न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

दिल्ली के खाने, कला और यादों का स्वाद,रोहन,मोहित,हर्ष के साथ

नई दिल्ली। देश की राजधानी होने के कारण दिल्ली को राजनीतिक का गढ़ माना जाता है, लेकिन सत्ता के इन गलियारो में रणनीति के पकने के अलावा, यह शहर हमारे अंदर कई तरह की अन्य भावनाएं भी जगाती हैं। दिल्ली टाइम्स के  कैम्पेन के साथ अभिनय की दुनिया के तीन उभरते कलाकारों ने बताया कि कैसे वह अपने पसंदीदा शहर के साथ फ्लर्ट करते हैं। टेलीविजन अभिनेता रोहन गंडोत्रा ने बताया कि उन्हें शहर के ट्रेडमार्क फूड के साथ फ्लर्ट करना पसंद आता है। उन्होंने शहर की कुछ पसंदीदा चीजों के बारे में बताते हुए कहा, ‘‘जी ललचाने वाली लस्सी को बड़े ही शाही अंदाज में कुल्लड़ में परोसा जाता है, साथ ही साथ साकेत में मिलने वाला मिर्ची का पकोड़ा मेरा पसंदीदा है! खासतौर से दिल्ली के बढ़ते पारे में लस्सी अक्सर वह तासीर दे जाती है।’’‘आई एम कलाम’ फिल्म के लिये काफी तारीफें पाने के साथ-साथ सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार का राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने वाले, हर्ष मायर खाना बनाने के शौक से कला का स्वाद चखने की ओर रुख कर रहे हैं। वह कहते हैं, ‘‘मैंने मंडी हाउस में थियेटर वर्कशॉप का आयोजन किया था। आपको कला का ज्यादातर नजारा मंडी लेन में ही मिल सकता है, जहां कोई स्केचिंग कर रहा होता है तो कोई गिटार बजा रहा होता है। मैंने यह देखा है कि किसी भी अन्य शहर की तुलना में कला के प्रति दिल्ली का झुकाव ज्यादा है। इसके साथ ही यह बाकी शहरों की तुलना में ज्यादा सस्ता भी है। एक थियेटर प्रेमी होने के कारण, मुझे हमेशा एनएसडी में नाटक देखने का इंतजार रहता है और जब मैं भारत रंग (एनएसडी में होने वाला थियेटर फेस्टिवल) में हिस्सा लेता हूं तो मैंने देखा है कि समाज के हर तबके के लोग एक साथ इसे देखने आते हैं। थियेटर से जुड़े ज्यादातर लोग दिल्ली से ताल्लुक रखने वाले होते हैं।’’अपनी बात रखते हुए और अपनी यादों के बारे में बात करते हुए जाने-माने टेलीविजन अभिनेता, मोहित रैना कहते हैं कि उन्हें अक्सर अपने बचपन की याद आती है, जब वह दिल्ली में रहा करते थे। वह कहते हैं, ‘‘स्कूल के दिनों में मैं सातवीं क्लास से नौंवी क्लास तक जनकपुरी में रहता था। मैं जब भी अपने स्कूल के बारे में सोचता हूं मुझे लगता है काश मैं अपने स्कूल जा पाता। लेकिन जब भी मैं दिल्ली जाता हूं, मैं हमेशा उन दुकानों पर रुकता हूं, जहां मैं अपने परिवार के साथ जाया करता था।’’

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar