न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

एयर ओडिशा को भुगतना पड़ सकता है ‘उड़ान’ में देरी का खामियाजा

नयी दिल्ली। सस्ते हवाई किराये वाली केंद्र सरकार की क्षेत्रीय संपर्क योजना (आरसीएस) ‘उड़ान’ के पहले चरण में परिचालन शुरू करने में देरी का खामियाजा एयर ओडिशा को योजना के दूसरे चरण में भुगतना पड़ सकता है।
उड़ान के दूसरे चरण के लिए एयर ओडिशा समेत 18 विमान सेवा कंपनियों से कुल 502 रूटों के लिए निविदाएं प्राप्त हुई हैं। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दूसरे चरण के लिए रूटों के आवंटन में पहले चरण का प्रदर्शन एयर ओडिशा के खिलाफ जा सकता है।
पहले चरण में पांच ऑपरेटरों को कुल 128 रूटों का आवंटन किया गया था। इनमें अलायंस एयर, स्पाइसजेट और ट्रूजेट ने कुछ मार्गों पर परिचालन शुरू कर दिया है, लेकिन एयर डेक्कन और एयर ओडिशा ने एक मार्ग पर भी परिचालन शुरू नहीं किया है। खास बात यह है कि 128 में से 84 रूटों का आवंटन इन्हीं दोनों को किया गया था। एयर ओडिशा को 50 और एयर डेक्कन को 34 रूट मिले हैं।
पहले चरण में रूटों का आवंटन 30 मार्च को किया गया था। सेवा शुरू करने के लिए ऑपरेटरों को छह महीने का समय दिया गया था, लेकिन सरकार ने उन्हें इसके बाद भी पूरा समय दिया है और वह किसी प्रकार की सख्ती के पक्ष में नहीं है। जहां देरी ज्यादा हो रही है उन मामलों में सरकार पहले चरण के प्रदर्शन को दूसरे चरण के आवंटन से जोड़ना चाहती है। सरकार की तरफ से भी कुछ मामलों में देरी है क्योंकि कई नये हवाई अड्डे अभी तैयार नहीं हो पाये हैं। पहले चरण के तहत जिन हवाई अड्डों को तैयार करना था उनमें से 13 पर सेवाएँ शुरू हो चुकी हैं। बारह अन्य हवाई अड्डों/हवाई पट्टियों पर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण की तरफ से तैयारी पूरी हो गयी है और एयरलाइन की तरफ से देरी हो रही है। वहीं,18 ऐसे हवाई अड्डे/हवाई पट्टियाँ हैं जन पर ज्यादा काम किया जाना है और इनके करीब चार महीने में तैयार हो जाने की उम्मीद है।
अधिकारी ने बताया कि दूसरे चरण में एयर डेक्कन ने आवेदन नहीं किया है, हालांकि अंतिम समय में उसने आवेदन करने की इच्छा जताते हुए इसके लिए समय सीमा बढ़ाने की मांग की थी, लेकिन समय सीमा नहीं बढ़ाई गयी। अधिकारी ने कहा कि कई ऑपरेटरों की मांग पर समय सीमा पहले ही बढ़ाई जा चुकी थी तथा इसे और नहीं बढ़ाया गया। बड़े शिड्यूल ऑपरेटरों में एयर इंडिया की इकाई एलायंस एयर, स्पाइस जेट, जेट एयरवेज और इंडिगो ने इस बार आवेदन किया है। नॉन-शिड्यूल ऑपरेटरों में दूसरे चरण के लिए आर्या एयरलाइंस, घोडवैट स्टार एयर और पिनेकल एयर प्राइवेट लिमिटेड ने भी आवेदन किया है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar