National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

ग्रेटर कैलाश 2 में पानी की समस्या पर अब तक जल बोर्ड के कानों पर नहीं रेगीं जूं

विजय न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के ग्रेटर कैलाश पार्ट 2 के ई ब्लॉक के निवासियों की पानी की समस्या अब तक नहीं सुलझी है। दिल्ली जल बोर्ड तो इस कदर चुप बैठा है मानों उसे लोगों की जरुरत के लिए बनाया ही न गया हो। अपनी मनमानी करते जलबोर्ड के अधिकारियों के कानों पर लाख शिकायतों के बाद भी जूं तक नहीं रेगीं है। अधिकारी चुप्पी साधे पानी की समस्या को देख कर भी अनदेखा कर रहें हैं। जल बोर्ड के अधिकारियों को यह दिखाई नहीं पड़ रहा कि जनता प्यासी बैठी है। न अधिकारी सुन रहे है न दिल्ली सरकार आखिर प्यासी जनता जाए तो जाए कहां। अपने अधिकारों की लड़ाई के लिए कहां का दरवाजा खटखटाए. आलम यह है कि कई महिने हो गए लेकिन इस इलाके में पानी की पूर्ति सामान्य नहीं की गई। आश लगाए बैठे लोग कई शिकायतें कर करके भी थक गए हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। जबकि सबको पता है कि पानी जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है और वो भी सरकार और दिल्ली जल बोर्ड ठीक से मुहैया कराने में असमर्थ हो रहा है।
ग्रेटर कैलाश पार्ट2 ई ब्लॉक के निवासियों को दैनिक आवश्कताओं को पुरा करने के लिए भी पानी नहीं मिल पा रहा है। मजबूरन निवासियों को 1400 रुपय की राशि देकर पानी का टैंक मंगवाना पड़ रहा है। एक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हर घर को 20 हजार लीटर पानी देने का वादा कर रहे हैं वहीं उनका दिल्ली जल बोर्ड पानी की आपूर्ति तक ठीक ढंग से नहीं कर रहा है। इस बीच बेचारी जनता को पानी के बिना ही रहना पड़ रहा है।

प्यासी ही बितानी पड़ी गर्मियां
दक्षिणी दिल्ली के ग्रेटर कैलाश पार्ट 2 के ई ब्लॉक के निवासियों को शुरुआती गर्मियों से ही पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। इस भीषण गर्मी में भी पानी के लिए पैसे खर्च कर टैंक मंगवानी पड़ रहा है वरना जल बोर्ड तो यहां के लोगों को प्यासे ही मारने पर आतुर हो चुका है। स्थानिय निवासी नल की ओर आस लगाए देखते हैं लेकिन उसी नल में से आशा के रुप में पानी का एक बुंद तक नहीं टपकता। यहां के लोगों का कहना है कि उन्होंने इस मामले की कई बार शिकायत भी की लेकिन इसके बाद भी पानी की आपूर्ति नहीं की गई। मजबूरन लोगों को बाहर से पानी की बंदोबस्त करना पड़ रहा है। गर्मियों में जहां पानी की सबसे ज्यादा जरुरत होती है उस समय में भी पानी के बिना ही लोगों को अपनी जीवन व्यापन करना पड़ा। वहीं अब जबकि सर्दियां शुरु होने वाली है तब भी पानी का सप्लाई नहीं की जा रही। यहां के स्थानिय निवासी बिना पानी के ही जैसे तैसे गुजारा कर रहें हैं और दिल्ली जल बोर्ड हाथ पर हाथ धरे बैठा है

1400 रुपय में मिल रहा है पानी का एक टैंक
एक और जहां सरकार की और से मुफ्त पानी का वादा किया गया है वहीं दूसरी और पानी न मिल पान के कारण ग्रेटर कैलाश के निवासी बाहर से पानी खरीद कर पीने और अपनी दैनिक जरुरतों को पुरा करने के लिए मजबुर है। लोगों का कहना है कि एक पानी का टैंकर मंगवाने के लिए हमें तकरीबन 14 सौ रुपय देने पड़ते है। पानी इन्सान की मूलभूत जरुरतों में से एक है लेकिन फिर भी हमें इसके लिए अलग से पैसे चुकाने पड़ रहे हैं। टैंकर वालों के भी अपने ही नखरे होते हैं समय पर न पानी मिल पाता है न ही कुछ। अपनी जरुरतों की पूर्ती के लिए लोगों को पानी बाहर से खरीद कर पीना पड़ रहा है। लेकिन प्रशासन का इस और कोई ध्यान नहीं है। लोगों को पानी की कमी से काफी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ रहा है।

जल बोर्ड नहीं कर रहा कोई कार्रवाई
पानी न मिलने की शिकायतें कई बार स्थानिय निवासियों ने दिल्ली जल बोर्ड से की। लेकिन इसके बाद भी पानी की पूर्ती नहीं की गई। न हीं कोई संतोषजनक जवाब दिया गया। यह कहना है यहां के निवासियों को जो दिन रात इस उम्मीद में हैं कि अब पानी सही समय पर मिलगा। लेकिन पानी इनके घरों तक पहुंचता ही नहीं है। इसे विभाग की लापरवाही कहें या पानी न देने की कामचोरी। लेकिन इसका परिणाम तो यहां के निवासियों को भुगतना पड़ रहा है। जिन्हें पानी की कमी से लगातार समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

सर्वे के बाद भी नहीं हल हुई समस्या
ग्रेटर कैलाश पार्ट 2 की पानी की समस्या पर स्थानिय निवासियों ने कई बार शिकायत भी दर्ज की बड़े अधिकारियों से मिलने के बाद 19 जुलाई 2017 को जल बोर्ड के आला अफसरों ने यहां आकर निरिक्षण भी किया और आश्वासन दिलाया था कि समस्या का जल्द निवारण कर दिया जाएगा लेकिन उसके बाद भी समस्या जस की तस बनी हुई है पानी की सप्लाई सही समय पर करना तो दूर कई कई दिनों तक लोगों को पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। यह समस्या आखिर कब तक बनी रहेगी इस पर कोई उचित कार्रवाई नहीं की जा रही है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar