National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

एक गीत: गीतकिसने गाया……..

 

 

गीतकिसने गाया……..

अजब-गजबहै भाषा बोली,अजब–गजब है माया
गीतकिसने गाया हाय गीत किसने गाया
सुबह-सुबहचिड़ियों की बोली ,आँखें सबकी खोले
हलकिसान कंधो पर लेके,खेत की ओर वो डोले
खेतोंकी हरियाली देख के, मन मेरा हर्षाया
गीतकिसने गाया……..
सीमापर फौजी खड़े अब, देखों सीना तान
जन-जनकी यही है अभिलाषा,देश बने महान
सीमापर दुश्मन को देखों, हमने मार भगाया
गीतकिसने गाया……..
राम-राजके देश में अब, हो रहा मार-काट
नेतावोट की खातिर देखों कर रहे बंदरबाट
जनताका मन भी देखों, आज अब ललचाया
गीतकिसने गाया…….
अच्छेंदिनों के नाम पर, हो रहा काम तमाम
लालबिहारी लालभी अब, देखों हुआ बदनाम
नईपौध इस देश में, जगह-जगह मुर्झाया
गीतकिसने गाया……..

लालबिहारी लाल

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar