ब्रेकिंग न्यूज़

INDvSA: डुप्लेसिस पर भारी कोहली का शतक, भारत ने जीता पहला वनडे

डरबन। कप्तान विराट कोहली के शतक (112) की मदद से भारत ने गुरुवार को दक्षिण अफ्रीका को पहले वनडे में 6 विकेटों से हरा दिया। कप्तान फॉफ डु प्लेसिस के शतक (120) की मदद से द. अफ्रीका ने 8 विकेट पर 269 रन बनाए। जवाब में भारत ने विराट और अजिंक्य रहाणे (79) के बीच हुई रिकॉर्ड साझेदारी की मदद से लक्ष्य को 27 गेंद शेष रहते 4 विकेट खोकर हासिल कर लिया। यह भारत की डरबन में वनडे में पहली जीत है। इस जीत के साथ भारत ने 6 मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई। इस जीत के साथ ही भारत आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंच गया।

किंग्समीड पर पहली जीत: यह भारत की डरबन के किंग्समीड मैदान पर पहली जीत रही। इससे पहले भारत इस मैदान पर 7 मैच खेल चुका था जिनमें से 6 मैचों में उसे हार मिली थी जबकि 1 मैच बेनतीजा रहा था। भारत को इस मैदान पर पहली जीत के लिए 26 साल का लंबा इंतजार करना पड़ा।

रोहित ने 2 चौकों और 1 छक्के की मदद से 20 रन बना लिए थे, लेकिन वे मॉर्केल की गेंद को हवा में खेल बैठे और विकेटकीपर डी कॉक ने आसान कैच लपका। मॉरिस की गेंद को धवन ठीक से खेल नहीं पाए और नॉन स्ट्राइकर छोर से विराट दौड़ते हुए उनकी तरफ आ गए। धवन को रन के लिए दौड़ना पड़ा और ऐडन मार्करैम के थ्रो पर धवन रन आउट हुए। उन्होंने 35 रन बनाए। इसके बाद विराट को रहाणे का साथ मिला और दोनों ने पारी को संभाला। विराट ने इमरान ताहिर की गेंद पर एक रन लेते हुए 46वां अंतरराष्ट्रीय वनडे अर्द्धशतक पूरा किया। इसके बाद रहाणे ने अपना 24वां अर्द्धशतक पूरा किया। यह उनका लगातार पांचवां अर्द्धशतक है।

कोहली ने फेहलुकवायो की गेंद पर चौका लगाकर शतक पूरा किया। यह उनका द. अफ्रीका के खिलाफ दूसरा तथा कुल 33वां वनडे शतक है। यह उनका द. अफ्रीका में पहला शतक है। उन्होंने इसके लिए 105 गेंदों में 9 चौके लगाए। फेहलुकवायो की गेंद पर रहाणे ने ताहिर को कैच थमा दिया। उन्होंने 86 गेंदों में 5 चौके और 2 छक्के लगाए। उन्होंने विराट के साथ तीसरे विकेट के लिए 189 रनों की साझेदारी की। उन्होंने इससे पहले राहुल द्रविड़ और सचिन तेंडुलकर के बीच बेलफास्ट में 2007 में हुई 158 रनों की साझेदारी के रिकॉर्ड को तोड़ा। विराट 112 रन बनाने के बाद फेहलुकवायो के शिकार बने। महेंद्रसिंह धोनी 4 और हार्दिक पांड्‍या 3 रन बनाकर नाबाद रहे।

इसके पूर्व दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। हाशिम अमला 16 रन बनाकर बुमराह की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हुए। डी कॉक अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन चहल ने उन्हें एलबीडब्ल्यू किया। वे 34 रन बनाकर आउट हुए। कुलदीप की गुगली को जेपी डुमिनी (12) समझ नहीं पाए और बोल्ड हो गए। अभी मेजबान टीम इस सदमे से उबरी भी नहीं थी कि कुलदीप ने डेविड मिलर (7) को विराट के हाथों झिलवाया।

134 रनों पर 5 विकेट की विषम स्थिति के बाद प्लेसिस को क्रिस मॉरिस का साथ मिला और दोनों ने कुछ हद तक पारी को संभाला। मॉरिस 4 चौकों और 1 छक्के की मदद से 37 रन बनाने के बाद कुलदीप की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में बोल्ड हुए। उन्होंने प्लेसिस के साथ 74 रनों की साझेदारी की। प्लेसिस ने बुमराह की गेंद पर सिंगल लेते हुए शतक पूरा किया। उन्होंने 101 गेंदों में 11 चौकों की मदद से शतक पूरा किया। यह उनका वनडे में नौवां शतक है। प्लेसिस 112 गेंदों में 11 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 120 रन बनाने के बाद भुवनेश्वर के शिकार बने। उन्होंने पांड्‍या को कैच थमाया। एंडिले फेहलुकवायो 27 और मोर्ने मॉर्केल बगैर खाता खोले नाबाद रहे। भारत की तरफ से कुलदीप यादव सबसे सफल गेंदबाज रहे, उन्होंने 34 रनों पर 3 विकेट लिए। चहल ने 45 रनों पर 2 विकेट लिए।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar