National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

केवल पीएम जानते थे ऑफसेट अनुबंध एचएएल को नहीं दिया जाएगा : कांग्रेस

मोदी के पास राफेल करार पर छिपाने को बहुत कुछ
नई दिल्ली। युद्धक विमान राफेल खरीद करार को लेकर सरकार के विरुद्ध अपना अभियान तेज करते हुए कांग्रेस ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सीधे तौर पर इस करार में शामिल हैं। कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री के पास इस बारे में छिपाने के लिए काफी कुछ है। सौदे पर मोदी की चुप्पी पर सवाल खड़ा करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता आंनद शर्मा ने दावा किया कि केवल प्रधानमंत्री को ही पता था कि ऑफसेट अनुबंध एचएएल को नहीं दिया जाएगा।
शर्मा ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह उनका (मोदी का) फैसला था। केवल उन्हें ही पता था कि वह क्या करने जा रहे थे। उन्होंने कहा कि उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय महत्व के इस मुद्दे पर बोलेंगे, लेकिन उन्होंने इस विषय पर लगातार चुप्पी साधे रखी, जबकि अपनी सरकार के बारे में उंचे उंचे दावे करते रहे। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री के पास राफेल सौदे पर छिपाने को काफी कुछ है। उनकी चुप्पी मौलिक प्रश्न को जन्म देती है, क्योंकि वह सीधे तौर पर इसमें शामिल हैं और व्यक्तिगत तौर पर इसके लिए जवाबदेह हैं। राफेल सौदे को देश के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला होने का दावा करते हुए शर्मा ने इसकी संयुक्त संसदीय समिति द्वारा जांच की मांग दोहराई।
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की फ्रांस यात्रा पर भी सवाल खड़ा किया। शर्मा ने कहा कि भारत फ्रांस से जो लड़ाकू विमान खरीद रहा है, उसकी कीमत, पिछले करार की तुलना में, काफी बढ़ गई है। प्रधानमंत्री मोदी को इस सौदे को लेकर पैदा हुए संशयों को दूर करना चाहिए। यदि इस सौदे का फोरेंसिक ऑडिट किया जाए तो और ब्यौरा सामने आएगा। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि बैठक में मौजूद चुनाव संचालन समितियों के सभी नेताओं ने खुले दिमाग से अपने सुझाव रखे और पार्टी की आगामी 50 दिनों की चुनावी रणनीति पर चर्चा की। उन्होंने कहा

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar