National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

उत्तर पश्चिमी रेलवे पर दोहरीकरण कार्य युद्धस्तर पर

जयपुर। रेलवे के रेवाड़ी-पालनपुर (वाया अलवर-जयपुर-अजमेर) 716 कि.मी. बड़ी लाइन खण्ड पर दोहरीकरण का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है और सम्भवतया इस वित्त वर्ष के अन्तर्गत इसे पूरा कर लिया जायेगा। इस व्यस्ततम रेलमार्ग एवं अत्यधिक यात्री यातायात के आवागमन के मद्देनजर इस दोहरीकरण के कार्य को इस प्रकार किया जा रहा है कि इस मार्ग पर अधिक से अधिक रेल सेवाओं का संचालन तीव्र गति एवं समयपालनता से किया जा सकें।
उत्तर पश्चिमी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री तरूण जैन के अनुसार इस खण्ड पर अलग-अलग फेजों में दोहरीकरण के कार्य को संपादित किया जा रहा है इसमें रेवाड़ी-अलवर (74 कि.मी.), बांदीकुई-दौसा (29 कि.मी.), दौसा-जयपुर (61 कि.मी.), जयपुर-फुलेरा (55 कि.मी.) फुलेरा-अजमेर (80 कि.मी.), रानी-भीमाना (96 कि.मी.), मांगलियावास-बांगडग्राम (23 कि.मी.) एवं हरिपुर-भीवालिया (73 कि.मी.) सहित कुल 491 कि.मी. दोहरीकरण के कार्य को पूरा किया जा चुका है।
श्री जैन ने बताया कि इस खण्ड पर लगभग 70 प्रतिषत दोहरीकरण कार्य को पूरा कर लिया जा चुका है। शेष बचे 30 प्रतिषत अर्थात् अलवर-बांदीकुई (60 कि.मी.) एवं अजमेर-पालनपुर खण्ड पर लगभग 164 कि.मी. कार्य को इसी वित्त वर्ष में पूरा कर लिया जायेगा।
उन्होंने बताया कि इस खण्ड पर सम्पूर्ण दोहरीकरण कार्य हो जाने से रेलसेवाओं में वृद्धि के साथ-साथ गति एवं समयपालनता भी बढ़ेगी। यात्रियों को अधिक तीव्र आवागमन में भी तीव्रता आयेगी। इस कार्य की सम्पूर्णता पर पश्चिमी , दक्षिणी राजस्थान में औद्योगिक विकास की सम्भावनाएं बढ़ेगी वही इस क्षेत्र के युवाओं को रोजगार के नये अवसर भी प्राप्त होंगे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar