National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

अग्रवाल महाविद्यालय में हुआ ‘सतर्कता जागरुकता सप्ताह’ का आयोजन

फरीदाबाद। अग्रवाल महाविद्यालय के सभागार में इंडियन ऑयल कारपोरेशन के सहयोग से ‘सतर्कता जागरूकता सप्ताह’ के अंतर्गत एक विचार संगोष्ठी के साथ साथ भाषण, स्लोगन एवं निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें अनेक छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्यामल राय (डिप्टी जनरल मैनेजर, विजिलेंस रिसर्च एन्ड डेवलप सेंटर), मुख्य वक्ता गंगा शंकर मिश्र (एचआर मैनेजर, इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड) रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. कृष्णकांत गुप्ता ने की। सम्भाषण का मुख्य विषय- मेरा लक्ष्य : भ्रष्टाचार मुक्त भारत। स्लोगन भी भ्रष्टाचार मुक्ति को लेकर बहुत सुंदरता से लिखे गए। सभी प्रतियोगिताएं का मूल सार एक स्लोगन में देखने को मिला। ‘शिक्षा और संसार से मिट जायेंगे विकार। चरित्र होगा ऊंचा मिट जायेगा भ्रष्टाचार’। इस अवसर पर श्यामल ने अपने सम्बोधन के बाद सभागार में उपस्थित सभी प्राध्यापकों और छात्र छात्राओं को भ्रष्टाचार के विरुद्ध लडऩे और ईमानदारी और निष्ठा से राष्ट्र हित में जीवन जीने की शपथ दिलाई।  इस अवसर पर प्राचार्य डॉ. कृष्णकांत ने सभी को भ्रष्टाचार मुक्त भारत के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया युवा ही देश के निर्माता हैं उनकी सोच और विचार बदलते ही देश सकारात्मक परिवर्तन के मार्ग पर चल निकलेगा।  उन्होंने सभी को अपना कर्तव्य ईमानदारी और निष्ठा से करने के लिए प्रेरित किया।  उन्होंने कहा कि आचार और विचार में जब तक सकारात्मक बदलाव नहीं आएगा तब तक समाज भ्रष्टाचार मुक्त नहीं होगा। मुख्य वक्ता गंगाशंकर मिश्र ने कहा समाज का शिक्षित तंत्र ही भ्रष्टाचार उन्मूलन में सबसे अधिक उपयोगी है। जब-जब समाज और राष्ट्र में विकारों की बहुलता बढ़ी है, तब-तब संत और गुरुओं ने ही समाज को सवस्थ और सबल बनाने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने कहा भारत को भ्रष्टाचार मुक्त करने के लिए इंडियन ऑयल की तरफ से विद्यालय और महाविद्यालयों में सतर्कता हेतु विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है  ताकि युवाओं के सहयोग से समाज और राष्ट्र में आमूलचूल बदलाव आ सके। इसके लिए उन्होंने ईमानदारी के रस्ते को सर्वश्रेष्ठ बताया। इस अवसर पर मुख्य रूप से श्रीमती किरण आनंद, डॉ रामचंद्र, डॉ रेखा सैन, श्रीमती ऊषा चौधरी, डॉ रेनू माहेश्वरी, डॉश गीता गुप्ता, डॉ सारिका, डॉ बांके बिहारी, श्रीमती रितु उपलब्ध थे।

 

Print Friendly, PDF & Email
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,
Skip to toolbar