ब्रेकिंग न्यूज़

Category: आर.के. सिन्हा

Total 37 Posts

पाक में क्यों बलूचिस्तान हो गया पंजाबी विरोधी

पाकिस्तान में विगत दिनों अशांत बलूचिस्तान सूबे में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक राजमार्ग पर एक बस से यात्रियों को जबर्दस्ती उतार कर उनमें से 14 की गोली मार कर हत्या

आज़म को चुनाव से बाहर करे चुनाव आयोग

जिस बात को लेकर मन में भय था वह लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान दिखाई देने लगी है। अभी तो चुनाव प्रचार को काफी समय तक चलना है I पर

सांसद बनने की फिराक मेंसेना को बलात्कारी कहने वाला कन्हैया

कन्हैया कुमार अब बिहार की बेगूसराय सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहा है। वो भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) का उम्मीदवार है। यह वही कन्हैया कुमार है, भारतीय सेना को बलात्कारी

तो नाम लेवा तक नहीं रहेगा लेफ्ट दलों का

लेफ्ट पार्टियों को लेकर इस चुनावी माहौल के कोलाहाल में किसी तरह की कोई खास हलचल सामने नहीं आ रही है। हां, बिहार में बेगूसराय से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(भाकपा) ने

तो क्या मारे जाते रहेंगे ईमानदार सरकारी कर्मचारी

पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ से सटे खरड़शहर मेंविगत दिनों जोनल लाइसेंसिंग अथॉरिटी में अधिकारी नेहा शौरी की उनके दफ्तर में ही दिन दहाड़े गोली मार कर की गई हत्याने सत्येंद्र

चीन, कश्मीर पर नेहरु की मूर्खतापूर्ण चूक से त्रस्त भारत

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ‘वैश्विक आतंकी’ घोषित होने से बचाने के लिए चीन ने उस वीटो का इस्तेमाल किया जो उसे भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु की

३० मार्च तेरहवीं पर विशेष : आधुनिक दधीची मनोहर पर्रिकर

मनोहर पर्रिकर का भौतिक शरीर भले ही अब हमारे बीच न रहा हो, पर वे सदियों तक इस देश के आमजन के दिलों में निवास करते रहेंगे। दर्दनाक और जानलेवा

पित्रोदा मांगते सुबूत, खुश होगा पाक

अब कांग्रेस के वैज्ञानिक दिमाग के नाम से सुविख्यात सैम पित्रोदा ने भी भारतीय वायु सेना से पाकिस्तान में आतंकियों के ठिकानों को तबाह करने के सुबूत मांगे हैं। कभी

ग्रामीण अर्थ व्यवस्थाः एनडीए बनाम यूपीए

लोकसभा चुनाव की घोषणा होते ही आरोपों-प्रत्यारोपों का बाजार गर्म है। तरह-तरह के आकड़ें जनता के समक्ष पेश कर ज्यादातर मामलों में जितना कुछ भी बताया जा रहा है, उससे

जरा कोई सुनवा दे चुनावी सभाओं में सारगर्भित भाषण

बिगुल बज चुका है I चुनावी समर का शंखनाद हो चुका है I लोकसभा चुनावों कीतारीखों की घोषणा हो चुकी है। अब देश में चुनावी रैलियों, भाषणों, आरोपों-प्रत्यारोपों, दावों-प्रतिवादों वगैरह

कैरियर कौन्सिलरों से सावधान

अब देशभर के स्कूलों में इम्तिहानों का समय एक बार फिर शुरू हो गया है । 10 वीं और 2 वीं की बोर्ड की परीक्षाओं में पूरी तैयारी के साथ

हिन्दू, हिन्दू धर्म को क्यों कोसते पाक के मंत्री

पाकिस्तान के दो मंत्री इन दिनों ना केवल भारत को बल्कि हिन्दुओं और हिन्दू धर्म को भी अपशब्द कहे जा रहे हैं। इनमें एक तो सूचना और प्रसारण मंत्री फैय्याज

सीईओ.मुलाजिम के वेतन में इतना अंतर क्यों

कितनी हो सीईओ सैलरी यह निश्चित रूप से एक विचारणीय मसला है कि किसी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी के सीईओ को कितनी सैलरी मिलेघ् इसी तरह से उसी कंपनी के

जायकों का स्वाद चखता देश अथवा भोजन भट्ट बना देश

आप छोटे से बड़े किसी भी शहर या किसी भी महानगर का चक्कर लगा लीजिए। आपको एक बात सभी जगहों में एक जैसी ही मिलेगी। वह है भांति-भांति के व्यंजनों

राष्ट्रपति संविधान विरोधी कमलनाथ को बर्खास्त करें

कमलनाथ भी उन गैर जिम्मेदार कांग्रेसी नेताओं की सूची में शामिल हो गए हैं,जिन्हें बिहार और उत्तर प्रदेश के श्रमवीरों (मजदूरों) से नफरत है। इन्हें ये मुख्यमंत्री बनने के बाद

अब हत्यारा कहो सज्जन को

आखिर चौतीस सालों के लंबे और थकान भरे इंतजार और निराशाभरी कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद 1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने कांग्रेस के

भाजपा 3 सूबों में हारी, पर नहीं हुई अपमानित

मध्य प्रदेश, छतीसगढ़ और राजस्थान विधानसभा चुनावों के नतीजों का पूरे देश में गहन पोस्टमार्टम हो रहा है। प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक चैनलों से लेकर सोशल मीडिया के महारथियों को कम

क्यों नहीं बनते हमारे कारोबारी भी बिल गेट्स जैसे या कलह-क्लेश करोगे तो नहीं बन सकोगे बिल गेट्स-जुकरबर्ग

रैनबैक्सी फार्मा का कुछ साल पहले तक देश के दवा निर्माताओं के सेक्टर में दबदबा था। यह देश की चोटी की फार्मा कंपनियों में से एक थी। लेकिन, यह देखते-देखते

कौन भेजता भारत में अरबों डॉलर

भारत वर्ष के विभिन्न कोनों में चालू  वर्ष के दौरान विदेशों में बसे प्रवासी भारतीयों ने दिल खोलकर रकम भेजी। इन्होंने 80 बिलियन ड़ॉलर यानी करीब 80 अरब रुपये अपने देश

कौन करेगा काबू पागल भीड़ पर अथवा करो काबू हिंसक भीड़ पर

बुलंदशहर में भीड़ की हिंसा ने देशभर को स्तब्ध करके रख दिया हैI देश की राजधानी दिल्ली में भी कुछ ही समय के दौरान जानलेवा भीड़ ने दो लोगों को

क्यों मैंनेजमेंट-मुलाजिम हो गए एक-दूसरे से दूर?

यह तो दिवाली के अगले दिन की ही बात है जब दिल्ली से सटे औद्योगिक क्षेत्र फरीदाबाद में एक नामी गिरामी कंपनी के एचआर विभाग के प्रमुख की उनकी कंपनी

Translate »