National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

छुट्टी नहीं मिलने से डिप्रेशन में था आरोपी, इसलिए मारी गोली

गुरुग्राम। हरियाणा के गुरुग्राम में हुए गोलीकांड में चौंकाने वाला सच सामने आया है। आरोपी कांस्टेबल डिप्रेशन में था। इसलिए उसने यह कदम उठाया। लेकिन जांच में एक और बात सामने आई है। आइए जानते हैं। हरियाणा के गुरुग्राम गनर की गोली से घायल जज की पत्नी की मेदांता अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है। वहीं जज के बेटे की हालत गंभीर बनी है। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कृष्णकांत शर्मा की सुरक्षा में तैनात गनमैन हेड कांस्टेबल ने बीच बाजार उनकी पत्नी और बेटे को गोली मार दी थी। वारदात के समय मां और बेटा सेक्टर 49 की पॉश आर्केडिया मार्केट में खरीदारी करने गए थे। मां को तीन और बेटे को दो गोली लगी थीं। पुलिस ने उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उनकी हालत नाजुक बनी थी। देर शाम आरोपी गनमैन महिपाल को फरीदाबाद रोड से गिरफ्तार किया है।
– क्या है मामला
पुलिस का कहना है कि हिसार के रहने वाले जज कृष्णकांत शर्मा की पत्नी रेणु (37) और बेटा ध्रुव (16) दोपहर करीब तीन बजे कार से मार्केट गए थे। गाड़ी गनमैन नांगल चौधरी निवासी महिपाल चला रहा था। जब वे खरीदारी करके लौटे तो महिपाल गुस्से में था। उसने अपनी सर्विस रिवाल्वर से सरेआम मां-बेटे पर गोली चला दी। रेणु को छाती में और ध्रुव को सिर में गोली लगी। चश्मदीदों ने बताया कि आरोपी ने एक हाथ में रिवाल्वर लेकर दूसरे हाथ से ध्रुव को गाड़ी में डालने का प्रयास किया। तीन बार कोशिश विफल रही तो वह उन्हें मौके पर ही छोड़कर कार लेकर फरार हो गया। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो रेणु और ध्रुव खून से लथपथ मिले। उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। शुरुआती जांच में पता कि आरोपी गनमैन मां-बेटे के बर्ताव से परेशान था और उन्हें सबक सिखाना चाहता था। आरोपी ने ही न्यायाधीश के परिवार के अन्य सदस्यों को फोन कर वारदात की जानकारी दी और मौके पर पहुंचने को कहा। ध्रुव की हालत को देखते हुए उसे मेदांता अस्पताल रेफर किया गया, जहां उसकी हालत चिंताजनक बनी हुई है। पुलिस उपायुक्त (ट्रैफिक) सुलोचना गजराज ने बताया कि महिपाल को गिरफ्तार कर लिया है। फोरेंसिक टीम को मौके पर बुलवाकर सबूत एकत्र किए हैं। आरोपी वारदात के बाद अपने दोस्तों के पास इस्लामपुर पहुंचा। उनसे जज के परिवार के साथ हादसे की बात कहकर उन्हें साथ चलने को कहा। जब वह सुभाष चौक की ओर चला तो उसने तेज रफ्तार में दो ऑटो को टक्कर मार दी। संदेह होने पर दोस्त रास्ते में उतर गए और पुलिस को सूचना दी। इसके बाद आरोपी को ग्वाल पहाड़ी के पास से दबोच लिया गया। आरोपी महिपाल पिछले चार-पांच दिनों से जज से छुट्टी मांग रहा था। छुट्टी नहीं मिलने से वह परेशान था। पुलिस का मानना है कि उसने डिप्रेशन में यह कदम उठाया हो।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar