National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

चैरिटेबल अस्पताल खोलने के लिए विदेशों से फंड दिलाने के लिए की करोड़ों की धोखाधड़ी

फरीदाबाद। भारत सरकार गृह मंत्रालय का संयुक्त सचिव बताकर चैरिटेबल हस्पताल खोलने के लिए विदेशों से 735 करोड रू0 का फंड दिलाने के नाम पर करोडों रू0 की धोखधडी करने वाले को गिरफ्तार किया है। सीआईए निरीक्षक सुरेश कुमार व साईबर सीआईए निरीक्षक जसबीर व उनकी टीम के एस.आई नरेश कुमार, ने संयुक्त रूप से सराहनीय कार्य करते हुए चैरिटेबल हस्पताल खोलने व विदेशो से 735 करोड रू0 का फंड दिलाने के नाम पर करोडो रू0 की धोखधडी करने वाले नकली संयुक्त सचिव को आर्थिक अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान सुवेंदु शेखर आचार्य उर्फ मातरू प्रसाद सेठी पुत्र श्री रमेश चन्द्र सेठी निवासी मकान नं0 41 नेहरू युवा केन्द्र वाली गली, वार्ड नं0 19, बनिया पाट थाना टाउन केन्दुझर, जिला केन्दुझर, उड़ीसा, उम्र 46 साल, शिक्षा 12वी कक्षा।

गौरतलब है कि 30 जनवरी, 2017 राकेश जैन निवासी सैनिक कालोनी, सैक्टर 49, फरीदाबाद ने एक शिकायत दी कि सुवेंदु शेखर आचार्य नाम के व्यक्ति ने अपने आप को गृह मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त सचिव होने का दावा करते हुए उसे चैरिटी के लिए विदेशी फंड दिलाने की बात कही और चैरिटेबल हस्पताल खोलने की मंजूरी व विदेशों से 735 करोड़ रू0 का फंड मजंूर होने के फर्जी दस्तावेज तैयार कर शिकायतकर्ता को सौंप दिए, जिसकी एवज में उसने शिकायतकर्ता व उसके जानकार बलबीर सिंह निवासी मथूरा से अलग-अलग समय पर अलग-अलग बैंक खातो में करीबन 1 करोड रू0 धोखाधडी से ले लिए और बाद में अपने फोन बंद कर अपने परिवार सहित फरार हो गया था जिसपर थाना एस.जी.एम नगर में दिनांक 14.03.17 को आई.पी.सी की धारा 419,420, 467,468,471 समेत मुकदमा दर्ज किया गया था। प्रभारी आर्थिक अपराध शाखा ने बताया कि मामले की तफतीश एस.आई नरेश कुमार को दी गई थी जो अनुसंधान में सामने आया कि आरोपी सुवेंदु शेखर उपरोक्त अपने आप को संयुक्त सचिव, एफसीआरए ब्रांच गृह मंत्रालय, भारत सरकार में कार्यरत बतलाकर विदेशी सहायता प्राप्त करने के इच्छूक एनजीओ/ट्रस्ट के पदाधिकारियों से संपर्क करता था। विदेशी फंड मंजूर होने के फर्जी दस्तावेज दिखाकर व अपना फर्जी पहचान पत्र दिखाकर लालबत्ती की गाड़ी का प्रयोग करते हुए लोगो को गुमराह करके धोखधडी करता था। विदेशी फंड मंजूर कराने, फाइल चार्ज, सर्विस चार्ज व अपने कमीशन इत्यादि की एवज में उपरोक्त आरोपी अपने दिए हुए भिन्न-भिन्न बैंक खातो में पैसे जमा करवा फोन बंद कर अपने परिवार के साथ फरार हो जाता था। जो आरोपी के खिलाफ पहले भी थाना बाडबिल, उड़ीसा व थाना हाईवे मथूरा, उश्ररप्रदेश में भी मुकदमें दर्ज है। आरोपी से वारदात में प्रयुक्त कार, चैक बुक व संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए है। आरोपियों को अदालत में पेश कर नीमका जेल में भेजा गया है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar