National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

केदारनाथ-बद्रीनाथ में बारिश और बर्फबारी से पारा गिरा, दिल्ली में भी हल्की ठंड

केदारनाथ। बद्रीनाथ और केदारनाथ धाम में बुधवार दोपहर बाद मौसम ने अचानक करवट ली। बुधवार को हुई बारिश और ओलावृष्टि से तीर्थयात्रियों को ठंड का एहसास हुआ। दिनभर में कई बार बारिश और ओलावृष्टि हुई। इसके साथ ही पहाड़ों पर बर्फबारी भी शुरू हो गई है। यहां मंदिर के कई हिस्से में बर्फ गिरने से शाम होते-होते कड़ाके की ठंड पड़ने लगी। इसके कारण राजधानी दिल्ली में भी गुरुवार सुबह हल्की ठंड का एहसास होने के साथ ही तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई। वैसे तो बद्रीनाथ और केदारनाथ धाम में बुधवार सुबह धूप खिली थी, लेकिन दोपहर होते ही अचानक मौसम बदला और कुछ देर बाद ही यहां के पहाड़ों पर बर्फबारी शुरू हो गई। इस दौरान भैरवनाथ मंदिर क्षेत्र, दुग्ध गंगा क्षेत्र, चोराबाड़ी ताल के ऊपरी पहाड़ियों और हिमालय में जमकर बर्फबारी हुई। स्थानीय लोगों का कहना है कि पिछले 10 दिनों से सुबह और शाम के तापमान में गिरावट आ गई है। इस दौरान कुछ तीर्थयात्री बर्फबारी का लुफ्त उठा रहे थे, तो कुछ कड़ाके की ठंड में दुबके पड़े रहे। यहां अभी भी हल्के बादल छाए हुए हैं।
वहीं दिल्ली में दिन के वक्त मौसम विभाग ने अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने के साथ ही आसमान में बादल छाए रहने का पूर्वानुमान जताया है। जबकि सुबह और शाम के तापमान में लगातार गिरावट देखी जाएगी। दिल्ली में वायु की गुणवत्ता बहुत ही खराब स्थिति में पहुंच गई है और राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों में प्रदूषण का स्तर गंभीर हो गया है। वायु की गुणवत्ता खराब होने के लिए वाहनों के प्रदूषण, निर्माण गतिविधियों और मौसम संबंधी कई कारकों को जिम्मेदार ठहराते हुए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने आने वाले दिनों में दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता के और खराब होने का पूर्वानुमान लगाया है। इस बीच,दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने कहा कि उपग्रह की नवीनतम तस्वीरें दिखा रही है कि ‘खतरनाक’ स्तर पर पराली जलाई जा रही है और इस तत्काल रोका जाना चाहिए। अगर जल्द ही ऐसा नहीं किया गया तो दिल्ली सहित पूरे उत्तर भारत को गंभीर स्वास्थ्य जोखिम से जूझना पड़ेगा।
कुछ दिनों पहले दिल्ली में हवा की गुणवत्ता के खराब श्रेणी में पहुंचने के बाद सोमवार को एनवायरमेंट पॉल्यूशन (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल) अथॉरिटी (ईपीसीए) और ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (जीआरएपी) लागू कर दिए गए थे। इनके तहत वायु गुणवत्ता को और बिगड़ने से रोकने के लिए कई उपाय अमल में लाए जाते हैं। ईपीसीए की सदस्य सुनीता नारायण ने कहा, हम अधिकारियों को निर्देश देने जा रहे हैं कि वे दिल्ली के मुख्य स्थानों पर सख्त उपायों को लागू करें। हमारे पास वजीरपुर और द्वारका में भी कचरा जलाए जाने के साक्ष्य हैं और यह एक दूसरा मुद्दा है जो हम अधिकारियों के सामने उठाएंगे। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक आनंद विहार में बुधवार को एक्यूआई 358, द्वारका सेक्टर आठ में एक्यूआई 376, आईटीओ पर 295 और जहांगीरपुरी में एक्यूआई 333 रिकॉर्ड किया गया. रोहिणी में एक्यूआई 330 दर्ज किया गया। आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में पीएम 10 का स्तर 296 और पीएम 2.5 को 139 मापा गया। इस मौसम में पहली बार वायु की गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी के स्तर पर पहुंची है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar