ब्रेकिंग न्यूज़

घर से भागकर बच्चा ‎दिल्ली के एयरपोर्ट पहुंचा

पु‎लिस ने रात को साढ़े 12 बजे छात्र को एयरपोर्ट से बरामद कर मां-बांप को सौंप ‎दिया
फरीदाबाद । मां-बाप से नाराज 7वीं कक्षा में पढ़ने वाला एक छात्र शुक्रवार शाम को घर से भागकर दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर पहुंच गया। जहां पर उसने अपनी मां के क्रेडिट कार्ड से बेंगलुरू जाने के लिए टिकट बुक करा लिया। जिसका मैसेज उसकी मां के मोबाइल पर आ गया। बेटे के लापता होने से परेशान मां-बाप ने जैसे ही मेसेज देखा। उन्होंने इसकी जानकारी पुलिस को दी। इसके बाद घरवाले और पुलिस छात्र तक पहुंच गए और देर रात उसे सुरक्षित घर ले आए। पुलिस के अनुसार सेक्टर-3 में लड़के का परिवार रहता है और पिता निजी कंपनी में नौकरी करते हैं। 12 साल का यह लड़का एक प्राइवेट स्कूल में 7वीं का छात्र है। शुक्रवार दोपहर बाद 2 बजे स्कूल से छुट्टी होने के बाद छात्र अपने घर आ गया। खाना खाने के बाद वह स्कूल का होमवर्क करने लगा। शाम को करीब साढ़े 5 बजे छात्र के मां-बाप मार्केट के लिए निकल गए। साढ़े 6 बजे जब वह वापस लौटे तो घर का सामान फैला हुआ मिला। इस पर उन्हें चोरी का शक हुआ।
रात करीब साढ़े 9 बजे छात्र की मां के मोबाइल पर एयर टिकट बुकिंग का मेसेज आया। जिसमें क्रेडिट कार्ड से छात्र के नाम से बेंगलुरू की टिकट बुकिंग की गई। सूचना पर पुलिस ने तत्काल एयरपोर्ट अधिकारियों से संपर्क साध छात्र के बारे में बताया। इस जानकारी के बाद पुलिस टीम मां-बाप को लेकर दिल्ली रवाना हो गई। रात को साढ़े 12 बजे छात्र को एयरपोर्ट से बरामद कर लिया गया। छात्र के पास से स्कूल बैग के अलावा माता-पिता के क्रेडिट कार्ड व आधार कार्ड सहित कुछ पैसे भी मिले। परिजनों ने रात को 8 बजे पुलिस चौकी सेक्टर-3 में शिकायत दे दी। शिकायत के बाद सेक्टर-3 पुलिस चौकी इंचार्ज रामनाथ पुलिस टीम के साथ बच्चे की खोज में निकल पड़े। रात को 8 बजे छात्र की साइकल आगरा नहर किनारे पर पड़ी मिल गई। साइकल को नहर किनारे पर देख पुलिस और परिवारजनों के होश फाख्ता हो गए। इस पर काफी देर तक बच्चे को नहर में तलाश किया। एसीपी बलवीर सिंह ने बताया ‎कि बच्चे ने पूछताछ में इतना बताया कि वह अपने मां-बाप से नाराज था। इसलिए बेंगलुरु जा रहा था। वहां पर उसकी मौसी रहती है, लेकिन वह कहीं और जाता। वह मेट्रो से बल्लभगढ़ से दिल्ली गया था। फिलहाल बच्चे को मां-बाप को सौंप दिया गया है।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar