न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

धनतेरस पर बाजार रहे गुलजार, उम्मीद के अनुसार नहीं हुई खरीददारी

मनोज तोमर/विजय न्यूज ब्यूरो

फरीदाबाद। धनतेरस के पावन पर्व पर आज बल्लभगढ़ शहर के बाजारों में बर्तनों की दुकानें गुलजार रही और सुबह तडक़े ही दुकानदारों ने अपनी दुकानें खोलकर ग्राहकों के आने की प्रतीक्षा करनी शुरु कर दी है। हालांकि जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, दुकानों पर ग्राहकों का जमावड़ा होने लगा और सायं ढलते-ढलते बाजारों में दुकानदारों पर लोगों को काफी भीड़ भी नजर आई। धनतेरस के दिन लोग स्टील एवं पीतल के बर्तनों को खरीदना शुभ मानते है और इस त्यौहार का बर्तन विक्रेता भी पूरे सालभर इंतजार करते है। धनतेरस पर्व को लेकर आज जहां बाजारों में खूब रौनक देखने को मिली वहीं बाजार में मंदी का असर भी साफ दिखाई दिया। नोटबंदी व जीएसटी को लेकर बाजार में आई मंदी के बावजूद  स्टील एवं पीतल के बर्तन खरीदने के लिए दुकानों पर लोगों की भीड देखने को मिली। स्टील के बर्तनों के साथ अन्य कई नई-नई चीजों की खरीदारी मुख्य रूप से हुई। हालांकि मंदी के चलते लोगों ने केवल औपचारिकता के लिए ही खरीदारी की, जबकि धनतेरस के मौके पर दुकानदारों को खाना खाने तक की भी फुर्सत नहीं मिलती थी परंतु इस बार बाजार में ग्राहकों का वो हजूम नहीं देखा गया, जो पिछले वर्षाे नजर आता था। बर्तन विक्रेताओं के साथ-साथ ज्वैलर्स की दुकानों पर भी सोने-चांदी के आभूषण खरीदने के लिए लोगों ने रुचि दिखाई। त्योहारी सीजन के चलते कई दिनों से सोने के दाम भी बढ़ रहे हैं। गत दिवस सराफा बाजार में सोने के दाम 30800 रुपये प्रति दस ग्राम थे, जबकि पिछले हफ्ते 30500 रुपये प्रति दस ग्राम थे। सर्राफा व्यापारियों के अनुसार धरतेरस पर उन्हें अच्छे कारोबार की उम्मीद थी परंतु कारोबार उम्मीद अनुसार नहीं हुआ। उन्हें उम्मीद थी कि इस दिन लोग सोना-चांदी खरीदना शुभ मानेत है और मंदी की चपेट में चल रहे उनके कारोबार उठेंगे पर ऐसा नहीं हुआ। इसी तरह बाजारों में कपड़ा, इलेक्ट्रानिक तथा आटोमोबाइल मार्केट में धनतेरस के मौके पर काफी सजीधजी नजर आई। हालांकि जीएसटी व नोटबंदी के चलते बाजार में मंदी की मार साफ नजर आई। व्यापारियों का कहना है कि पहले स्टील पर 12 फीसद बिक्री कर लगता था। अब जीएसटी 18 फीसद है। बहुत से लोग बिना बिल के भी खरीदारी करते होंगे। अब जीएसटी लगने से स्टील के बर्तनों के दाम बढ़ हैं। ऐसे ही क्रॉकरी के दामों में भी पिछले वर्ष की तुलना में 5 फीसद इजाफा हुआ है। भारतीय साहित्यकार संघ के अध्यक्ष डा. वेद व्यथित का कहना है कि ङ्क्षहदू धर्म में दिवाली का पर्व बहुत ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इस पर्व के पहले कई पर्व आते है। धनतेरस भी एक है, जो छोटी दीवाली से एक दिन पहले मनाया जाता है। इस दिन लोग खरीदारी करना शुभ माना जाता है। धनतेरस आयुर्वेद के देवता की जयंती से जुड़ा है। इस दिन लक्ष्मी तथा कुबेर की पूजा की जाती है। इधर दिवाली की तैयारियों के लिए बल्लभगढ़, एनआइटी फरीदाबाद तथा सराय ख्वाजा के परंपरागत बाजारों में लोग खरीदारी में जुटे नजर आए। इनके अलावा मॉल्स के स्टोर में भी आम दिनों की अपेक्षा ज्यादा खरीदारी हुई। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष जीएसटी के चलते स्टील तथा क्रॉकरी के दाम बढ़े हैं। विक्रेताओं का कहना है कि धनतेरस के दिन बाजार में उपभोक्ता आए परंतु उनके अनुमान के हिसाब से खरीददारी नहीं हुई। 

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar