न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

कांग्रेसी नेताओं की कुर्बानियों की बदौलत हम ले रहे है खुली हवा में सांस : सत्यवीर डागर

फरीदाबाद। सर्जिकल स्ट्राइट के नाम पर अपनी पीठ थपथपाने वालों को उस दिन को याद करना चाहिए,जब श्रीमती इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान के दो टुकडे कर बंगलादेश को जन्म दिया था। असली सर्जिकल स्ट्राइट थी तो वह थी, आज जो लोग कांगे्रेसी नेताओं पर उंगली उठाते हैं उनको अपने अतीत में झांक कर देखना चाहिए कि आज यदि वह खुली हवा में सांस ले रहे हैं तो यह हवा कांग्रेसी नेताओं की कुर्बानी की देन है। उक्त विचार व्यक्त करते हुए हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव सत्यवीर डागर ने कहा कि वर्तमान सत्ताधारी नेताओं को अपनी सोच बडी कर उन नेताओं को स मान देना चाहिए जिन्होंने इस देश को बनाने का काम किया है और श्रीमति इंदिरा गांधी उनमें से एक हैं। श्री डागर आज यहां बल्लभगढ की अनाजमंडी में अपने कार्यालय पर श्रीमती इंदिरा गांधी के 100 वें जन्मदिन पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे। इस मौके पर सीमा जैन, गोपीचंद शर्मा, मकरंदशर्मा , एस एस चौधरी, गुलाव सिंह रावत, कल्पना गोयल, मधु सिंह, हंस राज सिंह, देवी डागर, ओमपाल, चौधरी हमवीर सिंह, अमन यादव, अजय यादव प्रमुख रुप से उपस्थित थे। समारोह के बाद इन सभी ने सेक्टर 15 स्थित आर्य कन्या सदन में जाकर बच्चियों के मध्य मिठाईव फलों का वितरण किया। उपस्थित कांग्रेसी नेताओं को संबोधित करते हुए श्री डागर ने कहा कि आज देश जिस स्वाभिमान के साथ विश्व नेतृत्व के लिए तैयार है उसकी नींव न केवल इंदिरा गांधी ने डाली थी बल्कि विश्व को यह संदेश देने का काम भी इंदिरागांधी ने किया थाकि भारतविश्व नेतृत्व की क्षमता रखता है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी का जीवन हर व्यक्ति के लिए एक आदर्श है जिन्होंने साफ कहा कि मरने के बाद भी उनके खून का एक एक कतरा देश के लिए काम आएगा और उनका पूरा जीवन देश के लिए काम आयाऔर आज उनका दिखाया रास्ता देश के विकासमें सहायक हो रहा है। उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया कि कुछ स्वार्थी सत्ताधारी नेता आज उनके जीवन से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए नए नए नाम लेकर आ रहे हैं, कांग्रेस हर उन व्यक्ति का स मान व नमन करती है जिन्होंने देश पर कुर्बानी दी है फिर यह स्वतंत्रता सेनानी 1857 के अमर शहीद हो या फिर आजादी की लडाई के सिपाही हों।

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को 100वें जन्मदिन पर दी श्रद्धांजलि

 

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar