National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: डॉ अजय खेमरिया

Total 10 Posts

गांधी औऱ संघ एक विवेचन

महात्मा गांधी 150 वी जयंती पर आरएसएस के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत ने बकायदा लेख लिखकर गांधी के प्रति अपनी वैचारिक और कार्यशील प्रतिबद्धता को सार्वजनिक किया।इस बीच हैश टेग

वारिसों की नाफरमानी के बाद भी जेपी की वैचारिकी खारिज नही हुई है

11 अक्टूबर जेपी जयंती सम्पूर्ण क्रांति का विचार जेपी के वारिसों का स्खलन है देश ने अपनी  आजादी के स्वर्णिम आंदोलन के  बाद जिस महान नेता को लोकनायक के रूप

गोरी हुकूमत का पटवारी राज आज भी शोषण कर रहा है हमारा

मप्र में आखिर क्या गलत कहा मंत्री जीतू पटवारी ने मप्र में मंत्री जीतू पटवारी के बयान पर हंगामा बरपा हुआ है,खेल मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि 100 फीसदी

गांधी जयंती पर विशेष : गांधी ..पंचायत राज… और मप्र  का त्रिस्तरीय मॉडल

आखिर क्यों असफल हुआ मप्र में दिग्विजय मॉडल गांधी जी की 150 जयंती पर  उनकी वैचारिकी के विविध पक्षों पर दुनिया भर में चर्चा हो रही है।भारतीय शासन और राजनीति

सिस्टम का अन्यायी चेहरा उजागर करती एक दलित मंत्री

मप्र की महिला बाल विकास मंत्री इमरती के बोल अभिजनों के लिये आईना है  मप्र की महिला बाल विकास मंत्री है श्रीमती इमरती देवी सुमन।जाति से जाटव दलित है।तीसरी बार

लोकतंत्र की बुनियादी पाठशाला को कुचलती सत्ता की समवेत सहमति

नीतीश कुमार,सुशील मोदी,के सामने तेजस्वी यादव क्यों बौने साबित हो रहे है ?क्या सिर्फ पीढ़ीगत अंतर के चलते?अरुण जेटली के बाद दिल्ली  बीजेपी  में शून्य सा क्यों है?क्यों मनोज तिवारी

परिवारों के परकोटे से मुक्त होती जेपी औऱ लोहिया की आत्मा

डॉ राममनोहर लोहिया का एक सुप्रसिद्ध नारा था “पिछड़ा पावे सौ में साठ”यानि सत्ता की भागीदारी में पिछड़ों का आनुपातिक प्रतिनिधित्व साठ फीसदी होना चाहिये इस साठ फीसदी में केवल

सामन्ती न्याय तंत्र…गांधीवादी सत्याग्रह की पदचाप 

 देश के उच्च न्यायिक तंत्र की कार्यविधि, सरंचना,औऱ सामंती सोच के विरुद्ध पूर्व प्रधानमंत्री अटलजी की जन्मभूमि ग्वालियर से एक सत्याग्रह की शुरुआत हुई है।अभी तक इस मामले पर वैचारिक

क्या आज भी  कलेक्टर जिले का महाराजा  होता है?

आज भी भारत मे औपनिवेशिक मानसिकता से चलती है आईएएस बिरादरी मप्र में छतरपुर के कलेक्टर  कलेक्टर है मोहित बुंदस।सीधी भर्ती के आईएएस अफसर है इन्हें हटाने के लिये जिले

लोकपथ से कांग्रेस को दूर धकेलता जनपथ …!

इन्दिरा, नेहरू,को भी नही मानना चाहते कांग्रेस के नेता **डॉ अजय खेमरिया** कांग्रेस में कभी थिंक टैंक काम किया करता था जिसमें पढ़ने लिखने वाले नेता हुआ करते थे जो

Translate »