ब्रेकिंग न्यूज़

लेफ्ट बनाम राइट में विकास की जीत

भाजपा ने एक बार फिर से चमत्कार कर दिया है। देश में एक बार फिर से मोदी लहर की धमक सुनाई दी है। और इस बार ये मोदी मैजिक पूर्वोत्तर भारत में दिखी है, जहाँ भाजपा ने कांग्रेस और वामदलों का सूपड़ा साफ कर खुद को सत्ता पर काबिज कर लिया है। दरासल पूर्वोत्तर भारत में ऐसा पहली बार हो रहा है जब यहां के अधिकतर राज्यों में कांग्रेस सत्ता से बेदखल हो गई है और पूरे पूर्वोत्तर भारत में भाजपा ने अपनी सरकार बना ली है। भारत के चुनावी इतिहास में यह भी पहली बार हो रहा है जब माकपानीत वाम दल सत्ता से बाहर हो गई है और देशभर से इनका सूपड़ा ही साफ हो गया है। ऐसे में त्रिपुरा की यह हार वामपंथी विचारधारा के लिए एक गंभीर खतरा है, क्य़ोंकि पीछले चंद वर्षों से देशभर में वामपंथ और राष्ट्रवाद की विचारधारा के बीच एक अघोषित अन्तर्द्वंद चल रहा है और ऐसे समय में त्रिपुरा का यह नतीजा वामपंथियो को निराश करनेवाला है क्योंकि वामपंथ का गढ़ कहे जानेवाले प्रदेश के नागरिकों विशेषकर राज्य के युवाओं ने वामपंथी विचारधारा को सिरे से खारिज कर भाजपा समर्थित राष्ट्रवाद की विचारधारा पर अपना विश्वास जताया है। और यह वामपंथियों के लिए बड़ी हार है।

दरासल 60 सीटवाले त्रिपुरा विधानसभा के चुनाव में भाजपा ने 50 सीटों पर चुनाव लड़ा और बाकी के नौ सीट उसने अपने सहयोगी इंडीजेनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा के लिए छोड़ दी थी। और इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और उसकी गठबंधन पार्टी पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा ने 43 सीटें जीतकर पहली बार प्रदेश में सरकार बनाने का करिश्मा कर दिखाया है। राज्य में सत्तारूढ़ मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेतृत्व में वाममोर्चा बुरी तरह से हार गई है। भारतीय जनता पार्टी+ के 43 सीटों के मुकाबले वाममोर्चा को सिर्फ 16 सीटें ही मिल पाई हैं, जो वामपंथ के लिए एक बड़ी शिकस्त है। चूंकि त्रिपुरा में मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की अगुवाई वाली वाम मोर्चा ही अब तक की सबसे बड़ी पार्टी थी और वह पीछले 25 सालों से सत्ता पर काबिज थी। इन सबके बीच वाममोर्चा के लिए जो सबसे अहम बात थी वह थे 20 सालों से त्रिपुरा के मुख्यमंत्री रहे माणिक सरकार। जिन्हें अबतक का देश का सबसे इमानदार मुख्यमंत्री माना जाता रहा है। और इतने वर्षों में विपक्ष के पास ऐसा कोई भी नेता नहीं था जो माणिक सरकार से मुकाबला कर सके। पर भारतीय जनता पार्टी ने मोदी के सहारे यह कारनामा कर दिखाया और मोदी बनाम माणिक के नारों से त्रिपुरा पर फतह हासिल कर ली।

भाजपा की इस जीत का एक मुख्य कारण चुनाव में मतदाताओं का बढ़चढ़कर हिस्सा लेना भी है। दरासल इसबार त्रिपुरा के विधानसभा चुनाव में रेकॉर्ड 92 फीसदी से अधिक मतदान हुआ है। इस चुनाव प्रदेश के लगभग 92% मतदाताओं ने वोट डालकर देश के चुनावी इतिहास में एक रिकॉर्ड बना दिया था। जिसका परिणाम प्रदेश में एक बड़े बदलाव के रूप में सामने आया है। माणिक सरकार की यह विदाई देश की सत्ता पर काबिज पार्टियों के लिये भी एक कड़ा संदेश है।उन्हें अब समझना होगा कि देश की जनता पहले के मुकाबले अधिक जागरूक हो रही है और ऐसे में उन्हें जनता के हितों को ध्यान में रखकर कार्य करना होगा। अब देश की नीतियां जनता के हितों को ध्यान में रखकर बनानी होंगी। जनता को नजरंदाज कर कोई भी पार्टी अब सत्ता में बनी नहीं रह सकती फिर उनके पास कितना भी बड़ा चेहरा क्यों न हो। देश की जनता अब पार्टी, नेता और सड़े-गले विचारधाराओं से उपर उठकर जनता को महत्व देनेवालों को चुन रही है। 2014 के आम चुनाव के बाद से ही देशभर में चल रही सत्ता परिवर्तन उसी की झलक है।

त्रिपुरा उत्तरपूर्वी राज्यों में अपेक्षाकृत शांत राज्य माना जाता है। लेकिन पिछले दिनों राज्य में बढ़ी आपराधिक गतिविधियों ने यहां की जनता में कानून व्यवस्था के खिलाफ काफी रोष पैदा कर दिया था इसके अलावा प्रदेश में उद्योग का अभाव है। यहां की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है और ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगार युवाओं की एक बड़ी फौज है जो बेरोजगारी से मुक्ति चाहती है। साथ ही लोग अब धर्म और जातपात की राजनीति से भी निजात पाना चाहते हैं और यही वजह है कि इसबार पूर्वोत्तर की जनता ने व्यवस्था परिवर्तन को ध्यान में रखकर वोट किया। जिसके फलस्वरूप पूर्वोत्तर भारत कांग्रेस के साथ-साथ वामपंथ से भी मुक्त हो गया। यहां एक बात ध्यान देने योग्य है कि भारत की जनता ने मोदी के कांग्रेस मुक्त भारत के आह्वान को अत्यंत ही गंभीरता ले लिया है और त्रिपुरा की जनता ने भी वामपंथ मुक्त त्रिपुरा के आह्वान को अपना पूर्ण समर्थन दिया। और इसका मुख्य कारण है उक्त पार्टियों द्वारा जनता के हितों को नजरंदाज किया जाना। एक लंबे समय से देश एवं प्रदेश की सत्ता पर काबिज उक्त पार्टियों ने जनता की जरूरतों को दरकिनार कर व्यक्ति और पार्टी को प्रमुखता दी और इसी का नतीजा है कि आज जनता ने मोदी पर अपना भरोसा जताते हुए उपरोक्त पार्टियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। पूर्वोत्तर राज्यों के यह चुनाव परिणाम मोदी के न्यू इंडिया के सपनों को जनता का समर्थन के तौर पर देखा जाना चाहिए।

मुकेश सिंह, असम (भारत)

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar