न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

नगर पालिका चेयरमैन के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज

झुंझुनू। जिले की खेतड़ी नगर पालिका के चेयरमैन उमराव सिंह कुमावत के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव आज खारिज हो गया। बुधवार सुबह से ही नगरपालिका के सामने गहमागहमी का माहौल रहा। पुलिस उपाधीक्षक वीरेंद्र कुमार मीणा के नेतृत्व में पुलिस व्यवस्था चाक.चौबंद की गई। खेतड़ीए खेतड़ी नगर तथा आर ए सी का जाब्ता नगरपालिका के सामने मौके पर तैनात रहा। सुबह 10 बजे उपखंड अधिकारी संजय कुमार वासु की अध्यक्षता में बैठक प्रारंभ हुई। बैठक में अधिशासी अभियंता पुरुषोत्तम अवस्थी सहित कई अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे ।11 बजे तक नगर पालिका अध्यक्ष उमराव सिंह और वार्ड नंबर 10 के पार्षद जगदीश चनानिया के अलावा एक भी पार्षद नगर पालिका में उपस्थित नहीं हुआ और ना ही किसी प्रकार का पार्षदों द्वारा विरोध हुआ। 11 बजे के बाद कोरम के अभाव में पूरी कार्रवाई निरस्त मानी गई। गौरतलब है कि झुंझुनू कलेक्टर दिनेश यादव के समक्ष 8 जुन को 15 पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत किया था। 18 जून को अविश्वास प्रस्ताव को वापस भी ले लिया था ।लेकिन कलेक्टर ने पहले उस पर कार्यवाही करते हुए अविश्वास प्रस्ताव के लिए बैठक हेतु आदेश पारित कर दिया था । खेतड़ी उपखंड अधिकारी संजय कुमार वासु की अध्यक्षता में नगर पालिका में बैठक का आयोजन किया गया लेकिन कोरम पूरा नहीं होने के कारण बैठक निरस्त कर दी गई। पूरे घटनाक्रम के बारे में बोलते हुए नगर पालिका अध्यक्ष उमराव सिंह ने कहा कि सभी पार्षद हमेशा मेरे साथ थे। 3 वर्ष के कार्यकाल में हर बात पर पार्षदों ने सहमति जताई अन्यथा नगर पालिका द्वारा एक भी काम पूर्ण नहीं हो पाता । सिंह ने कहा कि कई पूर्व चेयरमैनो ने मेरे खिलाफ षड्यंत्र रच कर कुछ पार्षदों को बहकाकर मेरे खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया। उनका मकसद यही था कि वह मुझसे आर्थिक लाभ लें और अपने निजी काम करवाएं लेकिन मैंने कभी उनको अहमियत नहीं दी तो षड्यंत्र रच कर मेरे खिलाफ पूरा प्रकरण किया। यदि पार्षद मेरे साथ नहीं होते तो नगर पालिका के सभी काम सर्वसम्मति से पास नहीं होते इस सारे प्रकरण के बाद अब एक बार फिर पूरी नगरपालिका नई ऊर्जा के साथ काम करेंगी और कस्बे का कई योजना के तहत सौंदर्यकरण किया जाएगा। असंतुष्ट खेमे की मुखिया नगरपालिका उपाध्यक्ष शशि सैनी ने प्रशासन पर अविश्वास प्रस्ताव की अनदेखी करने का आरोप लगाया । उन्होंने कहा जानबूझकर प्रशासन ने अविश्वास प्रस्ताव की बैठक बुलाने की देरी की है। पालिका उपाध्यक्ष ने नगर पालिका पर व्यापक तौर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि यह जीत नगर पालिका चेयरमैन की नहीं प्रशासन की जीत है। सभी पार्षद और ग्रामीण इस भ्रष्टाचार की वजह से काफी परेशान है। हमने 8 जुलाई को झुंझुनू कलेक्टर के समक्ष अविश्वास प्रस्ताव रखा लेकिन प्रशासन ने दबाव में आकर कोई कार्यवाही नहीं की। इसके लिए हमने हाई कोर्ट में भी याचिका दायर की है। जिसमे पूरी कार्यवाही को निरस्त करने की मांग की है। जिसकी पुष्टि उपखंड अधिकारी संजय कुमार वासु ने भी की है। वासु ने बताया की ईमेल पर इस तरह की याचिका लगाने की सूचना पहुंची है लेकिन अविश्वास प्रस्ताव की कार्यवाही पर कोई रोक नहीं लगाई गई है। जिससे यह पूरी कार्रवाई संपन्न करवा दी गई है। खेतड़ी नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ 8 जुन को पालिका की उपाध्यक्ष श्रीमती शशि सैनी की के नेतृत्व में कुल 15 पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव झुंझुनूं कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत किया था लेकिन सूत्रों की जानकारी के अनुसार वार्ड नंबर 20 के पार्षद योगेश सैनी तथा वार्ड नंबर 4 के पार्षद सविता छबलानी विरोधी खेमे को छोड़कर नगरपालिका अध्यक्ष उमराव सिंह के पक्ष में आ गए और बुधवार को अविश्वास प्रस्ताव की बैठक में स्वयं नगर पालिका अध्यक्ष और वार्ड नंबर 10 के पार्षद जगदीश चनानिया को छोड़कर एक भी पार्षद नगर पालिका में उपस्थित नहीं हुआ और नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ आया हुआ है अविश्वास प्रस्ताव खारिज हो गया।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar