National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

प्रद्युम्न हत्याकांड में नया मोड़, हेल्पर के अलावा दूसरा भी था शामिल

गुरुग्राम। रेयान इंटरनेशनल स्कूल के छात्र प्रद्युम्न की हत्या मामले में नया मोड़ आया है। इस घटना की जांच के लिए गठित एसआईटी ने माना है कि स्कूल में सुबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई है और प्रद्युम्न की हत्या में किसी एक अन्य शख्स की भी भूमिका संभावित है।
इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अन्य हत्यारा संभवतः वारदात को अंजाम देने के बाद शौचालय की टूटी खिड़की के रास्ते से भाग गया। उधर, पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हो गई है कि प्रद्युम्न का यौन शोषण नहीं हुआ था। खबर लिखी थी कि प्रद्युम्न के साथ यौन शोषण नहीं हुआ है।

इस बीच स्कूल की निलंबित प्रिसिंपल नीरजा बत्रा से पुलिस ने मंगलवार को दो घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ की है। नीरजा ने पुलिस को बताया कि वह तमाम मुद्दों पर मेल द्वारा, फोन पर निदेशक को कहती रही लेकिन प्रबंधन ने कभी उनकी बातें नहीं मानी। उन्होंने साक्ष्य भी पेश किये। पुलिस का कहना है कि नीरजा को गिरफ्तार नहीं किया गया है और वह जांच में सहयोग कर रही हैं। जरूरत पड़ी तो उनसे पूछताछ की जाएगी।

गौरतलब है कि नीरजा को सोमवार को पुलिस ने नोटिस देकर बुलाया था, लेकिन तबीयत खराब होने के चलते वह पूछताछ के लिए नहीं गईं थी। प्रद्युम्न की हत्या के बाद नीरजा को स्कूल प्रबंधन ने निलंबित कर दिया था।

नेताओं पर बरसे प्रद्युम्न के पिता : प्रद्युम्न के घर पर मंगलवार को बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी और राज्यसभा के सदस्य शरद यादव सांत्वना देने पहुंचे। सांत्वना देने हरियाणा प्रदेश कांग्र्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर भी पहुंचे। प्रद्युम्न के पिता वरुण चंद ठाकुर ने शरद यादव और जीतनराम मांझी को खूब सुनाया। ठाकुर का कहना था कि स्कूलों में बच्चा सुरक्षित नहीं है, स्कूल वाले अपनी मनमानी कर रहे हैं तो इसके पीछे आप (राजनेता) जैसे लोग हैं जो किसी न किसी स्कूल के साथ जुड़े रहते हैं और प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं करता। आप लोगों को इस पर ध्यान देना होगा क्योंकि आज मेरा बच्चा गया है, कल किसी और का बच्चा खत्म हो जाएगा।

बच्चे के साथ गलत हरकत करने का प्रयास किया गया होगा, मगर उसके साथ कुछ गलत नहीं हुआ। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में किसी तरह के यौन शोषण की बात नहीं है।

नीरजा हमारे पास दोपहर करीब एक बजे पहुंची थी। हमने सवा दो घंटे तक पूछताछ की। उनकी ओर से जो कहा गया, उसके साक्ष्य भी दिखाए गए। लिहाजा अभी उन्हें अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है।

-धारणा यादव, एसीपी व एसआईटी की सदस्य

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar