ब्रेकिंग न्यूज़

ऐसा समाज जहाँ ‘मौत’ के बाद भी जिन्दा रहते है लोग

इस दुनिया में बहुत विविधताएं हैं। अलग-अलग किस्‍म के लोग, समाज और उनके रीति रिवाज यहां देखने को मिलते हैं।
शादी से लेकर मृत्‍यु तक के अपने अनुष्‍ठान हैं। हम आपको एक ऐसे समुदाय के बारे में बता रहे हैं जहां मृतकों को कभी मृत नहीं माना जाता।
यह अजीब परंपरा इंडोनेशिया की है। यहां टोराजान समुदाय के लोग हर साल अपना पर्व मानीने मनाते हैं।
इसमें वे अपने मृत रिश्‍तेदारों, परिजनों के शवों को उनकी कब्र में से खोदकर निकालते हैं। उन्‍हें नए कपड़े पहनाते हैं।
इसके बाद उन्‍हें पूरे गांव में एक जुलूस के रूप में निकाला जाता है। कपड़े पहनाने से पहले इन शवों को नहलाया भी जाता है। वे इनके लिए सिगरेट भी लाते हैं।
स्‍थानीय लोगों का विश्‍वास है कि यह उत्‍सव एक प्रकार से जीवन का उत्‍सव है।
इसे मनाने से मृतकों के साथ आपके अच्‍छे संबंध स्‍थापित होते हैं। वे ये भी मानते हैं कि जब भी वे मृतकों का ध्‍यान रखते हैं, मृतात्‍माएं उन्‍हें आर्शीवाद देती हैं।
इतना ही नहीं, वापस दफनाने से पहले कुछ लोग तो अपने प्रियजनों के शवों को काफी दिनों तक अपने घरों में संभालकर रखते हैं।
यह अजीब परंपरागत त्‍योहार बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। इसे मनाने के पीछे यह धारणा है कि मृतकों का इस प्रकार सम्‍मान करने से उस वर्ष अच्‍छी फसल आएगी और सुख-समृद्धि फैलेगी।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar