न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

अधिवक्ताओं के लिए बनाई जाए सुरक्षा पॉलिसी: वशिष्ठ 

फरीदाबाद। पलवल में अधिवक्ता की हत्या व गुरूग्राम में प्रद्युम्न के अधिवक्ता को धमकी देने के मामले में अधिवक्ता समुदाय चिन्तित हो गया है। अधिवक्ताओं ने सरकार व पुलिस से ऐसी सुरक्षा पॉलिसी बनाने की मांग की है। जिससे अधिवक्ता अपने आप सुरक्षित महसूस कर सके। इस प्रकार की पॉलिसी की मांग को लेकर सैक्टर-12 लॉयर्स चैम्बर्स में मंगलवार को जिला के अधिवक्ताओं की एक बैठक बुलाई गई। बैठक की अध्यक्षता बार कॉउसिल पंजाब एण्ड हरियाणा अनुशासन व निगरानी कमेटी के मनोनीत सदस्य शिवदत्त वशिष्ठ एडवोकेट में हुई। बैठक में पलवल में अधिवक्ता की हत्या व गुरूग्राम में प्रद्युम्न के वकील को धमकी के बारे में चर्चा हुई। वरिष्ठ अधिवक्ता कंवर दलपत सिंह व जिला बार एसोसिएसन के महासचिव सतबीर शर्मा ने कहा कि अधिवक्ताओं पर हमले व धमकी देने के मामले बढ़ रहे है। पूर्व महासचिव अनिल पारासर ने कहा कि ऐसे में यह समुदाय अपने केसो की निष्पक्ष व निडरता पूर्वक पैरवी कैसे कर पाएगे। वकीलो की कमाई का जरिया वकालत है। वशिष्ठ ने कहा कि वकील की हत्या के बाद इसके परिवार को सरकार की तरफ से ना तो कोई आर्थिक सहायता दी जाती है और ना ही कोई पैंशन। इसलिए अधिवक्ता सरकार से आग्रह करते है कि वकीलों की सुरक्षा के लिए सख्त कानून बनाए जाए जिससे ऐसी घटनाए ना दोहराई जाए। अधिवक्ताओं ने बैठक में निर्णय लेते हुए कहा कि वकील की दुर्घटना व हादसे में मृत्यु के बाद 50 लाख रूपये आर्थिक सहायता मिलनी चाहिए। सभी वकीलो का सरकार की तरफ से बीमा होना चाहिए।

फरीदाबाद के अधिवक्ता लॉयर्स चैम्बर में अधिवक्ताओं पर हो रहे हमलों को लेकर बैठक करते हुए।

वकील पर किसी प्रकार के हमले के बाद सख्त धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपियो की तुरन्त गिरफ्तारी होनी चाहिए। बैठक में वरिष्ठ अधिवक्ता आर एस नागर, पार्षद विक्रम सिह अरूआ, धर्मपाल खटाना, सतीश चौहान, बीडी शर्मा, अनिल तोमर, भूपेन्द्र दत्ता, महेन्द्र चौधरी विजय यादव, प्रिंस त्यागी, अनिल, धर्मेद्र शर्मा, देविन्द्र, पवन कोशिक आदि मौजूद थे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar