National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

 दिल्ली पुलिस के एएसआई ने बचाई युवक की जान, हमलावर गिरफ्तार

नई दिल्ली । दिल्ली पुलिस के जवान की इंसानियत की वजह से एक शख्स की जान बच गई। गोविंदपुरी थाने में तैनात एक एएसआई ने समय रहते जख्मी युवक को अस्पताल पहुंचाया, जिससे उसकी जंदगी बच गई। पुलिस को पेट्रोलिंग के दौरान जख्मी युवक मिला था। डॉक्टरों ने कहा कि अगर थोड़ी देर और हो जाता तो उसकी जान को बचाना मुश्किल हो जाता। दिल्ली पुलिस का कहना है की जख्मी युवक खून से लथपथ गंभीर हालत में मिला था, जिसे देख एसआई अजीत सिंह ने पहले तो कपड़े की मदद से उसका मौके पर ही खून रोका और फिर अस्पताल ले गया। डॉक्टर ने कहा कि अगर इस घायल के आने में पांच मिनट की देरी हो जाती तो उसकी मौत हो सकती थी। पुलिस ने उसपर हमला करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने घायल पर हुए जानलेवा हमले के बारे में पूछताछ किए जाने के बाद इस बारे में न केवल मामला दर्ज किया बल्कि आरोपी को भी धर दबोचा। पुलिस ने कहा की पीड़ित और आरोपी दोनों ही एक साथ काम करते हैं और रुपये के खातिर हुए विवाद के बाद एक ने दूसरे पर बोतल से वार कर दिया था।
– क्या है मामला
साउथ-ईस्ट के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल का कहना है कि 6 अक्टूबर की रात 11 बजे पॉकेट, चार कालकाजी एक्सटेंशन में एएसआई अजीत सिंह बाइक से गश्त पर थे। उस दौरान उनकी नजर एक सुनसान जगह के पार्क में एक युवक पर पड़ी। वह बाइक से उतरकर मौके पर गए जहां एक युवक खून से लथपथ हालत में पड़ा था। युवक के गले और सिर से खून बह रहा था। यह देख अजीत ने कपड़े की मदद से खून को किसी तरह रोका फिर मौके पर एसएचओ कुलदीप सिंह को मामले की जानकारी देकर उन्हें बुलाया। इसके बाद दोनों मिलकर घायल को इलाज के लिए एम्स ले गए, जहां उसका इलाज किया गया।
घायल ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि उस पर कबीर ने हमला किया है। पुलिस ने इस मामले में हत्या की कोशिश का मामला दर्ज करते हुए आरोपी को धर दबोचा। पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए गोंविदपुरी और कालकाजी इलाके के वोटर लिस्ट से कबीर नाम के लोगों का पता निकालकर गहन छानबीन की। पुलिस को जांच में पता चला कि दोनों पेंटर का काम करते हैं और घटना वाले दिन नोएडा में काम करके आने के बाद इनके बीच विवाद हुआ था। इसी विवाद में कबीर ने अपने दोस्त पर हमला कर फरार हो गया था।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar