National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

इतिहास का मजाक न बनाएं

देवेंद्रराज सुथार

संचार क्रांति के इस युग में यह कहने में कोई संदेह नहीं कि सिनेमा, समाज का दर्पण है। उदहारण के लिए अभी हाल ही में रिलीज हुई दंगल, सुल्तान में जहाँ एक ओर हरियाणा की सामाजिक संरचना को बहुत ही सूक्ष्म तरीके से बड़े परदे पर उकेरा गया तो वहीं पिंक, पार्च्ड जैसी फिल्मों में महिलाओं के प्रति हो रहे लैंगिक भेदभाव का मार्मिक अंकन किया गया। यदि बात संजय लीला भंसाली की जाये तो हम पाते हैं कि ये बॉलीवुड के सफल निर्देशक हैं। इन्होंने हम दिल दे चुके सनम, देवदास, ब्लैक, गोलियों की रासलीला रामलीला, बाजीराव मस्तानी जैसी सफल फिल्मों का निर्देशन किया है। हालाँकि देवदास, बाजीराव मस्तानी में इनके ऊपर इतिहास से छेड़छाड़ करने के आरोप पहले भी लगे हैं और अब अपनी आगामी फिल्म पद्मावती को लेकर आजकल ये विवादों में हैं। पद्मावती फिल्म के विवाद की मुख्य वजह यह बताई जा रही है कि इन्होंने रानी पद्मावती के आदर्श राजपूत नारी के व्यक्तित्व को परिवर्तित कर फिल्म में उनके आदर्श चरित्र से विचलन दिखाया है।

राजपूत समाज और राज परिवार की क्षत्राणियों का कहना है कि फिल्म में रानी पद्मावती को अलाउद्दीन खिलजी के सपने में दिखाया गया है, सोलह हजार रानियों के साथ जौहर करने वाली रानी को नर्तकी के तौर पर पेश कर उनके सतीत्व का अपमान किया गया है। साथ ही राजपूती पोशाक का गलत रुप दिखाया गया है। इन सभी वजहों को लेकर राजपूत समाज के लोगों में फिल्म को लेकर काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है। राजस्थान सहित देश के कई राज्यों में फिल्म का विरोध प्रदर्शन भी शुरु हो गया है। गौरतलब है कि फिल्म पद्मावती को सेंसर बोर्ड ने रिलीज करने की अनुमति दे दी है। आगमी महीने की 1 दिसंबर को फिल्म का रिलीज होना तय है। इसके उपरांत राजपूत समाज ने फिल्म रिलीज होने से पहले स्क्रीनिंग पर दिखाने की मांग की है। वहीं फिल्मकार संजय लीला भंसाली ने एक वीडियो के माध्यम से फिल्म में किसी की भावनाएं आहत होने से साफ इंकार किया है। दरअसल, यह भी सच है कि विवादों में रहने वाली फिल्मे बाॅक्स आॅफिस पर हिट हो जाती है। जिन्हें विदेशों में भी भारी संख्या में देखा और पसंद किया जाता है। इन सब से बैगेरत कुछ उड़ंत लोगों का गिरोह सडकों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन के लिए हर समय उतावला दिखता है।

अब जहां तक रानी पद्मावती की कहानी की बात है तो उसे जानने के लिए हमारे पास ऐतिहासिक स्रोत तो है ही। साथ ही मालिक मोहम्मद जायसी द्वारा रचित ‘पद्मावत‘ जैसा प्रामाणिक साहित्यिक स्रोत भी है। यदि इतिहास पर गौर करें तो हम पाते हैं कि रानी पद्मावती सिंघल द्वीप के राजा गंधर्वसेन और रानी चम्पावती की पुत्री थी। रानी पद्मिनी बचपन से ही बहुत सुंदर थी। बेटी के बड़ी होने पर उसके पिता ने रिवाज के अनुसार उसका स्वयंवर आयोजित किया। इस स्वयंवर में उसने सभी हिन्दू राजाओं और राजपूतों को बुलाया। चित्तौड़गढ़ के राजा रतन सिंह भी स्वयंवर में गए थे। राजा रतन सिंह (भीमसिंह) ने स्वयंवर जीता और पद्मिनी से विवाह किया। विवाह के बाद पद्मिनी के साथ वापस चित्तौड़ लौट गए। एक अच्छे शासक और पति होने के अलावा रतन सिंह कला के संरक्षक भी थे। उनके दरबार में कई प्रतिभाशाली लोग थे, जिनमें से राघव चेतन संगीतकार भी एक था। राघव चेतन एक जादूगर भी हैं, इस बारे में लोगों को पता नहीं था। वह अपनी प्रतिभा का उपयोग शत्रु को मार गिराने में करता था। कहा जाता है कि एक दिन राघव चेतन का बुरी आत्माओं को बुलाने का काम चल रहा था और वह रंगे हाथों पकड़ा गया। इस बात का पता चलते ही रावल रतन सिंह ने उसे अपने राज्य से निकाल दिया। रतन सिंह की इस सजा के कारण राघव चेतन उसका दुश्मन बन गया। अपने अपमान का बदला लेने के लिए राघव चेतन दिल्ली चला गया। उस समय दिल्ली का सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी था। राघव चेतन ने सुल्तान से रानी पद्मिनी की सुन्दरता का बखान किया, जिसे सुनकर खिलजी के भीतर रानी पद्मिनी से मिलने की इच्छा जागी।

राघव चेतन से तारीफ सुनने के बाद बेचैन सुल्तान खिलजी रानी पद्मिनी की एक झलक पाने को बेताब था। चित्तौड़गढ़ किले की घेरेबंदी के बाद खिलजी ने राजा रतन सिंह को ये कहकर संदेशा भेजा कि वह रानी पद्मिनी को अपनी बहन समान मानता है और उससे मिलना चाहता है। लेकिन रानी तैयार नहीं थी। रानी ने एक शर्त रखी। रानी पद्मिनी ने कहा कि वह अलाउदीन को पानी में परछाईं में अपना चेहरा दिखाएंगी। जब अलाउदीन को ये खबर पता चली कि रानी पद्मिनी उससे मिलने को तैयार हो गई है वह अपने कुछ सैनिकों के किले में गया। रानी पद्मिनी की सुंदरता को पानी में परछाईं के रूप में देखने के बाद अलाउदीन खिलजी ने रानी पद्मिनी को अपना बनाने की ठान ली। वापस अपने शिविर में लौटते वक्त अलाउदीन खिलजी के साथ रतन सिंह भी थे। इस दौरान खिलजी के सैनिकों ने आदेश पाकर और मौका देखकर रतन सिंह को बंदी बना लिया। रतन सिंह की रिहाई की शर्त थी पद्मिनी। गोरा और बादल की बहादुरी और चालाकी से राजा रतन सिंह को खिलजी की कैद से मुक्त करवाया गया।

अपने को अपमानित महसूस करते हुए सुल्तान ने गुस्से में आकर अपनी सेना को चित्तौड़गढ़ किले पर आक्रमण करने का आदेश दिया। रतन सिंह की सेना खिलजी की सेना के समक्ष बहुत छोटी थी, किन्तु राजपूतों ने बहादुरी से अपने प्राणों की अंतिम साँस तक खिलजी के लड़ाकों का सामना किया और खुद रतन सिंह भी बहादुरी से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। ये सूचना पाकर रानी पद्मिनी (पद्मावती) ने चित्तौड़ की औरतों से कहा कि अब हमारे पास दो विकल्प हैं। या तो हम जौहर कर लें या फिर विजयी सेना के समक्ष अपना निरादर सहें। सभी महिलाओं की एक ही राय थी। एक विशाल चिता जलाई गई और रानी पद्मिनी के बाद चित्तौड़ की सारी औरतें उसमें कूद गईं और इस प्रकार दुश्मन बाहर खड़े देखते रह गए। जिन महिलाओं ने जौहर किया उनकी याद आज भी लोकगीतों में जीवित है, जिसमें उनके कार्य का गौरव बखान किया जाता है।

यदि हम साहित्यिक स्रोत जायसी के पद्मावत का अध्ययन करें तो भी हमें उपयुक्त जानकारी ही प्राप्त होती है। जायसी ने एकमात्र परिवर्तन किया है रत्नसेन की मृत्यु को लेकर। जायसी के अनुसार रत्नसेन अलाउद्दीन से युद्ध करते हुए नहीं बल्कि देवपाल से युद्ध करते हुए वीरगति को प्राप्त होते हैं। जायसी ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि जायसी अलाउद्दीन के हाथों रत्नसेन को मरने नहीं देना चाहते थे। ऐसा करने का अर्थ खलनायक के हाथों नायक की मौत दिखाना होता। इसलिए जायसी ने देवपाल की कल्पना की है। वैसे भी पद्मावत इतिहास नहीं, साहित्य है और साहित्य का निर्माण तथ्यों से नहीं, कल्पनाओं से होता है।

साहित्य की तरह फिल्में भी समाज का आईना होती हैं। जिस प्रकार साहित्यकार ऐतिहासिक रचना में कुछ नवीन मौलिकताएं लाता है, उसी प्रकार फिल्म निर्देशक भी अपनी फिल्मों में कुछ नया दिखाना चाहता है। जैसे निराला ने ‘राम की शक्ति पूजा‘ में नवीन कल्पनाओं का समावेश किया है और खुद जायसी ने भी पद्मावत में अपने सांस्कृतिक समन्वय को स्थापित करते हुए मौलिकता दिखाई है, ध्यातव्य है कि साहित्यकारों की ये नवीन कल्पनायें देश, काल और परिस्थिति के अनुकूल होती हैं और समाज के हित में होती हैं। साहित्यकारों से सीख लेते हुए फिल्म निर्देशकों को भी इतिहास और अपनी कल्पना का समन्वय करते समय ध्यान रखना चाहिए कि उनकी नवीन कल्पनाएँ समाज के हित में हों, न कि समाज में नफरत व अलगाव की भावना फैलाने के लिए।

संजय लीला भंसाली को भी यदि इतिहास का उपयोग करके फिल्में बनानी हैं तो उनको चाहिए कि इसमें सकारात्मक दृष्टीकोण से कल्पनाओं को जोड़ना चाहिए। ऐसी कल्पनायें जो मानव सभ्यता के लिए विकास का प्रतिमान स्थापित करें। जयशंकर प्रसाद की तरह तात्कालिक समस्याओं का समाधान इतिहास के सहारे जनता के सामने प्रस्तुत करें। फिल्म निर्देशकों की कल्पनायें ऐसी होनी चाहिए जो समस्याओं का समाधान कर सकें, ‘पद्मावती‘ फिल्म में की गयी फूहड़ कल्पनाओं की तरह न हों, जो समाज के सामने एक नई समस्या खड़ी कर दे।

– देवेंद्रराज सुथार
(लेखक स्वतंत्र पत्रकार है।)
संपर्क – गांधी चौक, आतमणावास, बागरा, जिला-जालोर, राजस्थान। 343025

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar