ब्रेकिंग न्यूज़

एनरैंसमवेयर: हैकर्स को फ़िरौती में रकम नहीं नंगी तस्वीरें चाहिए

सायबर सुरक्षा क्षेत्र से जुड़ी कंपनी मालवेयर हंटर ने एनरैंसमवेयर वायरस का पता लगाया है. ये वायरस रैंसमवेयर की तरह काम करता है. हालांकि, रैंसमवेयर कंप्यूटर के बदले फ़िरौती की मांग करता है. वहीं, ये वायरस नंगी तस्वीरों की मांग करता है.

कैसे हमला करता है ये वायरस
शोधकर्ताओं के मुताबिक़, वायरस अटैक के बाद कंप्यूटर में एंट्री ब्लॉक हो जाती है. ऐसे में जब आप कंप्यूटर खोलेंगे तो आपको हैकर्स का एक संदेश दिखाई देगा. ये संदेश कहता है, “आपका कंप्यूटर लॉक किया गया है जिसे आप एक ख़ास कोड से खोल सकते हैं.” स्क्रीन पर जारी मैसेज़ में एक ईमेल एड्रेस भी शामिल है.

इसके साथ ही स्क्रीन पर ये लिखा आता है…
“हम तुरंत प्रतिक्रिया नहीं देंगे, लेकिन जब हम प्रतिक्रिया देंगे तो आपको अपनी 10 न्यूड तस्वीरें भेजनी होंगी. इसके बाद आपको ये साबित करना होगा कि ये आपकी ही तस्वीरें हैं. इसके बाद हम आपको अनलॉक कोड देंगे.”
लेकिन एनरैंसमवेयर यहीं तक सीमित नहीं है. हैकर्स ने अपने मैसेज़ में ये भी लिखा है कि अनलॉक कोड देने के बाद वे आपकी न्यूड तस्वीरों को डीप वेब में बेच देंगे. मालवेयर की जांच करने वाले वायरस टोटल और हायब्रिड एनालिसिस जैसे टूल्स ने एनरैंसमवेयर वायरस की फ़ाइल एनरैंसम.ईएक्सई को बेहद ख़तरनाक श्रेणी में रखा है.

कैसे बचें साइबर अटैक से?
सायबर सुरक्षा विशेषज्ञ जॉन स्नो बताते हैं कि ये वायरस आपके कंप्यूटर की फ़ाइलों को लॉक नहीं करता है बल्कि कंप्यूटर में एंट्री को ही बंद कर देता है.
एक रूसी फर्म के मुताबिक़, इस समय ये वायरस विंडोज़ यूज़र्स को प्रभावित कर रहा है. स्नो बताते हैं कि इस समय न्यूड तस्वीरों को लेकर हैकरों के प्लान के बारे में सिर्फ़ कयास लगा सकते हैं लेकिन वे शायद इनसे अपने पीड़ितों को शर्मिंदा करेंगे और धन-उगाही करेंगे.

ब्लेकमेल के बाद क्या करें
स्नो के मुताबिक़, सायबर अटैक होने पर भी आपको हैकर को किसी तरह की फ़िरौती नहीं देनी चाहिए जिसमें आपकी निजी जानकारी और तस्वीरें भी शामिल हैं.
केस्पार्की कंपनी की वेबसाइट बताती है कि फ़िरौती देने के बाद भी इसकी कोई गारंटी नहीं होती है कि आपको आपका सिस्टम वापस मिल जाएगा.

सायबर अटैक से कैसे बचें
विशेषज्ञों के मुताबिक़, अटैक के बाद आपको अपने सिस्टम को कंट्रोल + ऑल्ट + शिफ़्ट + एफ़ 4 कमांड को लगातार इस्तेमाल करके अनलॉक करना चाहिए.
इसके साथ ही अपने आईपी एड्रेस को छुपा कर रखें और किसी भी अंजान लिंक या बटन पर क्लिक ना करें. अगर आपका कंप्यूटर वायरस से प्रभावित है तो इसे नेटवर्क से हटाकर बंद करें.

 

Print Friendly, PDF & Email
Tags:

Leave a Reply

Translate »
Skip to toolbar