National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

अल्पेश कांग्रेस में शामिल

गांधीनगर। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज गुजरात में अन्य पिछडा वर्ग के युवा नेता तथा ठाकोर सेना और ओबीएसी एकता मंच के अध्यक्ष अल्पेश ठाकोर को यहां कांग्रेस में विधिवत शामिल कराया। उन्होंने यहां रामकथा मैदान में आयोजित रैली में अल्पेश के कंधे पर कांग्रेस का प्रतीक वस्त्र रख कर यह औपचारिकता पूरी की। इस मौके पर उन्होंने ठाकोर जाति का मुख्य भोजन समझे जाने वाला रोटी और प्याज का टुकडा तथा मिर्च का निवाला भी दो नन्ही बच्चियों के हाथों खाया। अल्पेश के पिता जो पहले से ही कांग्रेस के नेता रहे हैं वह भी इस मौके पर मंच पर मौजूद थे। दो साल पहले पाटीदार आरक्षण आंदोलन के विरोध के चलते सुर्खियों में आये अल्पेश ने इस मौके पर अपने संबोधन में श्री गांधी की प्रशंसा की और कहा कि उन्होंने 25 लाख परिवारों जिनमें दो लाख पाटीदार परिवार हैं के साथ किये गये सर्वे में लोगों की राय की अनुरूप ही राजनीति और कांग्रेस में शामिल होने का रास्ता चुना है। उन्होंने आरोप लगाया कि गुजरात की भाजपा सरकार ने युवाओं को रोजगार दिलाने तथा किसानों और गरीबों की समस्या दूर करने के लिए कुछ नहीं किया। सात साल से उनके दारूबंदी के आंदोलन और मांग के बावजूद इस मामले में ठोस कदम नहीं उठाया गया और हर साल 10 से 15 हजार युवा दारू पीने के कारण मौत के शिकार हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा राज्य की 182 में से इस बार 150 से अधिक सीटे जीतने के लंबे चौडे और झूठे दावे कर लोगों को भ्रमित कर रही है। इस बार कांग्रेस 125 से ज्यादा सीटे जीत कर सरकार बनायेगी। इस बार गुजरात में पैसे और शराब बांटने की जुगत नहीं चलेगी। घर का रोटी प्याज खाकर हम घर की सरकार बनायेंगे। अगर उन्हें जेल में डाल दिया जाये या उनकी हत्या करा दी जाये तो भी उनके समर्थकों को कांग्रेस की सरकार बनानी चाहिए। 2017 का मौका नहीं चूकना चाहिए। अगर भाजपा को अभी नहीं हटाया गया तो इसे कभी नहीं हटाया जा सकेगा। वह कांग्रेस से सीट की सौदेबाजी के चलते नहीं जुडे हैं बल्कि सम्मान मिलने से जुडे हैं और मरते दम तक इससे द्रोह नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की विचारधारा उनकी विचारधारा से मेल खाती है। यही गुजरात के गरीबों का विकास कर पायेगी। उन्होंने पैसे और पद का प्रलोभन छोड सम्मान के लिए कांग्रेस का दामन थामा है। गुजरात में जो आंदोलन चल रहे है चाहे हार्दिक या मेवाणी या मेरा इनमें एक समानता है सभी गरीबी और बेरोजगारी से जुडे हैं और इनकी मांगे सरकार नहीं सुनती। हार्दिक और जिग्नेश दोनो को मै बोलता हूं कि हमे एक रहना है। अगर कोई हमे जातिवादी कहता है तो कोई बात नहीं। हम रोजगार, किसानों की कर्ज माफी, शिक्षा व्यवस्था में बदलाव तथा गांधीनगर में इस बार भ्रष्टाचारियों को नहीं बैठने देने के लिए सबसे बडे जातिवादी है। उन्होंने विकास के पागल होने के नारे पर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की प्रतिक्रिया पर भी तंज कसा। उन्होंनेे कहा कि बनासकांठा के बाढ पीडितों के राहत वितरण मेंं भी भ्रष्टाचार हुआ है। नर्मदा योजना को पूरा करने का दावा किया जा रहा है जबकि इसके नहरों का 40 हजार किमी का काम अभी भी बाकी है।
Read more at http://www.univarta.com/alpesh-joins-congress/states/topnews/1025472.html#Vi6FgEwDYwdqZVHc.99

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar