National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

जयपुर में जीका वायरस से संक्रमित हुए सौ से अधिक लोग

जयपुर । राजस्थान के जयपुर में जीका वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार बुधवार को जीका से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 100 हो गई है। जीका वायरस का संक्रमण जिस गति से बढ़ रहा है, उससे देखते हुए प्रशासन सतर्क हो गया है। बुधवार को केंद्र ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की एक टीम यहां भेजी है, ताकि रोग पर नियंत्रण के उपायों में तेजी लाई जा सके। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रभावित 100 लोगों में 23 गर्भवती महिलाएं हैं। मच्छरों को मारने के लिए उपयोग में लाए जा रहे कीटनाशकों को बदलने के लिए आईसीएमआर के विशेषज्ञों की एक टीम जयपुर पहुंच गई है। जीका, डेंगू और चिकनगुनिया जैसे रोग मच्छरों के कारण फैलते हैं। घनी आबादी वाले शास्त्री नगर और सिंधी कैंप से नमूनों के तौर पर लिए गए कुछ मच्छरों में जीका वायरस मिले हैं।
जयपुर में जीका का असर इन्हीं इलाके में देखने को मिला है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) को रोजाना आधार पर मामलों की निगरानी करने का निर्देश दिया और लोगों से नहीं घबराने का आग्रह किया। स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने जीका वायरस की रोकथाम और नियंत्रण के कदमों की समीक्षा की खातिर एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। हालांकि, राहत की बात यह है कि जीका संक्रमण से पीड़ित मरीजों में से उपचार के बाद अधिकतर मरीजों का स्वास्थ्य ठीक है। राजपूत हॉस्टल के 84 छात्रों के खून और पेशाब के नमूने जांच के लिए गए। उनमें से 14 छात्रों को इलाज के लिए अलग वार्ड में भेजा गया। जयपुर में जीका संक्रमण के अधिकतर मामले शास्त्री नगर इलाके में पाए गए हैं। प्रभावित इलाकों में लगातार फॉगिंग और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लार्वा को नष्ट करने के उपाय किए जा रहे हैं। जीका वायरस से संक्रमित हर 5 में से 1 व्यक्ति में ही इसके लक्षण दिखते हैं। वायरस के शिकार लोगों में जॉइंट पेन, आंखें लाल होना, उल्टी आना, बेचैनी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। इसके शिकार कुछ ही मरीज को एडमिट करने की नौबत आती है। जीका वायरस के मरीज कंप्लीट बेड रेस्ट लें।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar