National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

क्या नोटबंदी से भाजपा के चुनाव पर पड़ेगा असर ?

उप्र में चुनाव प्रचार अब धीरे – धीरे आगे बढ़ रहा है तथा सभी दलों की गतिविधियां भी उसी हिसाब से तेज हो रही हैंे। पीएम मोदी ने जब सेे कालेधन, आतंकवाद व भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त करने के लिए 500 व एक जिार के नोट बंद करने का ऐलान किया है तब से वह अपने विरोधियों के कंेद्रबिंदु बन गये हंैे। बसपा नेत्री मायावती जहां नोटबंदी के बाद और अधिक जहर उगलने लग गयी हैं वहीं आम आदमी पाटी के नेताअरविंद केजरीवाल ने तो अपने नियंत्रण से ही बाहर हो गये हंै। मोदी विरोधियों ने भी नोटबंदी को जहां मुददा बना लियाहैं वही नोटबंदी के समर्थकांे ने भी मुददा बना लिया है। ऐसा लग रहा है कि अब नोटबंदी, कालाधन व भ्रष्टाचार ही उप्र के चुनाव के मुख्य मुददे होंगे। 
 पीएम मोदी व भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह अपनी हर रैलियों में नोटबंदी के पक्ष में जोरदार तर्क दे रहे हैं। यदि एक नजरिये से देखा जाये तो नोटबंदी से सबसे अधिक फायदा अभी समाजवादी दल को ही हुआ क्योंकि नोटबंदी के बाद ही उनके कुनबे में लड़ाई बंद हो गयी है। नोटबंदी के बाद से अब तक राजधानी लखनऊ में ममता बनर्जी से लेकर अरविंद केजरीवाल तक रैली कर चुके हैं जिसमें इन सभी नेताओं की रैलियां फ्लाॅप तो अवश्य हो गयी हैं लेकिन नेताओं ने जिस प्रकार के शब्दों का प्रयोग किया है वह राजनैतिक शालीनता के खिलाफ है, मर्यादा के खिलाफ हैं। नोटबंदी के प्रश्न पर सभी दल भाजपा को कठघरे में खड़ा करने का जबर्दस्त प्रयास कर रहे हैं। पीएम मोदी अपनी रैलियों में कह रहे हैं कि हम कालेधन व भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग लड़ रहे हंै वहीं दूसरी ओर सपा व बसपा हमारे खिलाफ पूरी ताकत के साथ लड़ रहे है। एक प्रकार से पीएम मोदी अपनी रैलियों में अपने विरोधियों को भी कुछ सीमा तक कालेधन के समर्थन में खड़ा करने में सफल होते दिखलायी पड़ रहे हैे। अभी विगत दिनों पीएम मोदी ने कुशीनगर और बहराइच में विशाल परिवर्तन रैलियों को सबांेधित करके सभी राजनैतिक विश्लेषकों को सोचने पर मजबूर अवश्य कर दिया है।
    यही कारण है कि आज मोदी विरोधी पूरी ताकत के साथ आम जनता को बरगलाने का काम करने में लग गये हैेें। दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने दावा किया है कि पीएम मोदी ने बिड़ला से 25 करोड़ और सहारा से 40 करोड़ की रिश्वत ली है। केजरीवाल ने तो रैली के दौरान अपनी सारी मर्यादा को ही लांघ दिया और कहाकि  लानत है ऐसे बेटे पर जो अपनी मां को लाइन पर लगा दे। केजरीवला ने कहा कि भाजपा सत्ता और पैसे की लालची पार्टी है। केजरीवाल ने नोटबंदी की आड़ में अमीर दोस्तों को फायदा पहुंचाने का आरोप भी लगाया है। वैसे भी यह आरोप सभी विरोधी लगारहे हैं इस आरोप में भी कोई नयी बात नहीं कही ंगयी हैं वह हर बार सबूत देने की बात कहते हैं लेकिन जब समय आता है तो वह भी भाग खड़े होते है। आज दिल्ली के सीएम केजरीवाल के पास पीएम मोदी को किसी न किसी प्रकार से गाली देने के अलावा कोई काम नहीं बचा है। उनका दिल्ली मे मन नहीं लग रहा है। दिल्ली के कम से कम 40 विधायकों की सदस्यता अभी भी खतरे में है। अदालतों में कई मामलों पर कार्यवाही आगे बढ़ रही है। केजरीवाल आधुनिक युग का शिशुपाल बन गया है । यह वह शिशुपाल है जिसने महाभारत काल में कृष्ण जी को 100 गालियां देना जब प्रारम्भ किया था तो 99 वीं गाली में उसका सिर धड़़ से स्वयं भगवान ने ही अलग कर दिया था। आज केजरीवाल सरीखे नेता जनता को किसी भी प्रकार से भड़का नहीं सकते। यह अलग बात है कि केजरीवाल और ममता सरीखे नेता कालेधन के खिलाफ लड़ाई को कुछ सीमा तक डैमेज कर सकते है। जिसकी वह पूरी कोशिश कर रहे हंै। 
  कलेधन के खिलाफ लड़ाई को डैमेज करने में सपा व बसपा भी कमजोर होती नहीं दिख पड़ रही हैे। नोटबंदी के बाद सपा को भी अपना रास्ता साफ नजर आ रहा है तो बसपा चकाचैंध हुयी जा रही है। सपा नेता अपना दुःख दर्द भूलकर  अब पूरे उत्साह के साथ भाजपा के खिलाफ जमकर बयानबाजी करते दिखलायी पड़ रहे हैं। प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तो एक कदम जाकर यहां तक कह डाला था कि मंदी के दौर मेें व जरूरत पड़ने पर कालाधन ही काम आता है। अभी जब पीएम मोदी ने कालेधन व भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग की शुरूआत नहीं की थी तो यही दल कहते थे कि पीएम मोदी कालेधन व भ्रष्टाचार के खिलाफ कुछ कर नहीं रहे। प्रदेश की राजनीति में सभी दलों ने नोटबंदी के खिलाफ  जमकर जहरउगलनाशुरू कर दिया है । बसपा सुप्रीमो मायावती का कहना है कि पीएम मोदी की योजना से 90 फीसदी जनता नाराज हो गयी है। मोदी ने प्रदेश की जनता को कीर बना दिया है। आज यह बात पूरा प्रदेश जानता है कि प्रदेश की राजनीति में किन –  किन दलों की सांसे कालेधन के साम्राज्य पर ही टिकी हुयी हंै। जिस प्रकार से मोदी विरोधियों ने नोटबंदी को मुददा बना लिया है उससे भाजपा व संघ कार्यकर्ताओं में भी कुछ सीमा तक संदेह के बादल उठने लगे हैं तथा इसकी एक विस्तृत रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेज भी दी गयी है। जिसमें यह समझाया गया है कि उप्र के चुनाव कुछ समय के लिये टाल दिये जायें तथा कुछ और साहसिक कदम उठाकर चुनाव जीतने का प्रबंध करना चाहिये। लेकिन फिलहाल पीएम मोदी बेफ्रिक हैं। पीएम का कहना है कि यह लड़ाई अभी हम और आगे तक ले जाने वाले हैं। हमें जनता का पूरा सहयोग मिल रहा है। 
       सभी प्रकार के दबावों को खारिज करते हुए प्रदेश भर में भाजपा की परिवर्तन रैलियों पूरे उत्साह के साथ चल रही हैं। अभी हाल की ही रैली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया कि बेशक सभी दल एक साथ हो जायें तथा भाजपा को गाली दें तो भी भाजपा की ही सरकार बनेगी और प्रदेश में वास्तविक परिवर्तन बीजेपी ही लायेगी। उधर भाजपा मंे दूसरे दलों से आने वाले लोगों की रफ्तार में कोई कमी नहीं आयी है। प्रदेश मेें भाजपा के प्रचार अभियान को नित नये कलेवर मंे रंगा जा रहा है। 20 जिलों में भाजपा कमल मेला लगाने जा रही है जिसमें पीएम मोदी की योजनाओं का प्रचार -प्रसार किया जायेगा। चुनाव अभियान को गति प्रदान करने के लिए बाइक्स का भी प्रयोग किया जाने वाला है। अभी भाजपा की तरकश में कई तीर हैंे। विरोधी तो विरोध करंेगे ही । विरोधी कालेधन की लड़ाई को दूसरी तरफ मोड़ना चाह रहे हैं जिसमे वे कितने सफल होते हैं यह तो आने वाल मय ही बतायेगा। 
 
मृत्युंजय दीक्षित 
123, फतेहगंज, गल्ला मंडी लखनऊ (उप्र)- 226018 
फोन नं.- 9198571540      
Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar