न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

अयोध्या में जनजीवन सामान्य, पुलिस की कड़ी चौकसी

अयोध्या। अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 25वीं बरसी पर जनजीवन तो सामान्य है लेकिन पुलिस कड़ी चौकसी बरत रही है।
बरसी को हिन्दू और मुसलमान अपने अपने ढंग से मना रहे हैं। विश्व हिन्दू परिषद और कुछ अन्य हिन्दू संगठन विजय या शौर्य दिवस के रुप में कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं जबकि मुस्लिम पक्ष यौमे गम दिवस मना रहा है। वामपंथी दलों ने इस दिन को संविधान बचाओं दिवस के रुप में मनाने की घोषणा कर रखी है। मुसलमानों ने कहीं कहीं व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखे हैं।
विहिप मुख्यालय कारसेवकपुरम में दोपहर बाद सभा के आयोजन की घोषणा की गयी है। इन आयोजनों को देखते हुए सुरक्षा के व्यापक बन्दोबस्त किये गये हैं। चप्पे चप्पे पर पुलिस नजर रख रही है। केन्द्रीय बलों की भी तैनाती की गयी है। मुसलमानों ने दोपहर की नमाज मेें उच्चतम न्यायालय से बाबरी मस्जिद के पक्ष में फैसला आने के लिये दुआ करने की अपील की है। दोनों समुदायों के कार्यक्रमों के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में कल ही हाईअलर्ट कर दिया गया था। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारियों और जिले के पुलिस प्रमुखों को निर्देश दे दिये गये थे।
इस बीच, जिलाधिकारी अनिल पाठक ने बताया कि कानून व्यवस्था और शांति बनाये रखने के लिये जिले को चार जोन अौर दस सेक्टर में बांटकर चार जोनल मजिस्ट्रेट, दस सेक्टर मजिस्ट्रेट और चौदह सहायक सेक्टर मजिस्ट्रेटों की तैनाती की गयी है। इसके अलावा सात मजिस्ट्रेटों को रिजर्व में भी रखा गया है।
उन्होंने बताया कि विवादित श्रीरामजन्मभूमि की सुरक्षा के लिये स्थानीय पुलिस बल के अलावा दस अपर पुलिस अधीक्षक, चार उप पुलिस अधीक्षक, 12 कम्पनी अर्धसैनिक बल, चार सौ आरक्षी, एक प्लाटून महिला कमाण्डों, एक सौ पचास कांस्टेबिल लगाये गये हैं। इसके अलावा बम निरोधक दस्ते समेत विभिन्न जगहों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गये हैं। संवेदनशील इलाकों में पुलिस लगातार गश्त कर रही है। श्री पाठक ने बताया कि एहतियात के तौर पर धारा 144 लगाने के साथ ही जिले की सीमा में प्रवेश करने वाले मार्गो पर वाहनों की सघन तलाशी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि सभी उप जिला मजिस्ट्रेटों को अपने-अपने तहसील क्षेत्रों में शांति व्यवस्था बनाये रखने के सख्त निर्देश दिये गये हैं। नये कार्यक्रमों के आयोजन की अनुमति नहीं दी गयी है।
उन्होंने बताया कि सड़क पर सभा व जुलूस पर भी रोक लगा दी गयी है। होटल, धर्मशाला में ठहरे व्यक्तियों पर निगरानी रखी जा रही है। पूरे जिले में सतर्कता बरतने के निर्देश दिये गये हैं।
इस बीच, विश्व हिन्दू परिषद(विहिप) के प्रवक्ता शरद शर्मा ने बताया कि देश भर में विभिन्न स्थानों पर विश्व हिन्दू परिषद एवं बजरंग दल के कार्यकर्ता हिन्दू समाज से अपील करेंगे कि वे मठ-मंदिरों और घरों में पूजा-पाठ करके मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण कराने का संकल्प लें।
श्री शर्मा ने बताया कि विश्व हिन्दू परिषद के मुख्यालय कारसेवकपुरम में शौर्य दिवस में स्वाभिमान संकल्प सभा का आयोजन किया गया है। इस आयोजन में विवादित धर्म स्थल पर भव्य राम मंदिर निर्माण के संकल्प के साथ-साथ काशी और मथुरा की मुक्ति का भी संकल्प लिया जायेगा। सभा दोपहर बाद आयाेजित है। इस सभा में श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष, मणिराम दास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास, महंत कौशल किशोर दास, जगद्गुरू पुरुषोत्तमाचार्य, श्रीरामजन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य एवं हिन्दू धाम के महंत एवं पूर्व सांसद डा. राम विलास दास वेदान्ती, महंत किशोरीशरण समेत विश्व हिन्दू परिषद के नेता व संत धर्माचार्य भाग लेंगे।
उधर, शिवसेना के राज्य प्रमुख ठा. अनिल सिंह प्रदेश कोर कमेटी के साथ सरयू तट पर परमहंस रामचन्द्र दास की समाधि पर जाकर शहीद कारसेवकों को श्रद्धांजलि अर्पित की और रामलला के दर्शन किये।
अखिल भारत हिन्दू महासभा की ओर से 30 अक्टूबर और दो नवम्बर 1990 काे मारे गये कारसेवकों को सरयू तट पर श्रद्धांजलि दी गयी।
दूसरी ओर, बाबरी एक्शन कमेटी की घोषणा के अनुसार मुस्लिम यौमे गम दिवस मना रहे हैं तथा बाबरी मस्जिद के पुन: निर्माण के लिये दुआ कर रहे हैं। इण्डियन यूनियन मुस्लिम लीग के प्रदेश अध्यक्ष डा. नजमुल हसन गनी ने बताया कि मुस्लिम लीग काला दिवस के रूप में मना रही है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar