National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

जेबीटी अध्यापकों के आन्दोलन में कूदा सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा

फरीदाबाद। जेबीटी अध्यापकों के आन्दोलन का समर्थन करते हुए सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने आज जिला मुख्यालय पर प्रधान अशोक कुमार की अध्यक्षता में जोरदार प्रदर्शन किया और जिला उपायुक्त को माननीय मुख्यमन्त्री के नाम ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर मुख्य रुप से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संगठन सचिव ललित भड़ाना एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अनीशपाल आदि मौजूद थे। उन्होंने शिक्षा विभाग से टर्मिनेट किए गए 1259 अध्यापकों को वापिस ड्य़ूटी पर लेने की मांग की और कहा कि अपनी सेवा बहाली की मांग  को लेकर 1259जेबीटी अध्यापक पिछले 29 दिनों से करनाल उपायुक्त कार्यालय पर धरने पर बैठे हैं। जिनमें से 6 अध्यापकों की हालत काफी चिंताजनक है, जिनमें से एक बेटी भी है। उनका वजन लगातार घट रहा है, किसी भी समय कोई अनहोनी घटना घट सकती है। मगर बावजूद इसके सरकार उनके प्रति बिल्कुल भी सचेत नहीं है, सरकार के रवैये  से प्रदेश के कर्मचारियों में भारी आक्रोश है। प्रधान अशोक कुमार ने सरकार को चेताते हुए कहा कि यदि इनके साथ कोई अनहोनी हो गई तो, प्रदेशव्यापी कर्मचारियों के बड़े आन्दोलन के लिए सरकार तैयार रहें। गौरतलब है की 14 अगस्त, 2014 को सरकार द्वारा 9455 जेबीटी अध्यापकों की प्रथम सूची जारी की गई। इस सूची में वर्ष 2011 में पात्रता परीक्षा पास अध्यापक चयनित किए गए, जिनकी योग्यता  विज्ञापन की तिथि 8 दिसम्बर 2012 से पहले की थी। हरियाणा सरकार ने वर्ष 2013 में पात्रता परीक्षा आयेाजित की गई और 2013 में पात्रता पास अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट में अपील दायर की, कि हमें भी 2012 में निकाली गई भर्ती में शामिल किया जाए। आज ये लोग सडक़ों पर धक्के खाने को मजबूर हैंं तथा आर्थिक व सामाजिक रूप से परेशान हैं। इन १२५९ में से २ अध्यापकों की मौत भी हो चुकी है तथा इनके परिवार की भूखे मरने की नोबत आ गई है। प्रदर्शनकारी नेताओं सतपाल नरबत, हुडा के खुर्शीद अहमद, टूरिज्म के डिगम्बर डागर, अध्यापक नेता राजसिंह व भीम सिहं, रोडवेज के रविन्द्र नागर, सर्व कर्मचारी संघ के जिला सहसचिव धर्मवीर वैष्णव, ब्लाक प्रधान परमाल सिंह, उपप्रधान करतार सिंह जागलान, सचिव टीका राम, बिजली नेता शब्बीर अहमद, रमेश चन्द्र ने सरकार को चेतावनी दी की करनाल में अनशन पर बैेठे अध्यापको को जल्द नौकरी पर वापिस नहीं लिया तो, आन्दोलन विकराल रूप धारण करेगा।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar