National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

एयर पॉलिटिक्स संग वोटरनामा

… और किसी तरकीब दांवपेच तिकड़म – बाजी आदि के आधार पर मैं एयर पॉलिटिक्स के हवाई जहाज पर सवार हो गया । भारतीय राजनीति का हवाई जहाज एरोड्रम की सड़क जो कि झूठ व जुमलों से बनी है उस पर उड़ान भरने की तैयारी में था । कई पार्टियों के दलदल से हमारा जहाज लदफद हुआ ; जिस पर आकर्षक तरीके से एयर पॉलिटिक्स के चुनावी मेनिफेस्टो लिख दिए गए। जहाज घरघराने लगा जैसे किसी पार्टी का प्रवक्ता घरघराता हो । फिर चलने लगा रनवे पर । दौड़ने लगा चिंघाड़ने लगा । हूंकारने लगा, गरजने लगा और संपूर्ण वायुमंडल में चुनावी शोर शराबे के विस्फोट के साथ आकाश की ओर उड़ने लगा । देश के वायुमंडल में जहरीला धुंआ छोड़ता ! राजनीतिक पार्टियां अपने मेनिफेस्टो इसी अंदाज में जारी करती है । फिर इसे यूं समझ लीजिए जैसे संसद भवन में शांति स्थापना के कानून निर्माण के दौरान सभी पार्टियां चिंघाड़, दहाड़, फटकार, तोड़ – फोड़, जोड़ – मोड़ आदि नाना प्रकार के वक्तव्य इंजनों की गड़गड़ाहट करती है । पार्टी भी गई भाड़ में । पार्टी का भी कोई मायने नहीं । बस मेरी एयर पॉलिटिक्स का हवाई जहाज सबसे ऊपर उड़ना चाहिए । सबसे महत्वपूर्ण यही है ।

मेरी पार्टी के हवाई जहाज में पेंशन, मुफ्त के सामानों के टैंक का ईंधन एवं कर्ज माफी के पंख लगे हैं । अतः मेरी राजनीति का जहाज आसमान में सबसे ऊंचा उड़ने लगा । मैंने देखा कि सड़क पर चलते लोग हवाई जहाज से पहले गधे जैसे दिखाई दिए, फिर कुत्ते, फिर मुर्गे से नजर आए । बाद में वे सिर्फ एक मच्छर जैसे दिखे और अंत में सिर्फ एक अमीबा जैसे । वोट देने के बाद अमूमन वोटर का भी सिर्फ यही हश्र होता है । मैंने ऊपर से देखा कि एक बारीक काला धागा सा दिखाई दे रहा था जो वास्तव में एक सिक्स लेन सड़क है । वोटरों की आशा – इच्छा सी तुच्छ दिखती ! पहाड़ी की तलहटी में मैदान और घाटियां गहरे रसातल की ओर ले जाने वाली आम जनता की आपसी संघर्ष की कहानी कहती । पहाड़ पर जो चिड़िया के पंखों की छतरियां सी दिखाई देती है वास्तव में पेड़ थे । यह वोटरों की उम्मीदें थी जो तुच्छ जान पड़ती है । हाय रे ! हमारी राजनीति धन्य हो गई । देश की राजनीति में एयर हॉस्टेस सवार है । हंसती, खिलखिलाती, चंचल, चपल, मनवार करती । हर वोटर को लुभाती । सब कुछ है उनके पास । ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर की समस्त सौगातें, सपने, वादे, जुमले ! जैसा कि वोटरों को इस प्रकार की सभी सौगातें देने का स्वप्न दिखाया जाता है । ठीक वही हमारे सामने एक हकीकत के रूप में मौजूद । धरती पर भी कुलबुलाते कीड़े, पत्थर, पहाड़, तूफान सब दिखाई पड़ रहे हैं । हर एक वोटर पर आफत ! आमजन पर तूफान बर्फ गिरकर आफत मचा रही है । आमजन इससे हमेशा ही त्रस्त रहता है । पर मेरा क्या ! मेरी पॉलिटिक्स का हवाई जहाज तो आसमान में उड़ ही रहा है ।

रामविलास जांगिड़, 18, उत्तम नगर , घूघरा , अजमेर (305023) राजस्थान

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar