न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

आॅटिज्म पर आयोजित किया राष्ट्रीय सम्मेलन

नई दिल्ली। काॅलेज आॅफ आॅक्युपेशनल थेरेपी के सहयोग से आज कट्टनकुलाथुर परिसर में आॅटिज्म पर पहले राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया। सम्मेलन की अध्यक्षता थीरू, बनवारीलाल पुरोहित, तमिलनाडू के राज्यपाल, डाॅ टी.आर. परीवेंधर, चांसलर और डाॅ पी. सत्यनारायणन, प्रेजीडेन्ट के द्वारा किया गया। सम्मेलन की शुरूआत दीप प्रज्जवलन समारोह के साथ हुई, जिसके बाद डाॅ एन. चन्द्रप्रभा, डायरेक्टर मेडिकल एण्ड हेल्थ साइन्सेज, ने स्वागत सम्बोधन के साथ मुख्य अतिथि और दर्शकों का स्वागत किया। डाॅ टी. आर. परिवेंधर, चांसलर ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की, उन्होंने आॅटिज्म की गंभीरता तथा इसके समाधान के लिए किए गए प्रयासों पर रोशनी डाली।
के प्रेजीडेन्ट डाॅ पी. सत्यनारायणन ने आॅटिज्म के क्षेत्र में जुड़े आंकड़ों पर रोशनी डाली। उन्होंने चिकित्सा जगत की विभिन्न शाखाओं के बारे में बताया जो समस्या के समाधान में कारगर हो सकती हैं। डाॅ संदीप सिंह संचेती, वाईस चांसलर ने यूजीसी द्वारा युनिवर्सिटी को दूसरे स्तर में शामिल किए जाने का ऐलान किया। उन्होंने बताया कि युनिवर्सिटी में पारम्परिक विषयों को ज्यादा महत्व दिया जाता है, क्योंकि ये पारम्परिक विषय भारतीय नौकरी क्षेत्र में ज्यादा महत्वपूर्ण साबित होते हैं।
मुख्य अतिथि, तमिलनाडू के माननीय राज्यपाल थीरू, बरनवारीलाल पुरोहित ने विभिन्न प्रकार के आॅटिज्म स्पैक्ट्रम डिसआॅर्डर पर बात करते हुए कहा कि दुनिया भर में आॅटिज्म से पीड़ित मरीजों का सातवां हिस्सा- यानि दस मिलियन बच्चे भारत में रहते हैं। उन्होंने इस दिशा में के प्रयासों की सराहना की, जिसने बीमारी से लड़ने के लिए पहला कदम बढ़ाया है। गवर्नर ने बताया कि कैसे अभिभावक, साथी और समाज मिलकर इन बच्चों की मदद कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्यार, देखभाल के द्वारा इन बच्चों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाया जा सकता है।
माननीय राज्यपाल ने कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए सम्मेलन स्मारिका भी जारी की। एसआरएम काॅलेज आॅफ आॅक्युपेशनल थेरेपी के डीन डाॅ यू. गणपति शंकर ने धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन किया।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar