ब्रेकिंग न्यूज़

Category: अन्य लेख

Total 41 Posts

मजदूर -किसान के जीवन में कब खुशहाली आएगी !

आजादी के बाद से मजदूर और किसान आज भी बदहाली का जीवन जीने को अभिशप्त हैं।एक ओर मजदूर को अपना श्रम बेचने के लिए मजदूर मण्डी में स्वयं को प्रदर्शित

आत्महत्या कारण और निवारण

आत्महत्या का सीधा अर्थ है स्वयं को मारना अथार्त जानबूझ कर अपनी मृत्यु का कारण बनना है। देश और प्रदेश में पिछले कुछ सालों से आत्महत्या के प्रकरण बढ़ते ही

उस दिन के ख्वाब सजाओ जो…..!

यदि कोई हमें भरमाए नहीं तो न ही चैन मिलता है और न ही आँखों में निंदिया रानी झांकती है। बचपन से ही हमने भ्रम में रहने की आदत डाल

वर्तमान हालात लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए शुभ संकेत नहीं हैं

लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनप्रतिनिधियों को चुनना एक अनिवार्य प्रक्रिया है।चुनाव निष्पक्ष तरीक़े से सम्पन्न हो, यह लोकतंत्र को जीवित रखने के लिए जरूरी है।संवैधानिक प्रावधानों के अन्तर्गत संवैधानिक संस्थाएँ अपने

भगवान महावीर जयन्ती- 17 अप्रैल : महावीर क्रांतिकारी युगपुरुष थे

भगवान महावीर की जयन्ती मनाते हुए हमें महावीर के जीवनदर्शन को जीवनशैली का संकल्प लेना होगा। वे एक क्रांतिकारी युगपुरुष थे, उनकी क्रांति का अर्थ रक्तपात नहीं! क्रांति का अर्थ

मगर हाथी सियार गठबंधन कथा

क्रंदनवन के उस तालाब में एक हाथी पानी पीने जाया करता था । वह हाथी उसी परिवार का था जिसके एक बडेरे हाथी को विष्णु ने एक मगरमच्छ से छुड़ाया

व्यंग्य : एजेंडा वही जो वोट दिलाए

वे पार्टी मुख्यालय में गए । उन्होंने गाड़ी को सीधे फव्वारे के नीचे स्नान करने के लिए खड़ा कर दिया । बाहर तेज गर्मी थी । अंदर एयर कंडीशनर में

जीवन के रंग हज़ार

जीवन बहुआयामी रंगों से परिपूर्ण एक रंगमंच है। प्रकृति के मनोहारी रंग जीवन में राग उत्पन्न करते हैं और जीवन एक रंगोत्सव बन जाता है। रंग जीवन की नीरसता को

ये 8 कदम बनाएंगे इन्वेंटरी मैनेजमेंट में और ज्यादा माहिर

इन्वेंट्री, यानी वस्तुसूची का प्रबंधन आज किसी भी छोटे व्यवसाय के लिए अहम चुनौतियों में से एक है। सही समय पर सही जगह पर सही स्टॉक की उपलब्धता सुनिश्चित करना

क्या इस आरक्षण से प्रधानमंत्री पद आरक्षित हो पाएगा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने काफी सोची समझी रणनीति के तहत लोकसभा चुनाव के एक सौ दिन पहले आर्थिक आधार पर दस फीसदी आरक्षण देने का चुनावी दाव खेला है, यद्यपि

भगवान भरोसे लोकसभा चुनाव जीतने का सपना देख रही है कांग्रेस 

कर्नाटक, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बन जाने के बाद, कांग्रेस के नेता अति उत्साहित हैं। कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी, अहमद पटेल, डॉ मनमोहन

यौन अपराध इस्लाम की देन !

बलात्कार का आरंभ मुझे पता है 90 % बिना पढ़े ही निकाल लेंगे आखिर भारत जैसे देवियों को पूजने वाले देश में बलात्कार की गन्दी मानसिकता कहाँ से आयी ?आखिर

प्राणिमात्र के जीवन का उद्देश्य क्या है ?

कर्मयोग, भक्तियोग, ज्ञानयोग आदि किसी भी मार्ग से साधना करने पर भी बिना गुरुकृपा के व्यक्ति को ईश्‍वरप्राप्ति होना असंभव है । इसीलिए कहा जाता है, गुरुकृपा हि केवलं शिष्यपरममङ्गलम्

बेमतलब का अविश्वास प्रस्ताव

वर्तमान मोदी सरकार के निर्धारित मियाद के आखिरी दौर में सरकार के खिलाफ विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर बहस और मतदान शुक्रवार को होना तय हो गया। मौजूदा मानसून सत्र

जिंदगी में जरूरी है, पॉजिटिव कम्यूनिकेशन

किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले उसके बारे में हम बहुत बार सोचते है और फिर उस काम में हो रहे नुकसान से डरते भी है. फिर उस

आंकड़ों के बरअक्स महिला सशक्तिकरण

प्रत्येक वर्ष की भांति इस बार भी पूरा विश्व 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रहा है। एक शताब्दी से ज्यादा अर्से से मनाया जाने वाला यह दिवस मुख्यतः

नाम के महिला संगठन

आज जबकि,महिलाओ की दुर्दशा चरम पर है,ऐसे में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाना यकीनन ही महिला मुक्ति आन्दोलन को मुहँ चिढ़ाना है।विभिन्न  महिला संगठनों का हर वर्ष महिला दिवस मनाने के

‘‘आखिर कब तक सहेंगे हम घोटाले ? ’’

अल्फ्रेड लार्ड टेनिसन की मशहूर कविता ‘द’ ब्रूक की यह पंक्तियाँ किसी से छिपी नहीं हैं। द ब्रूक कविता बहती नदी के ऊपर है। जिसका तात्पर्य है . मनुष्य आएगा,मनुष्य

बैंक, आम आदमी और नीरव मोदी

एक आम आदमी भारतीय बैंकों के अनगिनत नखरे झेलता है। आम आदमी जब बैंक में खाता खोलने की सोचता है तो उसके सामने कई सारी परेशानियां मुंह बाये खड़ी हो

सामान्य भारतीय जन के प्रतीक हैं ‘शिव’

त्याग और तपस्या के प्रतिरुप भगवान शिव लोक-कल्याण के अधिष्ठाता देवता हैं। वे संसार की समस्त विलासिताओं और ऐश्वर्य प्रदर्शन की प्रवृत्तियों से दूर हैं। सर्वशक्ति सम्पन्न होकर भी अहंकार

‘‘नेतृत्व से शालीन एवं संयमित व्यवहार अपेक्षित’’

संसद लोकतन्त्र का पवित्र मन्दिर है, जिसमें जनता-जनार्दन की निराकार शक्ति विराजती है। हमारे समस्त सांसद जनप्रतिनिधि चाहें वे किसी भी धर्म, जाति, भाषा, क्षेत्र, वर्ग से सम्बंधित हों, उसी

Translate »