ब्रेकिंग न्यूज़

मिलिये आगामी शो ‘आदत से मजबूर‘ के जुगाड़ू जेडी उर्फ ऋषभ चड्ढा से

सोनी सब अपनी नई आॅफिस काॅमेडी ‘आदत से मजबूर’ लेकर आ रहा है। प्रतिभाशाली अभिनेता ऋषभ चड्ढा, जमनादास धीरूभाई मजीठिया की भूमिका निभा रहे हैं, जिसे प्यार से जेडी बुलाते हैं। जेडी एक होशियार इंसान है, जिसे हमेशा पैसे कमाने का शाॅर्टकर्ट मिल जाता है। जेडी ‘सिटी चक्कर’ मैगजीन के लिये सेल्स पर्सन के रूप में काम करता है। उनसे हुई संक्षिप्त बातचीत प्रस्तुत है।

इस शो का हिस्सा बनने पर कैसा महसूस हो रहा है?
‘आदत से मजबूर’ का हिस्सा बनने पर बहुत ही अच्छा महसूस हो रहा है, क्योंकि काॅमेडी में सब टीवी काफी ऊंचाइयों पर पहुंच चुका है। हम कलाकार अपनी काॅमिक टाइमिंग को दुरुस्त करने के लिये बहुत मेहनत करते हैं। इस शो के कलाकार और क्रू काफी बेहतरीन हैं। सेट का माहौल बड़ा पाॅजिटिव रहता है, जिसकी वजह हम सारे कलाकार प्रोत्साहित होते रहते हैं।

आप अपने किरदार के बारे में क्या कहना चाहेंगे?
मेरे किरदार का नाम जेडी है, जो छोटे शहर में रहने वाला व्यक्ति है। वो अमीर लोगों के ग्रुप में रहता है, लेकिन वो खुद अमीर नहीं है। वो काफी चालाक है। जेडी का मानना है कि जीवन में पैसा सबसे ज्यादा अहम होता है। वो शाॅर्टकट से पैसे कमाना चाहता है, जोकि किसी अमीर व्यक्ति की इकलौती बेटी से शादी है। जेडी थोड़ा आलसी भी है, इसलिये उसे हर चीज में देर हो जाती है।

क्या आप खुद को जेडी से जोड़ पाते हैं?
कलाकार को हर उस किरदार से जुड़ना पड़ता है, जिसे वो निभा रहा है, ताकि वो उसे महसूस कर सके और उससे जुड़ पाये। इसी तरह जेडी और ऋषभ दो अलग-अलग लोग हैं, लेकिन एक चीज है जो दोनों को जोड़ती है, वो ये कि दोनों ही बहुत होशियार हैं। यदि मैं अपने किरदार से नहीं जुड़ता हूं तो मुझे कहना पड़ेगा कि मैं जेडी के उलट हूं।

इस शो के लिये आपको किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा?
हर निर्देशक के काम करने का अपना तरीका होता है। शुरुआत में एक कलाकार के तौर पर अपने निर्देशक के साथ तालमेल बिठा पाना मुश्किल था। मैंने पहले जिस तरह काम किया है, उनके काम करने का तरीका बिलकुल ही अलग है। समय के साथ मैंने उनके साथ सामंजस्य बिठा लिया। लेकिन, हां ये चुनौतियां एक इंसान के तौर पर और बतौर अभिनेता बेहतर बनाती हैं।

‘आदत से मजबूर’ में ऋषभ चड्ढा को जेडी के रूप में देखिये, 3 अक्टूबर से, सोमवार-शुक्रवार, शाम 7.30 बजे, केवल सोनी सब पर!

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar